विज्ञान क्या है? इसकी परिभाषा, प्रकार, महत्व और उद्देश्य

विज्ञान से आप क्या समझते हैं? विज्ञान की अवधारणा क्या है। यदि आपने पढ़ाई किया होगा। तब विज्ञान भी जरूर पढ़ा होगा। हम सबने कभी न कभी विज्ञान जरूर पढ़ें हैं। आपने भी पढ़ा होगा। चाहे आप Arts के Student हो या Commerce के हो। हमारे शुरुआती पढ़ाई में लगभग सभी Stream शामिल होती थी। मैं तो अभी भी विज्ञान पढ़ रहा हूँ। लेकिन क्या आप जानते हैं कि विज्ञान क्या है? यह प्रश्न सभी के लिए महत्वपूर्ण हैं। ज्यादातर लोग इसे जाने बिना बस विज्ञान पढ़ना शुरू कर देते हैं। यदि आप एक Science के Student हैं। तब यह प्रश्न आपके लिए सबसे ज्यादा महत्वपूर्ण हो जाता है।

क्योंकि जब तक हमें यही नहीं पता होगा कि विज्ञान क्या है, विज्ञान में क्या पढ़ाया जाता है, विज्ञान का क्या उद्देश्य है। तब तक हम सिर्फ विज्ञान को पढ़ते जाएंगे। उसका सही उपयोग नहीं कर सकते हैं। क्योंकि जब तक आपको पता नहीं होगा कि विज्ञान का क्या उद्देश्य है। तब तक आप उस उद्देश्य के लिए विज्ञान नहीं पढ़ पाएंगे। ज्यादातर लोग तो ऐसा ही करते हैं। लोग विज्ञान को ज्यादा महत्व देते हैं। इसलिए ज्यादातर Students इसकी पढ़ाई करते हैं। कुछ लोग इसके Scope को देख कर पढ़ाई करते हैं। लेकिन इसके मुख्य उद्देश्य के लिए बहुत कम विज्ञान पढ़ते हैं।

इसलिए आपसे मेरा अनुरोध है कि आप इस लेख को एक बार अंत तक जरूर पढ़ें। इस लेख में हमने विज्ञान की पूरी जानकारी बताने की कोशिश की है। जिसमें बताया है कि विज्ञान क्या है, विज्ञान की परिभाषा क्या होता है, विज्ञान की शाखा, विज्ञान का महत्व, विज्ञान का उद्देश्य, विज्ञान के लाभ और हानि क्या है? हम सभी विज्ञान से घिरे हुए हैं। पहले कहीं जाने के लिए पैदल जाना होता था। लेकिन आज कहीं जाने के लिए गाड़ी, ट्रेन, जहाज और हवाई जहाज जैसे कई यंत्र है। यह सभी विज्ञान का कमाल ही तो है। यहाँ हमने विज्ञान के चमत्कार भी बताए हैं। चलिए सबसे पहले जानते हैं कि विज्ञान क्या है?

विज्ञान क्या है? (What is Science in Hindi)

विज्ञान कोई वस्तु नहीं है। अपितु यह तो ज्ञान की एक विशेष शाखा है। मनुष्य जाति में सदैव ही प्राकृतिक रहस्यों को जानने की जिज्ञासा रही है। उसी को सार्थक बनाने में विज्ञान अपनी महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। वास्तव में विज्ञान उस विशिष्ट ज्ञान को कहते हैं। जो सभी तरह से सत्यापित हो। उसके प्रत्येक पहलू को साबित किया जा सकता है। हमारे भौतिक जगत में मौजूद किसी भी वस्तु अथवा उसके विषय के बारे में अध्ययन करना और उसके प्रत्येक पहलू को साबित करना विज्ञान है। इसीलिए विज्ञान को गलतफहमी और अंधविश्वास से विपरीत मान जाता है।

