विज्ञापन क्या है? इसके प्रकार, उद्देश्य, कार्य और लाभ

क्या आप जानते हैं कि विज्ञापन क्या होता है? इस लेख में हमने विज्ञापन क्या है विज्ञापन की भाषा पर विचार व्यक्त कीजिए गए हैं। जिसमें बताया गया है कि विज्ञापन क्या है, विज्ञापन के प्रकार, विज्ञापन के उद्देश्य, विज्ञापन के कार्य, विज्ञापन के लाभ क्या है। इसलिए अगर आपको विज्ञापन की जानकारी नहीं है। लेकिन आप जानना चाहते हैं कि विज्ञापन क्या होता है। तब इस लेख को जरुर पढ़ें। आमतौर पर विज्ञापन की जानकारी सभी लोगों को रखनी चाहिए। क्योंकि आज विज्ञापन सभी क्षेत्रों में उपयोग किया जाता है। या फिर जरुरत बन गया है।

आप किसी भी क्षेत्र में चले जाओ। वहाँ भी आपको विज्ञापन की जरूरत होगी। क्योंकि आज किसी भी काम-काज को शुरू करने के लिए विज्ञापन की आवश्यकता होती है। अगर आप किसी प्रकार का व्यापार (Business) या फिर कोई Products शुरू करना चाहते हैं। तब आपको इसमें भी विज्ञापन की आवश्यकता होगी। इसलिए मैं कहता हूँ कि विज्ञापन की जानकारी सभी को रखनी चाहिए। अगर आप एक Student हैं। या फिर आगे चलकर कोई व्यापार कर सकते हैं। तब आपको विज्ञापन की अच्छी जानकारी होनी चाहिए। यहाँ हमने विज्ञापन को आसान भाषा में समझाया है।

इसे समझना मुश्किल बिलकुल भी नहीं है। इसलिए अगर आप विज्ञापन के बारे में जानना चाहते हैं। या फिर विज्ञापन के बारे में समझना चाहते हैं। तब आप इस लेख को पढ़कर विज्ञापन को अच्छे से समझ सकते हैं। क्योंकि यहाँ हमने विज्ञापन की पूरी जानकारी बताया है। इसे पढ़ने के बाद विज्ञापन को आप पूरी तरह से जरूर समझ जाओगे। तो चलिए जानते हैं कि विज्ञापन क्या है? इसके प्रकार, उद्देश्य, कार्य, लाभ और हानि…

विज्ञापन क्या है? (What is Advertisement in Hindi)

विज्ञापन एक प्रकार का जनसंचार है। जिसका उद्देश्य किसी Products की ओर लोगों को आकर्षित करना और बिक्री को बढ़ाना होता है। इसके जरिए Company और Institute की Popularity भी बढ़ाया जाता है। विज्ञापन को अंग्रेजी में Advertisement तथा संक्षेप में AD लिखते/बोलते हैं।

अर्थात यह एक ऐसा माध्यम है। जिसमें उत्पाद (Products) या सेवा (Services) के गुणवत्ता के बारे में लोगों को बताया जाता है। ताकि उपभोक्ता इसकी तरफ आकर्षित हो सके और उसे खरीद सके। उपभोक्ता को आकर्षित करने के लिए विज्ञापन को अनोखे रुप में और चतुराई से प्रस्तुत किया जाता है। जो उपभोक्ता को आकर्षित करने में सफल होता है। इसके बाद Products या Services की बिक्री बढ़ जाती है। इसलिए विज्ञापन भी ऐसी जगह या Platform पर किया जाता है। जहाँ से इसे बहुत सारे लोगों तक पहुंचाया जा सके। जैसे; TV, Newspapers, Internet आदि। आज Internet विज्ञापन कराने का सबसे बड़ा और प्रमुख Platform बनकर उभरा है। जिसमें Social Media सबसे प्रमुख भूमिका निभाता है।

