Two Step Verification क्या है? इसके फायदे और नुकसान

Two Step Verification से आप क्या समझते हैं? क्या आपको पता है कि Two Step Verification क्या होता है। अगर आपको Two Step Verification की जानकारी नहीं है। तब इस लेख को अंत तक जरूर पढ़ें। क्योंकि इस लेख में Two Step Verification की पूरी जानकारी बताया गया है। जिसमें बताया है कि Two Step Verification क्या है, Two Step Verification कैसे काम करता है, Two Step Verification के फायदे और Two Step Verification के नुकसान क्या है।

आज इंटरनेट की मदद से बहुत कुछ किया जा सकता है। इसकी मदद से घर बैठे शॉपिंग, मोबाइल रिचार्ज, ऑनलाइन भुगतान करना, दोस्तो से जुड़ना इत्यादि बहुत से कार्य घर बैठे किए जा सकते हैं। इसके अलावा ऑनलाइन इंटरनेट से घर बैठे पैसे भी कमाया जा सकता है। जहाँ इंटरनेट के इतने सारे फायदे हैं। वहीं कुछ लोग इंटरनेट की मदद से दुसरो को क्षति पहुंचाने की कोशिश में लगे रहते हैं। जिसमें ऑनलाइन धोखाधड़ी, ऑनलाइन पैसे तथा पर्सनल डेटा चोरी, फिरौती मांगना इत्यादि प्रमुख है। इन लोगों को आमतौर पर Scammers के नाम से जाना जाता है।

आसान भाषा में बताएं तो इंटरनेट पर कुछ भी सुरक्षित नहीं है। ये लोग अपने फायदे के लिए कुछ भी कर सकते हैं। अक्सर ये लोग आपके सोशल मीडिया अकाउंट या बैंक अकाउंट को हैक करने की कोशिश करते हैं। यहीं पर Two Step Verification काम आता है। यह हमारे पर्सनल चीजों को इंटरनेट पर सुरक्षित रखता है। अब वो चाहे कोई सोशल मीडिया अकाउंट हो, बैंक अकाउंट हो या कोई डेटा। लेकिन क्या आप जानते हैं कि Two Step Verification होता क्या है। चलिए विस्तार से जानते हैं कि Two Step Verification क्या है?

Two Step Verification क्या है? (What is Two Step Verification in Hindi)

आपने देखा होगा कि लगभग सभी Social Media Account या Bank Account (Net Banking) का उपयोग करने के लिए Username और Password के द्वारा Login किया जाता है। जिसके बाद उसका उपयोग कर पाते हैं।

लेकिन आप ही सोचिए कि यदि कभी आपका Password और Username किसी को पता चल गया। तब वह आपके अकाउंट का गलत इस्तेमाल कर सकता है या नहीं। इसका जवाब है कि हाँ, क्योंकि Password और Username के जरिए कोई भी व्यक्ति Login कर सकता है। जिस तरह किसी ताले को उसके चाभी से खोल सकते हैं। ऐसे ही कभी आपके बैंक का Username और Password किसी को पता चल गया। तब क्या होगा, वह आपके पैसे भी चोरी भी कर सकता है। चाहे वह आपका दोस्त हो या दोस्तो में छुपा कोई दुश्मन हो।

लेकिन ऐसा सिर्फ आपके आसपास के लोग नहीं, बल्कि कोई भी कर सकता है। Scammers और बुरे हैकर्स भी यही करते हैं। ये आपके अकाउंट को हैक करने की कोशिश करते हैं। आपने Fraud Call के बारे में जरूर सुना होगा। आए दिन इस तरह के Call आता रहता है। यह सभी लोग भी इसी तरह का काम करते हैं। जैसे; पर्सनल जानकारी चोरी करना या आपके खाते से पैसे निकालना/चोरी करना। यहीं पर Two Step Verification का काम आता है। कैसे चलिए पढ़कर समझते हैं।

Two Step Verification आपके अकाउंट को सुरक्षित रखने के लिए आपके अकाउंट की सिक्योरिटी को डबल कर देता है। जिससे Account काफी हद तक सुरक्षित हो जाता है। जब भी कोई आपके अकाउंट को Login करने की कोशिश करता है। तब उसे इस Step से होकर गुजरना पड़ता है। इस Step को पार करने के बाद ही Account Login हो सकता है और इस Step से गुजरना सभी के लिए आसान नहीं होता है। इससे सिर्फ वहीं गुजर सकता है, जिसके पास इसे पार करने का जरुरी उपकरण हो। जो कि उस Account के मालिक (Owner) के पास होता है। यानी इसे सिर्फ उस Account का मालिक Use कर सकता है। चलिए जानते हैं कि यह कैसे काम करता है?

Two Step Verification कैसे काम करता है?

