सुबह जल्दी कैसे उठे? सुबह जल्दी उठने का तरीका व टिप्स

सुबह जल्दी कैसे उठे

क्या आप भी सुबह देर तक सोते रहते हैं। जल्दी उठना तो चाहते हैं। लेकिन उठ नहीं पाते, सुबह जल्दी नींद नहीं खुलती और आलस भी आता है। अब आपको चिंता करने की आवश्यकता नहीं है। बस आपको नीचे बताए तरीके व टिप्स को अपनाना है। हमने ऐसा कोई तरीका नहीं बताया है। जिसे अपनाना आपके लिए मुश्किल हो। सभी तरीके और टिप्स आसान है। इसलिए एक बार जरुर पढ़ें। क्योंकि इस लेख में सुबह जल्दी कैसे उठे? इसकी विस्तृत और प्रभावशाली तरीके बताए हैं।

सबसे पहले तो आपको बता दे कि सुबह जल्दी उठने के बहुत सारे फायदे हैं। वहीं देर तक सोने का बहुत सारा नुकसान है। ज्यादा देर तक सोने से क्या होता है? शायद आप ये सभी जानते होंगे। फिर भी सुबह जल्दी नहीं उठ पाते होंगे। खैर आप एक बार हमारे द्वारा बताए तरीके को पढ़ के देखें। यहाँ बताए तरीके सुबह जल्दी उठने का मंत्र के समान सिद्ध होगा। सुबह जल्दी उठना कितना मुश्किल होता है। यह मैं अच्छी तरह समझ सकता हूँ। क्योंकि मुझे भी देर तक सोने की समस्या थी। मैं भी देर तक सोता रहता था। जिसके कारण Time पर नहीं उठ पाता था।

लेकिन यकीन मानिए दोस्तो सुबह जल्दी उठना उतना मुश्किल भी नहीं है। जितना हम सोच लेते हैं। वैसे भी यदि हम किसी कार्य को जितना अधिक मुश्किल समझने लगते हैं। वो कार्य वास्तव में भी उतना ही मुश्किल हो जाता है। इसलिए आप सुबह जल्दी नहीं उठ पाते हैं। अक्सर जो लोग सुबह जल्दी नहीं उठ पाते हैं। उनके मन में कुछ इस तरह का प्रश्न आता रहता है। जो इस प्रकार है –

  • सुबह जल्दी कैसे उठे?
  • सुबह जल्दी उठने का तरीका क्या है?
  • सुबह 4:00 बजे कैसे उठे?
  • सुबह जल्दी नींद कैसे खोलें?
  • सुबह जल्दी उठने का मंत्र क्या है?
  • सुबह जल्दी कैसे उठे बिना अलार्म के

अगर आप भी सुबह जल्दी नहीं उठ पाते हैं। तब आपके मन में भी ऐसे प्रश्न जरुर आते होंगे। शायद तभी इस लेख पर आए हैं। जो लोग सुबह 5 बजे उठना चाहते हैं। उन लोगों के मन में प्रश्न आता है कि सुबह 5:00 बजे कैसे उठे? अब कुछ भी हो इस लेख में हमने सुबह जल्दी उठने के लिए सुबह उठने के नियम बताया है। यहाँ सुबह जल्दी कैसे उठे? के अलावा भी कई महत्वपूर्ण जानकारी बताया गया है। जिसमें सुबह जल्दी उठने के फायदे, देर तक सोने के नुकसान, सुबह कितने बजे उठना चाहिए और उठने के बाद क्या करना चाहिए। सबकुछ बताया है चलिए पहले जानते हैं कि सुबह कैसे उठे (हाउ तो वेक अप अर्ली इन द मॉर्निंग)

सुबह जल्दी कैसे उठें? (How To Wake Up Early in The Morning in Hindi)