आमतौर पर विज्ञापन को लोगों तक Posters, Videos और Announcements आदि के द्वारा पहुंचाया जाता है। यह एक प्रकार का Selling Art होता है। जब कोई नया उत्पाद, सेवा या वस्तु बनाया जाता है। तब उसकी बिक्री (Sale) को बढ़ाने के लिए विज्ञापन कराना जरूरी होता है। विज्ञापन कराने से उस उत्पाद, सेवा या वस्तु की जानकारी लोगों तक पहुंच जाती है। जिसके बाद जिसको वह उत्पाद, सेवा या वस्तु की जरूरत होगी। वह खुद अपने आस-पास के Shop से खरीद लेगा। कहने का मतलब है कि विज्ञापन वस्तु Promote करने का सबसे आसान और कारगर तरीका है। आज विज्ञापन के जरिए किसी भी वस्तु की जानकारी घर-घर तक पहुंचा सकते हैं। जिसमें सबसे बड़ा योगदान टीवी और इंटरनेट का होता है।

सुबह उठने के बाद Newspapers, Magazines या TV खोलते ही कई तरह के विज्ञापन देखने को मिलता है। इसी तरह हर एक व्यक्ति को प्रत्येक दिन हजारो विज्ञापन देखने को मिलता है। क्योंकि आज कल सड़क, मॉल, हॉल, घर, टीवी, सोशल मीडिया, किताब, समाचारपत्र इत्यादि सभी में विज्ञापन देखने को मिलता है। आपने टीवी में विज्ञापन जरूर देखा होगा। टीवी में चल रहे किसी भी शो के दौरान छोटा सा Break आता है। जिसमें किसी अन्य वस्तु की जानकारी बताया जाता है। इसी तरह इंटरनेट चलाते समय किसी अन्य प्रकार का सूचना दिखना। Newspaper के बीच में किसी अन्य प्रकार की जानकारी। या फिर YouTube विडियो के बीच में अन्य वीडियो का चलना। ये सभी विज्ञापन का ही उदाहरण है।

जरुर पढ़ें:-

विज्ञापन के प्रकार (Types of Advertising in Hindi)

क्या आप जानते हैं कि विज्ञापन कितने प्रकार के होते हैं। यदि आप स्मार्टफोन और इंटरनेट का इस्तेमाल करते हैं। तब आपने इंटरनेट सर्फिंग करते वक्त या YouTube पर विडियो देखते वक्त विज्ञापन जरूर देखा होगा। या फिर विज्ञापन टीवी में भी देखने को मिलता है। इसी तरह विज्ञापन को कई माध्यम से देख सकते हें। विज्ञापन को देखने के अनुसार बहुत सारे प्रकार में बांटा जाता है। चलिए विज्ञापन के अन्य प्रकार को जानते हैं।

1. टीवी विज्ञापन

टीवी के द्वारा किया गया जनसंचार टीवी विज्ञापन कहलाता है। आप सभी लोग टीवी विज्ञापन से परिचित होंगे। टीवी पर चलने वाले Serials, Reality Show, Movies, News, Cricket आदि के बीच-बीच में बहुत सारे विज्ञापन देखने को मिलता है। टीवी पर ज्यादा विज्ञापन दिखाना एक तरह से Irritating तो होता है। लेकिन विज्ञापनदाताओं के लिए फायदेमंद होता है। क्योंकि टीवी विज्ञापन अन्य विज्ञापन की तुलना में ज्यादा असरदार होता है।

2. रेडियो विज्ञापन

रेडियो के द्वारा किया गया विज्ञापन रेडियो विज्ञापन कहलाता है। आर्बिट्रान नामक संस्था के अनुसार अमेरिका के 93% जनसंख्या रेडियो का इस्तेमाल करती है। इसके अनुसार रेडियो विज्ञापन अभी जनसंचार का अच्छा माध्यम है।

3. ऑनलाइन विज्ञापन

इंटरनेट के माध्यम से किया गया विज्ञापन ऑनलाइन विज्ञापन कहलाता है। ऑनलाइन विज्ञापन वेबपेज या ऑनलाइन विडियो के बीच में दिखाया जाता है। इंटरनेट विज्ञापन करने का सबसे अच्छा तरीका और माध्यम बन चुका है। क्योंकि विज्ञापन वहाँ किया जाता है। जहाँ Public ज्यादा होती है। आजकल सबसे ज्यादा Public इंटरनेट पर ही होती है। ऑनलाइन विज्ञापन में सोशल मीडिया महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।