क्योंकि विज्ञान प्रयोगों और प्रेक्षणों के आधार सत्यापित होता है। वहीं अंधविश्वास का कोई Logic नहीं होता है। जैसे; विज्ञान कहता है कि अगर द्रव को 0 डिग्री तक पहुंचाया जाए है। तब वह ठोस में बदल जाता है। इसे आपने भी अपनी किसी कक्षा में जरुर पढ़ा होगा। जो कि सभी पहलूओं पर सत्यापित है। आप चाहें तो इसका प्रयोग कर के देख सकते हैं। ऐसी कोई भी ज्ञान, जिसे प्रयोग व प्रेक्षण के आधार पर सत्यापित किया जा सके। जिसमें कोई धोखा न हो। बल्कि आप उसे व्यवहारिक रुप से साबित कर सकते हैं। सामान्यतः विज्ञान की जानकारी रखने वाले व्यक्ति को वैज्ञानिक कहा जाता है।

विज्ञान उन वैज्ञानिक के शोध से उन्नत होता है। जो अपनी जिज्ञासा या दुनिया की समस्याओं को हल करने की इच्छा से प्रेरित होते हैं। संक्षेप में कहें तो किसी विषय या वस्तु के ऊपर लगातार अध्ययन, अभ्यास व प्रयोग से जो नई जानकारी पता चलती है। उसे विज्ञान की नई खोज कहते हैं। आज हमारा विज्ञान काफी उन्नत हो गया है। इसकी सहायता से हम कई तरह की गणना कर सकते हैं। विज्ञान के क्षेत्र में खोज और शोध निरंतर जारी हैं। जिससे विज्ञान संबंधित ज्ञान में निरंतर बढोत्तरी होती जा रही है। विज्ञान कई Branches में बांटा गया है और उन Branches के भी विभिन्न Branches होते हैं। यानी विज्ञान वास्तविक, क्रमबद्ध व विशिष्ट ज्ञान का भंडार है। इसके Branches को हमने नीचे विस्तारपूर्वक वर्गीकृत किया है।

जरुर पढ़ें:-

विज्ञान की परिभाषा (Definition of Science in Hindi)

किसी विषय या वस्तु के वास्तविक, क्रमबद्ध, सुव्यवस्थित और विशिष्ट ज्ञान को विज्ञान कहते हैं। विज्ञान प्रेक्षणों तथा प्रयोगों द्वारा प्रमाणित होता है। जिसमें भौतिक जगत और प्रकृति के नियमों का अध्ययन किया जाता है। इससे वस्तु के प्रकृति, गुण और उसके व्यवहार को जानने में मदद मिलती है। इसलिए इस विशेष ज्ञान को विज्ञान कहा जाता है। विज्ञान कई शाखाओं में विभाजित है। जैसे; जीवविज्ञान, रसायनविज्ञान, भौतिकी इत्यादि।

विज्ञान दो शब्द वि और ज्ञान (वि+ज्ञान=विज्ञान) से मिलकर बना है। जिसका अर्थ विशिष्ट ज्ञान होता है। इससे साफ पता चलता है कि विज्ञान की अवधारणा विशेष ज्ञान से है। विज्ञान को इंग्लिश में Science कहते हैं। Science शब्द की उत्पत्ति लैटिन भाषा के Scientia (सांइटिया) शब्द से हुआ था। जिसका शाब्दिक अर्थ जानना होता है। इस प्रकार हम कह सकते हैं कि किसी भी वस्तु की जानकारी को क्रमबद्ध जानना या अध्ययन करना Science अर्थात विज्ञान है।

विज्ञान का संक्षिप्त परिभाषा (Short Definition of Science in Hindi)

किसी वस्तु के वास्तविक, क्रमबद्ध व विशिष्ट ज्ञान को विज्ञान कहते हैं।


विज्ञान के प्रकार (Types of Science in Hindi)

हम सबने अपने-अपने स्कूल में इस विषय को पढ़ा है। यह विषय चमत्कारों से भरा है। हम सब बचपन में चमत्कार या जादू को सच मानते थे और अपने Super Hero जैसा बनना चाहते थे। लेकिन वास्तविकता में ऐसा होता है या नहीं, पता नहीं। लेकिन विज्ञान की सहायता से हम चमत्कार कर सकते हैं। विज्ञान में ऐसे-ऐसे जानकारी मिलती है कि इसे और पढ़ने का मन करता है। ज्यादातर लोग Physics, Chemistry और Biology को विज्ञान का प्रकार समझते हैं। जिसका हिंदी अर्थ क्रमशः भौतिक विज्ञान, रसायन विज्ञान और जीव विज्ञान होता है।