जितने भी सफल और महान लोग है। वे सभी लोग समय के पाबंद होते हैं और सुबह जल्दी उठना पसंद करते हैं। इनके जल्दी उठने का कारण बहुत सारे हैं। जिसकी जानकारी आप नीचे सुबह जल्दी उठने के फायदे में जानेंगे। क्या आपने कभी सुना या देखा है कि जितने भी सफल और महान लोग हैं। वो सुबह देर तक सोते रहते हैं। नहीं ना, क्योंकि सफल लोगों में यह एक महत्वपूर्ण लक्षण होती है। सभी लोग चाहते हैं कि यह लक्षण उनके पास भी हो। वह भी सुबह जल्दी उठ सके।

आपको बता दूँ कि पहले मैं भी सुबह देर तक सोता था। लेकिन अब नहीं, मैं भी औरो की तरह सुबह जल्दी उठना चाहता था। लेकिन यह मेरे लिए आसान नहीं था। किंतु अब मैंने कर दिखाया है। अब मैं सुबह जल्दी उठ जाता हूँ। हर रोज लगभग 3:30 से 4 बजे के बीच कभी भी नींद खुल जाती है। इसके लिए मुझे किसी अलार्म (Alarm) की आवश्यकता भी नहीं होती है। खास बात तो यह है कि अगर कभी मैं देर रात को भी सोता हूँ। तब भी उसी Time (3 से 4 बजे के बीच) में आँख खुल जाती है। यकीन करे सुबह जल्दी उठने का यह Feeling अलग ही होती है।

चूँकि मैं हमेशा से सुबह उठना चाहता था। शायद आप भी चाहते होंगे। सुबह जल्दी उठने के बहुत सारे तरीके हैं। जिससे आप सुबह जल्दी उठ सकते हैं। लेकिन यहाँ हम वो तरीके बताए हैं। जो आपके लिए फायदेमंद हो। यहाँ हमारे द्वारा बताए गए तरीके कुछ बड़े और ज्यादा है। लेकिन यकीन मानिए ये तरीके सभी तरीको से ज्यादा असरदार होगा। इन तरीको को मैं खुद भी Follow करता हूँ। इस तरीके को Follow कर बड़े से बड़े आलसी आदमी सुबह जल्दी उठ सकता है। क्योंकि यहाँ बताए गए तरीक Facts और Experiment के अधार पर है। तो चलिए पढ़ते हैं… सुबह जल्दी उठने का तरीका

Note:- यहाँ बताए तरीके को सही से कार्य करने के लिए शुरू से Follow करे।

Step#1- दिन को नहीं सोना है।

यह सुबह जल्दी उठने के लिए पहला स्टेप है। क्योंकि दिन में सो जाना सुबह जल्दी न उठने का एक महत्वपूर्ण कारण है। इसलिए अगर आप सुबह जल्दी उठना चाहते हैं। तब इस स्टेप का पालन जरुर करे। यानी दिन में नहीं सोना होगा। चूँकि शरीर और दिमाग को सही तरीके से काम करने के लिए सोना जरूरी होता है। ताकि हमारा Brain और Body Relax कर सके। इसी वजह से सोने के बाद हम थकान मुक्त और फ्रेश महसूस करते हैं।

चूंकि हमारे शरीर और दिमाग को Relax करने के लिए जितने नींद की आवश्यकता होती है। वह आवश्यकता आपने दिन में ही पूरा कर लिया है। जिसके कारण आपको रात में नींद नहीं आएगा। जिन लोगों की यह प्रश्न होता है कि मुझे रात में नींद नहीं आता है। तब आप ध्यान दीजिए, आप जरूर दिन में अपनी नींद पूरी कर लेते होंगे। इसलिए दिन में सोना बंद करे। क्योंकि दिन में सोने के बाद ज्यादातर को रात में नींद नहीं आता है। लेकिन देर रात तक जागते रहने से शरीर में थकावट महसूस होने लगता है।

जिसके कारण देर रात को नींद आना शुरू होता है। अब आप खुद सोचकर देखिए। जो व्यक्ति सुबह 3 बजे सो रहा है। तब क्या वह 4 या 5 बजे उठ सकता है। नहीं ना, अगर किसी तरह जबरदस्ती उठ भी जाता है। तब उसे दिनभर थकावट और आलस्य महसूस होगा। इसलिए पहले स्टेप को जरुर फॉलो करे। पहला स्टेप कहता है कि दिन में नहीं सोना है। हालांकि छोटी-छोटी झपकी ले सकते हैं। ये छोटी-छोटी झपकी स्वास्थ्य के लिए काफी फायदेमंद होता है।