Two Step Verification OTP Based एक प्रकार का Security Layer है। जिसे Two Factor Authentication भी कहते हैं। यह किसी भी Account की Security को बढ़ाकर, उसे काफी हद तक सुरक्षित कर देता है। इसे Account का 2nd Security Layer भी कहा जाता है।

आपने OTP का नाम तो सुना ही होगा। OTP का पुरा नाम One Time Password होता है। प्रत्येक OTP का इस्तेमाल एक बार ही किया जा सकता है। आजकल किसी भी तरह के Account बनाने में OTP का प्रयोग किया जाता है। ताकि असली हकदार का पता चल सके। इसी तरह OPT Based एक Security Layer है। जिसे हम अपने Account में लगाकर उसकी Security को बढ़ा सकते हैं। आज के समय में हर कोई अपने Account (जैसे;बैंक अकाउंट) को सुरक्षित रखने के लिए इसका इस्तेमाल कर रहे हैं।

आप भी इसका इस्तेमाल कर सकते हैं। जब हम इस Security Layer को अपने किसी Account में Enable कर देते हैं। तब उस Account को Login करने के लिए इस Security Layer को पार करना होगा। इस Step में OTP डालना होता है। यह OTP Account से Registered Mobile Number या Email Id पर भेजा जाता है। अब अगर वह Account आपका होगा। तब आपके पास उस Account में Registered Mobile Number और Email जरुर होगा। ऐसे में आप उस OTP को डाल कर Security Layer को पार कर लेंगे।

लेकिन अगर आपके Account को कोई और व्यक्ति Login करने की कोशिश करेगा। तब वह इस Step को पार नहीं कर पाएगा। क्योंकि उसे पता ही नहीं होगा कि OTP में क्या डालना है। क्योंकि OTP आपके पास Account से Registered Mobile Number या Email Id पर आएगा।

समान्य अकाउंट में Username और Password द्वारा Login किया जाता है। किन्तु Two Step Verification Enabled Account को Login करने के लिए दो चरण से होकर गुजरना पड़ता है। पहले चरण में समान्य अकाउंट की तरह Username और Password डाला जाता है। इसके बाद Two Step Verification से गुजरना पड़ता है। दुसरे चरण Two Step Verification से गुजरने के लिए Account में Registered Mobile Number या Email Id पर OTP जाता है। जिसे दुसरे चरण में डालना होता है। दुसरे चरण में OTP डालने के बाद Account में Login किया जाता है।

इसलिए यदि किसी को आपका Password पता भी चल जाता है। तब भी वह आपके Account को Login करने में असमर्थ होता है। क्योंकि Login करने के लिए उसे Two Step Verification से होकर गुजरना पड़ेगा और Two Step Verification से गुजरने के लिए OTP डालना होता है। लेकिन OTP तो Account के मालिक (OWNER) के पास आऐगा। इसलिए Two Step Verification से अकाउंट सुरक्षित हो जाता है। Two Step Verification चरण में OTP डालने से यह सिद्ध होता है कि आप ही अकाउंट के मालिक (OWNER) हो। इसलिए इसे Two Factor Authentication भी कहते हैं।

मुझे उम्मीद है कि अब आपको यह पता तो चल ही गया होगा कि Two Step Verification आपके Account के लिए सुरक्षा का कार्य करता है। लेकिन फिर भी एक बार इसके फायदे और नुकसान को जानना जरूरी है। खासकर नुकसान को, चलिए जानते हैं Two Step Verification के फायदे और नुकसान

Two Step Verification के फायदे (Advantage of Two Step Verification in Hindi)

Two Step Verification के फायदे निम्नलिखित है।

  1. इससे Account की Security दोगुना हो जाता है। जिससे Account काफी हद तक सुरक्षित होता है।
  2. यह किसी भी अकाउंट को Unauthorised Access और Hacking से बचाता है।
  3. इससे किसी भी अकाउंट को कोई और व्यक्ति उपयोग नहीं कर सकता है।
  4. इससे ऑनलाइन भुगतान करना सुरक्षित होता है।

Two Step Verification के नुकसान (Disadvantage of Two Step Verification in Hindi)

वैसे तो Two Step Verification से किसी प्रकार का नुकसान तो नहीं होता है। लेकिन जब आपके अकाउंट से रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर या रजिस्टर्ड ईमेल आपके पास नहीं होता है। तब आप भी अपने अकाउंट का उपयोग नहीं कर पाऐंगे।

सोशल मीडिया अकाउंट पर Two Step Verification इनेबल कैसे करें?
  1. Gmail का Two Step Verification इनेबल कैसे करें?
  2. Facebook में Two Step Verification इनेबल कैसे करें?
  3. WhatsApp में Two Step Verification इनेबल कैसे करें?

Conclusion – 2 Step Verification in Hindi

Two Step Verification से अकाउंट काफी हद तक तो सुरक्षित हो जाता है। इसके इनेबल या ऑन होने के बाद किसी भी अकाउंट को हैक या ऐक्सेस करना किसी के लिए भी मुश्किल हो जाता है। किन्तु फिर भी ऑनलाइन कुछ भी सेफ नहीं है।

इसे भी पढ़ें:-

उम्मीद करता हूँ कि यह लेख आपके लिए हेल्प फुल रहा होगा। यह लेख Two Step Verification क्या है? इसके फायदे और नुकसान आपको कैसा। अपना विचार शेयर करना ना भुलें। यदि कुछ पुछना है तो कमेंट से पुछ सकते हैं। इस लेख को अपने दोस्तो के साथ भी शेयर करें। ताकि वे सब भी अपने सोशल मीडिया अकाउंट को सुरक्षित कर सकें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to top
Exit mobile version