हालांकि यह सभी विज्ञान के मुख्य शाखा है। इसी तरह विज्ञान के और भी कई शाखाएँ है। जैसे; खगोल विज्ञान। इन सभी के भी शाखाएं होती है। यहाँ आप विज्ञान के प्रकार को विस्तार से जानेंगे। आधुनिक विज्ञान को मुख्य रुप से तीन भागो में वर्गीकृत किया जाता है। क्योंकि ये तीन हमारे दुनिया व ब्रह्मांड की प्रकृति पर व्यापक विचार करते हैं। जो कि निम्नलिखित है।

  1. प्राकृतिक विज्ञान (Natural Science)
  2. समाजिक विज्ञान (Social Science)
  3. औपचारिक विज्ञान (Formal Science)

चलिए तीनों को विस्तार से जानते हैं कि किस शाखा में क्या अध्ययन किया जाता है।

1. प्राकृतिक विज्ञान

विज्ञान की वह शाखा जिसके अंतर्गत भौतिक जगत को अध्ययन किया जाता है। प्राकृतिक विज्ञान कहलाता है। प्राकृतिक विज्ञान को पूरे विज्ञान का आधार माना जाता है। असल में विज्ञान शब्द का उपयोग हमेशा प्राकृतिक विज्ञान के लिए होता है। इसलिए प्राकृतिक विज्ञान के शाखाओं के बारे में भी नीचे हमने बताया है। प्राकृतिक विज्ञान के मुख्य रुप से तीन निम्नलिखित शाखाएं है।

  1. जीव विज्ञान
  2. रसायन विज्ञान
  3. भौतिकी

2. समाजिक विज्ञान

विज्ञान की वह शाखा जिसके अंतर्गत दुनिया भर के मानव व्यवहार व समाज के कामकाज और उनके वातावरण का अध्ययन किया जाता है। समाजिक विज्ञान कहलाता है। समाजिक विज्ञान के मुख्य रुप से तीन निम्नलिखित शाखाएं है।

  1. अर्थ शास्त्र
  2. मनोविज्ञान
  3. समाजशास्त्र

3. औपचारिक विज्ञान

विज्ञान की वह शाखा जिसके अंतर्गत गणित और तर्क का अध्ययन किया जाता है। औपचारिक विज्ञान कहलाता है। औपचारिक विज्ञान के मुख्य रुप से तीन निम्नलिखित शाखाएं है।

  1. तर्क
  2. गणित
  3. सैद्धांतिक कंप्यूटर विज्ञान

प्राकृतिक विज्ञान की शाखा (Branches of Natural Science in Hindi)

असल में प्राकृतिक विज्ञान को ही विज्ञान समझा जाता है। प्राकृतिक विज्ञान विज्ञान का मूल शाखा है। इसके अंतर्गत विज्ञान की प्रमुख शाखा जैसे; Physics, Chemistry और Biology आता है। चलिए इनके बारे में भी जानते हैं। क्योंकि हम सभी Science को मूल रुप से Physics, Chemistry और Biology के संयोग को समझते हैं। इसलिए इन शाखाओं को जानना भी जरूरी है। तो चलिए जानते हैं।

1. भौतिक विज्ञान (Physics) क्या है?

विज्ञान की वह शाखा जिसके अंतर्गत वस्तु के भौतिक गुणों व ऊर्जाओं का अध्ययन किया जाता है। भौतिकी या भौतिकशास्त्र कहलाता है। यह विज्ञान की मूलभूत शाखाओं में से एक है। जो कि बहुत बड़ा और पुराना है। इसके अंतर्गत अनेक प्रकार के नियम और सिद्धांत जानने को मिलता है। इसमें मुख्य रुप से अंतरिक्ष व ब्रह्मांड के प्राकृतिक घटनाओं का विश्लेषण और अध्ययन होता है। अगर आपने भौतिकी का अध्ययन किया होगा। तब आपने Newton का नाम जरूर सुना होगा। ये भौतिकी के एक महान वैज्ञानिक हैं।

जिनका पूरा नाम Issac Newton है। इन्होंने ही गुरुत्वाकर्षण बल के बारे में सबसे पहले बताया था। भौतिकी के वैज्ञानिक को भौतिक शास्त्री कहते हैं। भौतिक शास्त्री हमेशा प्रयोग व अध्ययन कर नए नियम दुनिया के सामने लाते रहते हैं। भौतिक को इंग्लिश में Physics कहते हैं। Physics शब्द की उत्पत्ति ग्रीक भाषा के Fusis से हुआ है। जिसका शाब्दिक अर्थ प्रकृति (Nature) होता है।

2. रसायन विज्ञान (Chemistry) क्या है?