Step#2- रात में हल्का भोजन करें।

रात में हल्का भोजन ही करें। क्योंकि हमारे नींद पर खाने का महत्वपूर्ण प्रभाव होता है। मुख्य रुप से ज्यादा खाना आलस को दर्शाता है। अगर आप ज्यादा खाना खाकर सोते हैं। तब आपको सुबह जल्दी उठने में दिक्कत होगा। इसलिए थोड़ा ही खायें। जितना पचा सके, उतना ही खायें। कोशिश करे कि रात में सोने के दो तीन घंटे पहले खाना खा लें। ऐसा करने से चमत्कार जैसा होगा। आप रात का भोजन आसानी से पचा पाएंगे। जिसके कारण आलस्य भी नहीं आएगा या कम होगा।

अगर रात का भोजन हेल्दी है। तब और भी बेहतर है। ज्यादातर रात में भोजन चावल, दाल, रोटी, पनीर, हरी पत्तेदार सब्जियाँ आदि खाने से आप सुबह खुद को तरोताजा और फ्रेश पाएंगे। साथ में रात को ऑयली और मसालेदार खाना खाने से बचना चाहिए। इस तरह का खाना पाचन क्रिया पर बूरा प्रभाव डालता है।

Step#3- सोने से पहले Book पढ़ें।

आज के समय में किताब पढ़ने की आदत कम होती दिख रही है। जिसका महत्वपूर्ण कारण सोशल मीडिया, कंप्यूटर और मोबाइल जैसे गैजेट्स से भरी हमारी जिंदगी है। लेकिन कई रिसर्च में यह बात सामने आया है कि रात को सोने से पहले किताबे पढ़ना हमारे मानसिक स्वास्थ्य के लिए अच्छा रखता है। साथ ही Stress Level भी कम करता है। Stress Level कम होने पर नींद आसानी से और भरपूर आती है। आज बच्चे से लेकर बड़े सभी लोग सोने से पहले TV देखते हैं या Video Game खेलते हैं।

लेकिन यह हमारे नींद पर बूरा असर डालता है। आप सोने से पहले अपनी आँख को कंप्यूटर या मोबाइल स्क्रीन के बजाय किताबो पर ले जाएं। इससे आपके आंखो को आराम भी मिलेगा। लेकिन अगर अगर सोने से पहले कंप्यूटर या मोबाइल का उपयोग करेंगे। तब आपको अनिद्रा संबंधित समस्या हो सकती है। बहुत सारे लोगों में देर रात तक सोने की आदत इसी वजह से होती है। अगर आप देर रात सोएंगे। तब यह निश्चित होगा कि आप सुबह जल्दी नहीं उठ पाएंगे।

इसलिए सुबह जल्दी उठने के लिए ध्यान रखें कि देर रात तक मोबाइल और कंप्यूटर में व्यस्त नहीं रहना है। कोशिश करे कि सोने से आधा-एक घंटा पहले ही मोबाइल और कंप्यूटर को उसकी सही जगह पर रख दे। ऐसा करने से नींद जल्दी आती है। आप Mobile को Silent या Do Not Disturb Mode में लगा कर सोएं। ताकि Notification वगैरह आपके नींद में टांग न अराए।

Note:- ऊपर बताए तीनों तरीके सिर्फ आपके Mood और Mental Health को बेहतर करने का काम करेगा। जिसके कारण आपको रात में नींद भी आएगा और आप समय पर सोना शुरू भी करेंगे। लेकिन नीचे बताए तरीके आपको सुबह जल्दी उठने में मदद करेगा। यानी ऊपर वाले तरीके जल्दी सोने में मदद करता है।