4. छाप विज्ञापन

जिस विज्ञापन को समाचार-पत्रों, पत्रिका आदि के द्वारा प्रकाशित किया जाता है। उसे छाप विज्ञापन कहते हैं। आजकल समाचारपत्र पढ़ने के मामले में गिरावट देखा गया है। क्योंकि लोगों को पढ़ने से ज्यादा देखना पसंद होता है। लेकिन फिर भी छाप विज्ञापन जनसंचार का अच्छा माध्यम है।

5. बिलबोर्ड विज्ञापन

बड़े-बड़े बोर्ड के द्वारा किया गया जनसंचार बिलबोर्ड विज्ञापन कहलाता है। आपने बिलबोर्ड विज्ञापन को किसी सार्वजनिक स्थान, मॉल या हॉल के पास जरूर देखे होंगे। इसे अक्सर सड़को के किनारे लगाया जाता है।

6. दुकान विज्ञापन

जिस विज्ञापन को दुकान के अंदर लगाया जाता है। उसे दुकान विज्ञापन कहते हैं। इसे अक्सर मॉल या बड़े-बड़े दुकान के अंदर लगाया जाता है। इस विज्ञापन को इन स्टोर विज्ञापन भी कहते हैं।

7. हवाई विज्ञापन

विमान या फिर हवाई गुब्बारे के द्वारा किया गया जनसंचार हवाई विज्ञापन कहलाता है।

विज्ञापन का उद्देश्य (Purpose of Advertising in Hindi)

आमतौर पर विज्ञापन का उद्देश्य वस्तु की बिक्री बढ़ाने के साथ ब्रांड बिल्डिंग, ग्राहक बढ़ाना और मांग भी बढ़ाना होता है। लेकिन प्रत्येक विज्ञापन तीन प्रमुख उद्देश्य पर चलाया जाता है। जो कि निम्नलिखित है।

1. सूचित करना

जब कोई Products या Services शुरू होती है। तब शुरुआत में किसी को पता नहीं होता है। इसलिए उसका इस्तेमाल कोई नहीं करता है। इसलिए सबसे पहला काम Products या Services की जानकारी बताना होता है कि यह है क्या और इसका उपयोग आदि। जब लोगों को आपके Products और Services के बारे में पता चल जाता है। तब जिसको जरुरत होगा। वह उसका इस्तेमाल जरूर करेगा। इसलिए विज्ञापन का प्रथम उद्देश्य Products या Services की सूचना देना होता है।

2. राजी करना

यह Advertising का दूसरा उद्देश्य होता है। किसी Products या Services के प्रति ग्राहक को राजी करना या मन बदलना ये सभी विज्ञापन का उद्देश्य होता है। विज्ञापन का उद्देश्य ब्रांड का अच्छा छवि बनाना, ब्रांड के प्रति रवैया अच्छा दिखा कर ग्राहक का मन बदला जाता है।

3. याद दिलाना

विज्ञापन का उद्देश्य ग्राहकों तक ब्रांड के बारे में बार-बार बताना होता है। ताकि ग्राहक Products या Services के बारे में भुल न जाए। इसलिए ब्रांड को याद दिलाना भी विज्ञापन का उद्देश्य है।

विज्ञापन के लाभ (Advantage of Advertising in Hindi)

वैसे देखा जाए तो विज्ञापन के बहुत सारे लाभ हैं। लेकिन क्या आपको टीवी देखते वक्त चलने वाले विज्ञापन देखना अच्छा लगता है? शायद ही किसी को अच्छा लगता होगा। इसी तरह कहीं भी विज्ञापन देखना पसंद नहीं होता है। चाहे टीवी विज्ञापन हो या ऑनलाइन विज्ञापन हो। लेकिन फिर भी विज्ञापन दिखाया जाता है। तो चलिए जानते विज्ञापन दिखाने के क्या लाभ है।