विज्ञान की वह शाखा जिसके अंतर्गत वस्तु के रसायनिक गुणों का अध्ययन किया जाता है। रसायन विज्ञान या रसायन शास्त्र कहलाता है। रसायन विज्ञान के वैज्ञानिक प्रकृति में मौजूद Chemical की खोज करते हैं। इसके अलावा Chemical को Combination कर एक नए Chemical को बनाया जाता है। जिसके गुण अलग भी हो सकते हैं। रसायन विज्ञान में इन्हीं Chemical के ऊपर Study और Research किया जाता है। इन Chemical पर Research का उद्देश्य मानव जाति के लिए उपयोगी Chemical बनाना है। इसमें हो रहे तेजी से विकास के कारण हमारी इस दुनिया में काफी बदलाव आया है। विभिन्न प्रकार के उपयोगी दवाओं का निर्माण हुआ है।

3. जीवविज्ञान (Biology) क्या है?

विज्ञान की वह शाखा जिसके अंतर्गत जीवों के बारे में अध्ययन किया जाता है। जीवविज्ञान कहलाता है। इसमें जीवों के शरीर की बनावट, प्रत्येक अंग की जानकारी, उनके कार्यप्रणाली, संरचना, उत्पत्ति और विकास इत्यादि के बारे अध्ययन होता है। हमारे इस दुनिया में विभिन्न प्रजाति के अनगिनत जीव है। आप इसी से अंदाजा लगा सकते हैं कि हर साल वैज्ञानिक सैकड़ो नए प्रजापति की खोज कर रहे हैं। इससे यह पता चलता है कि मात्र इस पृथ्वी पर ऐसे बहुत सारे जीव मौजूद है। जिसके बारे में हमें कुछ भी पता नहीं है।

जीवविज्ञान को इंग्लिश में Biology कहते हैं। Biology दो शब्द Bios और Logos से मिलकर बना है। Bios का अर्थ Life एवं Logos का अर्थ Study होता है। इस प्रकार जीवविज्ञान का अर्थ जीवन के बारे में अध्ययन करना होता है। जीवविज्ञान के दो शाखा होती है। वनस्पति विज्ञान और जन्तु विज्ञान जिसे प्राणी विज्ञान भी कहते हैं।

जैसा कि आपने ऊपर पढ़ा कि प्राकृतिक विज्ञान के तीन शाखा भौतिकी, रसायनविज्ञान और जीवविज्ञान होते हैं। उसी तरह भौतिकशास्त्र, रसायनशास्त्र और जीव विज्ञान के भी कुछ शाखाएं होती है। जिसकी जानकारी भी यहाँ हमने बता दिया है। लेकिन इन्हें विस्तार से किसी और लेख में पढ़ेंगे। चलिए अब विज्ञान के महत्व को देखते हैं।

विज्ञान का महत्व (Importance of Science in Hindi)

विज्ञान के कारण हम मनुष्यों की जिंदगी पूरी तरह से बदल गया है। इन बदलाव के कारण ही हम मनुष्यों का जीवन आसान और आरामदायक भी हुआ है। आज हम मनुष्य लगभग सभी क्षेत्र में विज्ञान से जुड़े हुए हैं। ऐसा कोई क्षेत्र नहीं जो विज्ञान से अछूता हो।चाहे वह कोई भी या किसी भी तरह का क्षेत्र हो। वर्तमान समय में हम मनुष्य विज्ञान पर पूरी तरह निर्भर हैं। इसके बिना लगभग कोई काम नहीं कर सकते हैं। आपके हाथ में जो मोबाइल, लैपटॉप या कंप्यूटर है। वह भी विज्ञान का ही चमत्कार है। क्या आप पाँच किलोमीटर चलना चाहेंगे। नहीं न! क्योंकि आज हमारे पास यातायात के कई साधन है। जैसे; साइकिल, मोटरसाइकिल, कार, ट्रेन इत्यादि।