Step#4- सोने और जागने का Time Set करें।

सबसे पहले तो आपको सोने और जागने का Time Set कर लेना है। जैसे कि आप सुबह कितने बजे उठना चाहते हैं। हमारे शरीर को खासकर हमारे Brain को नींद की सख्त आवश्यकता होती है। जिसके लिए प्रत्येक दिन कम से कम 6 से 8 घंटे की नींद जरूर लेनी चाहिए। इसलिए आपको इसी हिसाब से सोने और जागने का Time Set कर लेना चाहिए। जैसे अगर आप सुबह 5:00 बजे उठना चाहते हैं। तब आप सोने का Time 9 से 11 बजे के बीच कभी भी रख सकते हैं। लेकिन ध्यान रहे कि इसी Time के साथ आपको प्रत्येक दिन सोना है। तभी आप Set किए Time पर उठ पाएंगे।

अगर आप जानना चाहते हैं कि मैं कितने बजे सोता हूँ। तब आपको बता दे कि मैं रात को 9:45 से 10 बजे तक सो जाता हूं। जिसके कारण मैं हमेशा सुबह 4 बजे के पहले उठ जाता हूँ। यानी लगभग 6 घंटे की नींद लेता हूँ। इसी हिसाब से आप भी अपने सोने और जागने का Time Set करे। अगर आप भी 4 बजे के पहले उठना चाहते हैं। तब सोने का Time 9 बजे के आसपास रखे। आप जितने बजे भी उठना चाहते हैं। उतने बजे उठ जाएंगे। साथ में आपकी नींद भी पूरी होगी।

लेकिन ध्यान रहे कि कम से कम 6 घंटे का नींद जरूर ले। यह आपके Mental Health के लिए जरुरी होता है। अगर आप रात में कम सोएंगे। तब आपको दिन में नींद आएगा। दिन सोने के बाद आप रात को देर से सोएंगे। इस तरह से Time फिर से खराब हो जाएगा। इसलिए सबसे बेहतर यही है कि रात में ही अच्छी और पूरी नींद ले। कम से कम 6 घंटे। आप सुबह कितने बजे उठेंगे। यह इस बात पर निर्भर करता है कि आप रात को कितना और कितने बजे सोते हैं। इसलिए अपना Time Set कर के रखे। अगर रात 10 बजे सोना है। तब 10 बजे ही सोना है।

लेकिन इस बात का भी ध्यान रहे कि आप 10 बजे सोने के बाद कितने बजे उठते हैं। जैसे अगर आप सुबह 5 बजे उठना चाहते हैं। लेकिन 10 बजे सोने के बाद सुबह 6 बजे या 4 बजे ही उठ जाते हैं। तब आपको अपने सोने का Time में थोड़ा ऊपर नीचे कर के देख लेना चाहिए। क्योंकि सभी के लिए नींद की आवश्यकता ज्यादा कम होता है। आप दो से तीन दिन में अपने लिए सही Time Set कर पाएंगे।

Step#5- सुबह उठने के बाद का Goal Set करें।

कोई भी व्यक्ति सुबह क्यों उठना चाहेगा। निश्चित सी बात है कि अगर उसे सुबह कोई काम हो। जैसे अगर आपको सुबह 6 बजे पढ़ाई करना है या सुबह 6 बजे कहीं पढ़ने के लिए जाना हो। मुझे आज भी याद है जब मुझे सुबह पढ़ने जाना होता था। तब मेरी नींद खुद व खुद खुल जाता था। ऐसा इसलिए होता था, क्योंकि मुझे पढ़ाई में मन लगता था। मैं पढ़ने जाना चाहता था। अगर आपका भी ऐसा कोई Goal है। जिसे आप मन से करना चाहते हैं।

तब उस Goal को पूरा करने के लिए आप जरुर उठ जाएंगे। लेकिन कुछ लोगों के पास कुछ भी Goal नहीं होता है। ज्यादातर ऐसे लोगों को ही सुबह जल्दी उठने में समस्या होती है। इसलिए आपको कुछ ना कुछ Goal जरुर Set करना होगा। क्योंकि अगर Goal नहीं होगा। तब आप सुबह अपने Time पर उठने के बावजूद सो जाएंगे। इसलिए कुछ ना कुछ Goal जरूर Set कर के रखे। अगर कुछ ना हो। तब टहलना Goal Set कर ले। सुबह उठने के बाद टहले।

