Software क्या है? पूरी जानकारी

कंप्यूटर दो भाग हार्डवेयर और सॉफ्टवेयर से मिलकर बना एक इलेक्ट्रॉनिक उपकरण है। कंप्यूटर के भौतिक बनावट को हार्डवेयर कहते हैं। हार्डवेयर के अंतर्गत डाटा इनपुट के लिए प्रयुक्त कंप्यूटर तथा उससे जुड़े सभी साधन है।

सॉफ्टवेयर क्या है?

सॉफ्टवेयर, प्रोग्रामिंग भाषा द्वारा लिखे गये निर्देशों की श्रृंखला है। जिसके अनुसार दिये गए डेटा का Process होता है। इसका प्राथमिक उद्धेश्य डाटा को सुचना में परिवर्तित करना है। सॉफ्टवेयर के निर्देशों के अनुसार ही हार्डवेयर भी कार्य करता है। हार्डवेयर और सॉफ्टवेयर के बीज संचार स्थापित करने को Interface कहते हैं।

सॉफ्टवेयर, प्रोग्रामिंग भाषा;जैसे:- सी, सी++, जावा आदि से बनाया जाता है। इन प्रोग्रामों को लिखने वाले और उनका परीक्षण करने वाले ब्यक्तियों को प्रोग्रामर कहते हैं।

सॉफ्टवेयर के प्रकार

कंप्यूटर से कुछ भी काम करने के लिए हमें सॉफ्टवेयर की जरूरत पड़ती है। बिना सॉफ्टवेयर के कंप्यूटर कोई कार्य नहीं कर सकता है। हम कम्प्युटर का उपयोग विभिन्न कामों के लिए के लिए करते हैं. और ये सभी प्रकार के काम केवल एक सॉफ्टवेयर की मदद से नही किये जा सकते हैं। इसलिए काम की जरुरत के हिसाब से सॉफ्टवेयर को मुख्य दो वर्गो में बाँटते हैं।

  1. सिस्टम सॉफ्टवेयर (System Software)
  2. अनुप्रयोग सॉफ्टवेयर (Application Software)
  3. प्रोग्रामिंग सॉफ्टवेयर (Programming Software)

1. सिस्टम सॉफ्टवेयर क्या है?

सिस्टम सॉफ्टवेयर कंप्यूटर के मूल कार्यो को संभालते हैं। सिस्टम सॉफ्टवेयर का मुख्य कार्य हार्डवेयर घटकों को मैनेज एवं नियंत्रित करना है ताकि एप्लीकेशन सॉफ्टवेयर अपना काम ठीक तरह से कर सके। सिस्टम सॉफ्टवेयर ही हार्डवेयर में जान डालता है। ऑपरेटिंग सिस्टम, लोडर, डिवाइस ड्राइवर, ट्रान्सलेटर आदि सिस्टम सॉफ्यवेयर के मुख्य भाग हैं।

2. अनुप्रयोग सॉफ्टवेयर क्या है?

एप्लीकेशन सॉफ्टवेयर यह एक ऐसा प्रोग्राम होता है, जो हमारे कंप्यूटर पर आधारित कामों को करने के लिए उपयोग किए जाते हैं। आवश्यकतानुसार भिन्न-भिन्न उपयोगों के लिए भिन्न-भिन्न सॉफ्टवेयर होते हैं। वेतन की गणना, लेन-देन का हिसाब, वस्तुओं का स्टाक रखना, बिक्री का हिसाब लगाना आदि कामों के लिए लिखे गए प्रोग्राम ही एप्लीकेशन सॉफ्टवेयर कहे जाते हैं।

उपयोगिता के आधार पर अनुप्रयोग सॉफ्टवेयर दो प्रकार के होते है:

  1. विशेष अनुप्रयोग सॉफ्टवेयर (Special Application Software) :- यह किसी विशेष कार्य को करने में सक्षम होता है। जैसे :- मौसम विज्ञान, वायुयान नियंत्रण, टिकट आरक्षण आदि के लिए विशेष अनुप्रयोग सॉफ्टवेयर उपयोग होता है।
  2. समान्य अनुप्रयोग सॉफ्टवेयर (General Function Application Software) :- इसे अनेक उपयोगकर्ता उपयोग कर सकते हैं। जब आवश्यकता बहुत समान्य सी होती है, तब अनुप्रयोग पैकेज भी प्रयोग किया सकता है।