लेकिन पहले के समय में सभी लोग मिलो दूर तक पैदल जाते और आते थे। घर बनाने में Cement Mixer Machine का इस्तेमाल होता है। यह भी विज्ञान की देन है। आज खेतो में काम करने वाले मशीन भी आ चुके हैं। यह सभी विज्ञान की देन है। ऐसे बहुत सारे विज्ञान प्रदत्त यंत्र है। सभी को बता पाना संभव नहीं है। आज खेत जोतने के लिए ट्रैक्टर व पावर ट्रैक्टर का इस्तेमाल होता है। जो कि विज्ञान की देन है। अगर आपको इसके बिना खेत जोतने के लिए बोला जाए। तब पसीना छूट जाए। फिर भी खेत न जुताएगी। इससे आप विज्ञान के महत्व को समझ सकते हैं। फिर भी हम आपको विभिन्न क्षेत्रों में इसके योगदान का वर्णन करेंगे। जिससे आप विज्ञान के महत्व को समझ जाएंगे।

1. शिक्षा के क्षेत्र में विज्ञान

एक जमाना था जब शिक्षा प्राप्त करने के लिए घर से दूर किसी गुरुकुल में जाना पड़ता था। वहीं रहना और शिक्षा ग्रहण करना होता था। ऐसा आपने टीवी पर जरूर देखा होगा। लेकिन विज्ञान ने इसे पूरी तरह बदल कर रख दिया है। आज हम घर बैठे अपने स्मार्टफोन, कंप्यूटर या लैपटॉप से किसी भी तरह का पढ़ाई कर सकते हैं। आजकल तो ऑनलाइन शिक्षा प्राप्त करने के साथ-साथ डिग्री भी प्रदान किया जा रहा है। विज्ञान के कारण ही शिक्षा के क्षेत्र में डिजिटल क्रांति आया है। हालांकि अभी भी क्लास रुम के जरिए पढ़ाया जाता है।

जिसमें सभी विद्यार्थी एक साथ एक रुम में बैठकर पढ़ते हैं। इन्हें पढ़ाने के लिए शिक्षक इनके समझ उपस्थित होते हैं। यह थोड़ा बहुत गुरुकुल जैसा ही है। लेकिन उस समय गुरुकुल में ही रहना पड़ता था। जबतक शिक्षा समाप्त न हो जाए। आजकल क्लास रुम में भी डिजिटल बोर्ड का इस्तेमाल हो रहा है और यह सब विज्ञान के कारण ही संभव हुआ। सिर्फ स्मार्टफोन, कंप्यूटर, लैपटॉप या डिजिटल बोर्ड ही नहीं, बल्कि आपका पेन भी विज्ञान की देन है।

जानें: ऑनलाइन पढ़ाई कैसे करें?

2. चिकित्सा के क्षेत्र में विज्ञान

चिकित्सा का क्षेत्र विज्ञान से अछूता कैसे रह सकता है। विज्ञान चिकित्सा के क्षेत्र में भी खुब तरक्की की है। चूँकि चिकित्सा पद्धति बहुत पहले से चली आ रही है। लेकिन पहले इतने आधुनिक तकनीक नहीं थे। आज हम मनुष्य भयानक से भयानक रोगों से ग्रस्त होने के बाद भी मौत के मुंह से बच जाते हैं। इन सब का मुख्य श्रेय विज्ञान को ही जाता है। विज्ञान के कारण ही आज हमारे पास एक्स-रे, अल्ट्रासाउंड टेस्ट, एंजियोग्राफी, सिटी स्कैन जैसे कई चिकित्सा संबंधी मशीनें हैं।

जो चंद मिनटों में मानव शरीर को स्कैन कर उसके रोगों के बारे में बता सकता है। जिससे हमारे डॉक्टर्स को हमारे शरीर के रोग व समस्याओं को समझने में मदद मिलती है। जिसके कारण वे रोग का तुरंत उपचार करना संभव होता है। चिकित्सा के क्षेत्र में विज्ञान ने सिर्फ कुछ मशीनें नहीं बल्कि दवाईयाँ, सीरिंज, इंजेक्शन इत्यादि बहुत कुछ दिया है और इसपर निरंतर शोध जारी है। विज्ञान के कारण ही विभिन्न प्रकार की ऑपरेशन, सर्जरी और ट्रांसप्लांट संभव होता है। जैसे; आँखो का ऑपरेशन