यानी सुबह उठने के बाद कुछ ना कुछ तो करना ही होगा। रात को सोने से पहले अपना Goal Set कर ले। ताकि उठने के बाद आपको पता रहे की क्या करना है। रात को Goal Set करने का एक और फायदा यह होता है कि आपका दिमाग उस Goal को करने के लिए आपको समय पर उठा देगा।

Step#6- सोने से पहले ज्यादा ना सोचे।

अब सबकुछ Set है। अब आपको सोने जाना है। ध्यान रहे कि आपने जो Time सोने का रखा था। उस Time पर सोने जाएं। अगर आप उसी Time पर सोने गए हैं। तब आपको एक और बात का ध्यान रखना है कि सोते वक्त ज्यादा कुछ नहीं सोचना है। ज्यादा सोचने से भी अनिद्रा और सिरदर्द जैसी समस्या होती है। इसलिए अगर आप सोने जा रहे हैं। तब कुछ भी ना सोचे। मन में किसी विचार को ज्यादा ना सोचे। अगर मन में कोई विचार आ रहा है। तब उसे हटाने की कोशिश करे।

और आंख बंद करके सोने की कोशिश करे। चूँकि आपने दिन में नहीं सोया है। इस कारण आपको नींद आना शुरू होगा और आप सो जाएंगे। अगर आपको फिर भी नींद नहीं आ रही है। तब निम्न बातो पर ध्यान दें। इसमें कोई तरीका आपके लिए जरुर फायदेमंद होगा।

  • अपने शरीर के थकावट को महसूस करे।
  • आँखे सुख जाने पर भी नींद नहीं आती है। इसलिए आँखो को बार-बार तेजी से मट-मटाएं। ऐसा करने से भी आपको नींद आ सकती है।

Tip:- सुबह उठाने का काम दिमाग को दे सकते हैं। यह एक कारगर तरीका है। जैसे अगर आप सुबह 4 बजे उठना चाहते हैं। तब अपने दिमाग को यह Notification दे कि आपको सुबह 4 बजे उठना है।

Step#7- सुबह उठने के बाद अपने Goals पर ध्यान दें।

अगर आप सही Time पर उठ गए हैं। तब अपने Goals पर ध्यान दे। अगर Time पर नहीं उठे हैं। तब अपने सोने का Time को आगे पीछे कर के देखें। आपको समझ नहीं आ रहा है कि क्या करे। तब अपनी समस्या कमेंट से हमें विस्तार में जरुर बताएं। हम आपकी पूरी मदद करेंगे। लेकिन उठने के बाद आप अपने Goals पर जरूर ध्यान दे। अन्यथा आप फिर से सोने लगेंगे। अगर आपके पास कोई Goals नहीं है। फिर भी कुछ ना कुछ जरुर करे। ताकि आपको नींद ना आए। जैसे अगर आप एक छात्र/छात्रा हैं। तब सुबह का पढ़ाई आपके लिए Best होगा। नीचे हमने कुछ कार्य के नाम बताया है। जिसे आप सुबह उठने के बाद कर सकते हैं।

  • पढाई करे।
  • Brush करे।
  • टहलना शुरु करे।
  • Exercise करे।
  • योगा या मेडिटेशन करे।
  • स्नान करे।

मैं सुबह उठने के बाद फ्रेश होने पर ध्यान देता हूँ। जैसे; Brush और स्नान आदि करता हूँ। आप एक और बात का ध्यान रखे की नींद खुलने के तुरंत बाद कुछ काम में जरुर लग जाएं।

Note:- सुबह उठने के लिए स्टेप 7 तक जरुरी था। लेकिन आगे के स्टेप भी आपको पढ़ लेना चाहिए। आगे के स्टेप में बताया गया है कि आप हमेशा सुबह जल्दी कैसे उठे।