कुछ समान्य अनुप्रयोग पैकेज निम्न हैं:

a) इलेक्ट्रॉनिक स्प्रेडशीट (Electronic Spreadsheet) :- यह स्क्रीन पर संख्या को टेबल के रुप में प्रकट करने में सक्षम होता है। तथा उसकी गणना कर सकता है। उन संख्याओं को ग्राफ तथा चार्ट के रुप में भी व्यक्ति कर सकते हैं। जैसे- एम.एस एक्सल, के-स्प्रेड आदि।

b) वर्ड प्रोसेसर (Word Processor) :- यह कंप्यूटर स्क्रीन पर दस्तावेज तैयार करने में सहायता करता है। उस दस्तावेज को रूपान्तरित, संग्रहीत तथा प्रिन्ट किया जा सकता है। जैसे- Word Star, Word Pad, MS-Word आदि।

c) कंप्यूटर ग्राफिक्स (Computer Graphics) :- इस प्रोग्राम को डिजाइन, ग्राफ और चार्ट बनाने तथा संशोधन करने के लिए उपयोग किया जाता है। जैसे- CAD, CAM आदि।

d) डेस्कटॉप पब्लिशिंग (Desktop Publishing) :- कम किमत पर अच्छी गुणवत्ता के साथ प्रकाशन के लिए DTP सॉफ्टवेयर प्रयोग किया जाता है। यह इनपुट, वर्ड प्रोसेसर या सीधे DTP सिस्टम ले लेता है और इसमे इलेक्ट्रॉनिक रुप से ग्राफिक्स जोड़कर पेज पुरा किया जाता है। फिर उच्च रिजोल्यूशन आउटपुट यंत्र से प्रिंट कर लिया जाता है। जैसे – पेज मेकर, एम.एस पब्लिशर आदि।

e) डेटाबेस मैनेजमेंट सिस्टम या डेटाबेस सॉफ्टवेयर (Database Management System Or Database Software) :- इस सिस्टम के अंतर्गत जो भी डेटा हम कंप्यूटर में स्टोर करना चाहते हैं, उसे इनपुट करने, परिवर्तन करने, क्रमबद्ध करने तथा रिपोर्ट तैयार करने की सुविधा देता है। यह डेटा का सुनियोजित रिकॉर्ड रखने में सक्षम होता है। जैसे – एम.एस एक्सल आदि।

f) रिपोर्ट जेनरेटर (Report Generator) :- यह डेटाबेस से डेटा लेकर प्रयोक्ता के आवश्यकता अनुसार विभिन्न तरह के रिपोर्ट तैयार करता है। जैसे – RPG

g) एकाउंटिंग पैकेज (Accounting Package) :- इस प्रोग्राम के उपयोग से वित्तीय लेखांकन, बैंक खाता, स्टॉक, आय और व्यय का लेखा-जोखा सरलता से होता है।

h) प्रस्तुति सॉफ्टवेयर (Presentation Software) :- इसका उपयोग शब्दो और चित्रो को सजाकर कहानी कहने, सार्वजनिक प्रस्तुति या सुचना देने में होता है। जैसे – पावर प्वाइंट, पेज मिल आदि। प्रस्तुति सॉफ्टवेयर को प्रस्तुति ग्राफिक्स भी कहते हैं।

1.प्रोग्रामिंग सॉफ्टवेयर क्या है?

यह आमतौर पर कंप्युटर प्रोग्राम लिखने में प्रोग्रामर की मदद करने के लिए उपकरण प्रदान करता है; जैसे – टेक्स्ट इडीटर, कम्पाइलर, डि-बगर, इन्टरप्रेटर आदि।

प्रोग्राम में त्रुटि होने पर गलत या अनुपयुक्त परिणाम उत्पन्न होते हैं उसे बग कहते हैं। सॉफ्टवेयर कोड में बग ढूँढने की प्रक्रिया को डीबगिंग कहते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to top
error: Content is protected !!