  • विज्ञापन दिखाकर उत्पाद या संगठन को पॉपुलर किया जाता है। जिससे उत्पाद और संगठन को सिर्फ और सिर्फ लाभ ही होगा।
  • विज्ञापन दिखाकर पैसे कमाया जा सकता है। इसी तरह टीवी के मालिक और इंटरनेट पर अधिकतर लोग विज्ञापन दिखाकर पैसे कमाते हैं।
  • विज्ञापन देखने वाले को हमेशा नये नये उत्पाद या संगठन की जानकारी मिलती है। जिससे खरीदने या उपयोग करने में सुविधा होती है।

इस प्रकार विज्ञापन देखना पसंद हो या ना हो। लेकिन विज्ञापन से सभी लोगों को फायदा होता है। चाहे वो विज्ञापन करवाने वाला हो या विज्ञापन दिखाने वाला या फिर विज्ञापन देखने वाला हो। विज्ञापन से सभी को लाभ ही होता है।

इसे भी पढ़ें:-

विज्ञापन के कार्य (Advertising work in Hindi)

वैसे तो विज्ञापन किसी उत्पाद या वस्तु की बिक्री और पॉपुलैरिटी को बढ़ाने के लिए किया जाता है। ऊपर आपने विज्ञापन करने के तरीको को भी जान लिया है। इन तरीको से विज्ञापन किया जाता है। विज्ञापन कराने के पैसे भी लगते हैं। जैसे यदि टीवी से विज्ञापन करवाना है। तब टीवी चैनल को पैसे देने होते हैं। चलिए अब इसके कुछ प्रमुख कार्य को जानते हैं। इससे विज्ञापन का उद्देश्य क्या है। यह समझने मेंं मदद मिलेगी।

  1. नये-नये वस्तुओ और सेवाओं की सुचना देना।
  2. किसी वस्तु की उपयोगिता और श्रेष्ठता बताते हुए। उसकी ओर लोगों को लुभाने और ध्यान आकर्षित करना।
  3. उपभोक्ताओं में वस्तु के प्रति विश्वास और रुचि उत्पन्न करना।
  4. उपभोक्ताओं की स्मृति को प्रभावित करना।
  5. विशेष छूट आदि बताते हुए उपभोक्ता मांग में बढ़ोतरी करना।
  6. वस्तु को स्वीकार करने अपनाने और उसे खरीदने की प्रेरणा देना।
  7. अन्य वस्तु के तुलनात्मक जानकारी देकर उपभोक्ता को अपने वस्तु की ओर ध्यान आकर्षित करना।

विज्ञापन से संबंधित सवाल-जवाब (FAQ)

1. विज्ञापन किसे कहते हैं?

विज्ञापन एक तरह से दुनियाभर के लोगों से Communication करने का माध्यम है।

2. विज्ञापन का अर्थ क्या है?

विज्ञापन “वि” और “ज्ञापन” शब्द से मिलकर बना है। जिसमें वि का अर्थ विशिष्ट और ज्ञापन का अर्थ सुचना होता है। यानी विज्ञापन का अर्थ “विशिष्ट सुचना” होता है। विज्ञापन का अंग्रेजी Advertising होता है। अंग्रेजी शब्द Advertising की उत्पत्ति लैटिन शब्द Advertere से हुआ है। आमतौर पर विज्ञापन का उपयोग व्यापार में ज्यादा होता है।

इसे भी पढ़ें:

Conclusion – Advertising in Hindi

उम्मीद करते हैं कि यह लेख “विज्ञापन क्या है क्या विज्ञापन वस्तुओं की लागत में वृद्धि करता है” आपको पसंद आया होगा। इस लेख में हमने विज्ञापन क्या है, विज्ञापन के प्रकार, विज्ञापन के लाभ और विज्ञापन के कार्य आदि बताया गया है। आज किसी भी वस्तु को बाजार में लाने से पहले विज्ञापन कराना जरूरी होता है। ताकि उपभोक्ता इसके बारे में जान सके और आकर्षित हो सके। आज इंटरनेट से भी पैसे कमाया जा सकता है। जो कि विज्ञापन से ही संभव हो पाया है। आज इंटरनेट पर अधिकतर विज्ञापन के जरिए ही पैसे कमाती है। अगर यह लेख आपको पसंद आया है। तब इसे जरूर शेयर करे। आगे हम विज्ञापन कैसे बनाये और ऑनलाइन विज्ञापन कैसे करे के बारे में बतायेंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to top
Exit mobile version