Step#8- आदत बना लें।

सबसे पहले तो आपको अनुशासित रहना होगा। अगर आप ऊपर के सभी स्टेप का सही से पालन करते हैं। तब आप सुबह जल्दी जरूर उठ जाएंगे। लेकिन हमेशा आप सुबह जल्दी ही उठे। इसके लिए आपको अनुशासित रहना होगा। अनुशासित रहना है यहाँ बताए तरीको के लिए, यानी अगर आप यहाँ बताए तरीको को अपनाते हैं, सही से फॉलो करते हैं। इसके प्रति अनुशासित रहते हैं। तब जरुर सुबह जल्दी उठने की आदत बना लेंगे।

सुबह जल्दी उठने की आदत सफल लोगों में होती है। इसकी लत लगाने के लिए, आदत बनाने के लिए। एक दिन नहीं, बल्कि कई दिन मेहनत करना होता है। कुछ लोगों का मानना है कि किसी भी काम को आदत बनाने के लिए 21 दिन लगते हैं। इसलिए ऊपर बताए सभी तरीको को आप अनुशासित होकर 21 दिन जरुर फॉलो करे। इसके बाद आपको किसी भी तरीके को फॉलो नहीं करना होगा। आदत बन जाने के बाद आप खुद व खुद सुबह जल्दी उठने लगेंगे।

कभी इसे भी पढ़िए:

सुबह देर से उठने के नुकसान

सुबह देर से उठने के नुकसान की गिनती किया जाए। तब आप बहुत सारे होंगे, अनगिनत होंगे और हर एक के लिए अपनी अलग समस्या या नुकसान हो सकता है। सभी को बताना संभव नहीं है। इसलिए यहाँ हम कुछ कॉमन नुकसान बताएंगे। जो सुबह देर से उठने पर मिलते हैं। चलिए देखते हैं कि सुबह देर से उठने के क्या क्या नुकसान है।

1. स्वास्थ्य नुकसान

अच्छी सेहत या स्वास्थ्य से के पूरी नींद लेना जरूरी है। भरपूर नींद लेने से दिनभर के कार्यो को करने के लिए Energy प्राप्त होता है। साथ ही कई बिमारी से छुटकारा भी पाया जा सकता है। लेकिन इसका मतलब यह बिलकुल भी नहीं है कि आप सुबह देर तक सोते रहे। सुबह के समय ज्यादा देर तक सोने से कई तरह की बीमारी हो सकता है। ज्यादा सोने से हृदय संबंधी रोग होने का डर होता है। वजन भी बढ़ने लगता है।

2. तनावपूर्ण जीवन

सुबह देर तक सोना आपके मानसिक रूप से प्रभाव डालता है। इससे आपको डिप्रेशन होने का डर होता है। जिन लोगों का जीवन तनावपूर्ण है। उन लोगों में एक चीज कॉमन यह है कि वे सुबह देर तक सोते हैं। वहीं सुबह जल्दी उठने वाले तनाव मुक्त होते हैं।

3. आलस आना

सुबह देर से उठना आलस का पहचान है। अगर आप भी सुबह देर तक सोते रहते हैं। तब आप भी दिनभर खुद को आलसी, सुस्ती, थकान और पीठ दर्द जैसी समस्याओं का अनुभव करेंगे। जिसके कारण आपका सारा दिन बकवास जाएगा। जिसके कारण आप धीरे-धीरे डिप्रेशन का शिकार हो सकते हैं।

4. सिरदर्द

आपने भी अपने बड़े बुजुर्गो से सुना होगा कि हमे सुबह सूर्योदय से पहले उठ जाना चाहिए। अगर आप ऐसा करते हैं। तह आप खुद को फ्रेश महसूस करेंगे। लेकिन अगर ऐसा नहीं करते हैं। सुबह देर से उठते हैं। तब आपको सिरदर्द जैसी समस्या भी हो सकती है।

5. याद्दाश्त कमजोर होना

वैसे तो कम नींद के कारण याद्दाश्त कमजोर समस्या होती है। लेकिन अगर आप सुबह देर सोते हैं, तब यह समस्या भी आपके साथ हो सकती है। इसलिए हमेशा सुबह जल्दी उठने की कोशिश करे।