3. संचार के क्षेत्र में विज्ञान

एक जमाना था जब सुचना या संदेश को एक स्थान से दूसरे स्थान तक पहुंचाने के लिए पशु-पक्षी का उपयोग करते थे। या फिर खुद जाना पड़ता था। इसमें समय बहुत ज्यादा लगता था। क्योंकि उस समय तो यातायात का कोई साधन भी तो नहीं था। लेकिन आज हम चंद सेकंड में अपने संदेश को एक जगह बैठे मीलों दूर तक भेज सकते हैं। जी हाँ, हम टीवी, टेलीफोन, रेडियो, फैक्स, ईमेल और मोबाइल की बात कर रहे हैं। यह सभी विज्ञान का ही देन है। जैसे-जैसे हमारा विज्ञान विकसित कर रहा है।

वैसे-वैसे हमारे संचार करने का तरीका भी बदल रहा है। पहले एक छोटे से फोन पर आपस में बात कर पाते थे। विज्ञान और विकास किया। जिसके कारण अब हम स्मार्टफोन से वीडियो कॉलिंग कर सकते हैं। जितने भी कृत्रिम उपग्रह है। वे सभी संचार के क्षेत्र में व्यापक बदलाव लाया है। आज हमें घर बैठे दुनियाभर की नई-नई खबरे प्राप्त हो जा रही है। संचार के क्षेत्र में इंटरनेट अधिक सफलता प्राप्त किया है।

4. मनोरंजन के क्षेत्र में विज्ञान

मनोरंजन के क्षेत्र में विज्ञान की महत्वपूर्ण भूमिका है। इसी के कारण आज मनोरंजन के अनेको साधन सृजन हो चुके हैं। जैसे; टीवी, रेडियो, विडियो गेम और चलचित्र इत्यादि। विज्ञान मनोरंजन के क्षेत्र में अपनी भूमिका दे कर मनोरंजन को पूरी तरह बदल दिया है। जहाँ पहले के समय में बच्चे मनोरंजन के लिए आपस में कोई शारीरिक रुप से खेल खेला करते हैं। वहीं आज सब अपने-अपने घर से ही उन खेलों को वर्चुअल रुप से खेल सकते हैं। फिलहाल मनोरंजन के साधन के बदल चुके हैं। जिसमें बड़े लोग भी दिलचस्पी दिखा रहे हैं।

5. यातायात के क्षेत्र में विज्ञान

पहले के समय में लंबी और दूर की यात्रा करने में मनुष्य को महिने लग जाते थे। कभी कभी वर्षो तक यात्रा करते थे। फिर भी अपने गंतव्य स्थान तक नहीं पहुंच पाते थे। क्योंकि पहले पैदल ही चलना पड़ता था। फिर बैलगाड़ी और ऊँट जैसे पशुओं को यातायात के साधन बनाया गया। इससे दूर की यात्रा आसान तो हुआ। लेकिन फिर भी समय बहुत ज्यादा लगता था। वहीं आज देख लिजिए आज साइकिल, मोटरसाइकिल, कार, बस, ट्रेन, ट्रक और जहाज जैसे कई यातायात के साधन उपलब्ध है। जिससे छोटी यात्रा के साथ बड़ी-बड़ी यात्राओं को मात्र चंद घंटो में पूरा किया जा सकता है। आज हवाई जहाज की मदद से कुछ घंटो में एक देश से दूसरे देश पहुंच जाते हैं। यह सब विज्ञान के कारण संभव हुआ है। यातायात में उन्नति होने से व्यापार के क्षेत्र भी में भी असीम उन्नति हुआ है।

6. उद्योग के क्षेत्र में विज्ञान

आज आप किसी भी उद्योग को देख लिजिए। वहाँ आपको ऐसे कई मशीन देखने को मिलेंगे। जिससे कार्य तेजी से हो पाता है। विज्ञान के कारण ही उद्योगों में बड़े-बड़े मशीनों का निर्माण कार्य संभव हुआ है। विज्ञान के कारण कल कारखानो का निर्माण हुआ। जिसके कारण कम मेहनत, समय और सस्ते मूल्यों में वस्तु उपलब्ध हो रही है।