सुबह जल्दी उठने के फायदे

क्या आप जानते हैं सुबह जल्दी उठने के फायदे क्या है। अक्सर हम अपने बड़े बुजुर्ग से यह सुनते हैं कि हमें सुबह उठना चाहिए। सुबह उठकर सुबह की हवा और धुप लेना चाहिए। सच ही कहा गया है कि सुबह जल्दी उठना मनुष्य को बुद्धिमान और स्वस्थ बनाता है। लेकिन क्या आप जानते हैं कि सुबह उठने के क्या क्या फायदे हैं। वैसे तो सुबह उठने के बहुत फायदे हैं। लेकिन चलिए सुबह उठने के कुछ फायदे के बारे में जानते हैं।

1. एकाग्रता में वृद्धि

सुबह का समय प्राकृतिक सौंदर्य से परिपूर्ण होता है। इस वक्त उठने मात्र से ही आपको अलग Level का उर्जा महसूस होता है। जब आप सुबह जल्दी उठते हैं। तब आपका एकाग्रता (Concentration) क्षमता सबसे उच्च होता है। इस वक्त किसी भी तरह का Distraction नहीं होता है। क्योंकि इस वक्त Distraction करने के लिए किसी भी तरह का Source नहीं होता है। ना तो बाहर से आवाज आती है और ना ही घर में कोई हल्ला होता है। जिसके कारण इस वक्त आप किसी भी कार्य को पूरी एकाग्रता (Focus) के साथ कर सकते हैं। हमेशा सुबह जल्दी उठने से आपमें एकाग्रता क्षमता दिनभर अच्छी रहती है।

2. इच्छाशक्ति में वृद्धि

इस वक्त इच्छाशक्ति भी उच्च होती है। किसी भी कार्य में सफलता हासिल करने के लिए इच्छाशक्ति जरुरी होता है। इच्छाशक्ति का इस्तेमाल कर कर किसी भी कार्य में सफलता प्राप्त कर सकते हैं। अगर आपमें किसी कार्य के प्रति इच्छाशक्ति नहीं है। तब आप उस कार्य में कभी सफल नहीं होंगे। इसलिए कहा जाता है कि इच्छाशक्ति किसी भी सफलता का पहला पड़ाव होता है। सुबह इच्छाशक्ति में वृद्धि देखने को मिलता है। इस समय आप किसी भी काम को बहुत जल्दी कर सकते हैं।

जिस काम को दोपहर या शाम के समय करने में 4 घंटे लगते हैं। उसे आप सुबह के समय 2 घंटे में भी कर सकते हैं। इस वक्त इच्छाशक्ति में वृद्धि बहुत सारे कारणों की वजह से होता है। इस समय आपके लिए कोई भी कार्य मुश्किल नहीं होगा। साथ ही आप इस वक्त थकान मुक्त महसूस करेंगे। जिस काम को आप नहीं करना चाहते हैं। या आपको लगता है आप नहीं कर सकते हैं। उस काम को सुबह के समय करने की कोशिश करे।

3. सकारात्मक सोच

कहा जाता है कि सकारात्मक सोच किसी भी कार्य में तरक्की का मार्ग प्रशस्त करता है। जो लोग सुबह देर तक सोते रहते हैं। उनके अंदर Negativity आ जाती है। ऐसे लोग किसी भी कार्य में नकारात्मक ही सोचते हैं। बड़े बुजुर्ग तो यह भी कहते हैं कि नकारात्मक सोच रखने वालो से दूरी बना लेनी चाहिए। ऐसे लोग आपको आगे बढ़ने में समस्या पैदा करती है। लेकिन अगर आप सुबह जल्दी उठेंगे। सुबह की हवा और धुप आपको भी अंदर से सकारात्मक बना देगा। अगर आप सुबह जल्दी उठेंगे। तह खुद को सकारात्मक महसूस करने लगेंगे।

4. खाली समय

सबसे पहले तो आपको बता दे कि सभी को एक दिन में बराबर समय मिलता है। न किसी को ज्यादा न किसी को कम। फिर भी कुछ लोग सफलता प्राप्त करते हैं। वहीं कुछ असफल होते हैं। असफल होने वाले अधिकांश लोग यह कहते हैं कि उन्हें Time ही नहीं मिला। लेकिन आप खुद सोचिए क्या जिसने सफलता को प्राप्त हुआ। उसे दिन में 24 घंटे मिलते थे और जो असफल हुआ। उसे सिर्फ 20 घंटे ही मिले नहीं ना। फिर कुछ सफल कुछ लोग असफल क्यों होते हैं। वैसे तो असफल लोगों में बहुत सारे लक्षण होते हैं।

लेकिन सुबह देर तक सोना महत्वपूर्ण होता है। ये लोग सुबह देर तक सोकर अपना कीमती समय बर्बाद करते हैं। साथ ही सुबह देर तक सोने से थकावट, सिरदर्द की समस्या होती है। जिसके कारण दिन में भी काम करने का मन नहीं करता है। इस तरह हमारा पूरा दिन बर्बाद होता है। लेकिन अगर आप सुबह जल्दी उठेंगे। तब आपको सुबह का कीमती समय मिलेगा। जिसमें आप किसी भी महत्वपूर्ण काम को जल्दी कर सकते हैं। साथ में सुबह जल्दी उठने के कारण आपका सारा दिन अच्छा गुजरेगा। क्योंकि आप सकारात्मक महसूस करते हैं।

5. मानसिक व शारिरिक स्वास्थ्य में सुधार

अध्ययन में पता चला है कि सुबह जल्दी उठने वाले लोगों की मानसिक व शारिरिक स्वास्थ्य बेहतर होता है। आमतौर पर उनकी पाचन तंत्र मजबूत होता है। जिन लोगों का पाचन तंत्र सही होता है। उनके पेट की स्वास्थ्य भी अच्छा होता है। यानी सुबह उठकर स्वास्थ्य संबंधित बिमारी से छुटकारा मिलता है। अगर आप सुबह अच्छी और पूरी नींद लेने के बाद जल्दी उठते हैं। तब आपकी मानसिक स्वास्थ्य अच्छा रहता है। ये लोग तनाव मुक्त और चिंता मुक्त भी होते हैं। साथ में सुबह जल्दी उठने वाले लोग अधिक रचनात्मक और उत्पादक होते हैं। ये सुबह देर से उठने वाले लोगों से अधिक खुश भी होते हैं।

इसे भी पढ़िए:-

Conclusion

सुबह सूर्योदय से पहले उठ जाना चाहिए। दरअसल सुबह जल्दी उठने के कई लाभ होते हैं। सुबह के समय हमारा दिमाग ज्यादा फ्रेश होता है। छात्रों के लिए यह समय पढ़ाई में काफी मदद करता है। इस कारण आप किसी भी Topic को आसानी से समझ सकते हैं। सुबह का समय सिर्फ छात्रो के लिए, अपितु सभी के लिए अच्छा होता है। सभी Successful People सुबह जल्दी उठते हैं। इसलिए आपको भी सुबह जल्दी उठने की आदत डाल लेनी चाहिए। अगर आप सुबह जल्दी उठने के लिए कई तरह तरीके का उपयोग कर लिया है।

फिर भी सुबह जल्दी नहीं उठ पाते हैं। तब सबसे पहले इस लेख को पढ़िए। आपको इस लेख की आवश्यकता है। सब एक बार पढ़कर देखिए और इसे कुछ दिन तक फॉलो भी करे। चमत्कार खुद दिखेगा। आलसी व्यक्ति भी सुबह 4 बजे उठना शुरू कर देगा।

देखा जाए तो कुछ लोगों में अलग तरह की समस्या हो सकती है। जिसकी वजह से जल्दी नहीं उठ पाते हैं। आपको सुबह जल्दी उठने में क्या समस्या आती है। वह मुख्य वजह क्या है। जिसकी वजह से आप सुबह जल्दी नहीं उठते हैं। हमें जरुर बताएं। ताकि हम आपकी हेल्प कर सके। आप हमें कमेंट से भी बता सकते हैं। या फिर पर्सनली बात करने के लिए Contact Us पेज को देखें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to top