7. कृषि के क्षेत्र में विज्ञान

कृषि के क्षेत्र में विज्ञान का महत्व कम नहीं हैं। आज कृषि क्षेत्र भी विज्ञान पर निर्भर है। विज्ञान के कारण ही किसान को उत्तम बीज, रासायनिक खाद, कीटनाशक, पानी पंपिंग, ट्रैक्टर, बिजली, सीडीएस और हार्वेस्टिंग मशीन जैसे कई विकसित तकनीक मिली है। जिसकी वजह से कृषि करना पहले से बहुत आसान हुआ है।

8. रक्षा के क्षेत्र में विज्ञान

सर्वप्रथम मानव जाति ने खुद की सुरक्षा के लिए पत्थरों और लकड़ियों का उपयोग किया। लेकिन समय के साथ विकास का दौर शुरू हुआ। जिसके पश्चात छोटे-छोटे बंदूक और पिस्तौल आया। लेकिन आज विज्ञान इतना विकसित हो चुका है कि इसने बड़े-बड़े हथियार बना लिए हैं। जैसे; मिसाइल, परमाणु या हाइड्रोजन बम इत्यादि आधुनिक और पावरफुल हथियार है। इसके अलावा भी रक्षा में अनेको तकनीक का उपयोग किया जाता है। इस तरह रक्षा के क्षेत्र में भी विज्ञान का महत्व कम नहीं है।

9. दैनिक जीवन में विज्ञान

आज के समय में हम मनुष्यों का दिनचर्या (सुबह से शाम तक) वैज्ञानिक उपकरणों को उपयोग करते रहते हैं। जैसे; फ्रीज, कूलर, एसी, घड़ी, लाईट बल्ब, साबुन इत्यादि। इस तरह के अनेक चीजो को हम अपने दैनिक जीवन में उपयोग करते हैं। जो पूर्ण रुप से विज्ञान पर आधारित होता है। हमारे दैनिक जीवन की वह छोटी सी सूई हो या वह बड़ा सा मोटरगाड़ी सब विज्ञान पर आधारित है। आज के समय में हमारे चारो तरफ विज्ञान किसी न किसी रूप में मौजूद है। विज्ञान की ही देन है कि आज हमारा दैनिक जीवन और अधिक सुखमय हो गया है। आज विज्ञान की वजह से कपड़े धोना, प्रेस करना या भोजन पकाना, सर्दी में गर्मी तथा गर्मी में सर्दी महसूस करना और गर्मी में ठंडी पानी करना सब आसान है। इसके लिए विज्ञान ने हमे वो सभी सुविधाएँ दी है।

बिजली, बल्ब, पंखे, टीवी, रेडियो, फ्रीज, गाड़ी, जहाज, हवाई जहाज सब विज्ञान की देन है। चलिए जानते हैं कि विज्ञान का क्या उद्देश्य होता है।

विज्ञान के उद्देश्य (Purpose of Science in Hindi)

विज्ञान का निम्नलिखित उद्देश्य है।

  • परंपरागत रुप से विज्ञान का मुख्य उद्देश्य ज्ञान और समझ का निर्माण करना है। ताकि मानव जाति का विकास और कल्याण हो। मानव जाति के कल्याण और विकास के लिए ही वैद्य और विश्वसनीय ज्ञान उत्पन्न करना है।
  • मनुष्य को सदैव प्राकृतिक रहस्यों को जानने की जिज्ञासा रही है। विज्ञान का उद्देश्य प्रकृति के नियमों की अध्ययन करना और इसकी कार्यशैली को समझना है।
  • विज्ञान का उद्देश्य मानव जाति की समस्याओं का हल ढूंढना है। ताकि मानव जाति का जीवन सुखद और उत्कृष्ट हो।
  • विज्ञान का एक और मुख्य उद्देश्य समाज के रीति-रिवाज एवं परम्पराओं का वैज्ञानिक तरीके से जानना और अंधविश्वास को दूर करना है।

जिससे हमे बहुत ज्यादा लाभ होता है। उसके कुछ न कुछ हानि भी होती है। विज्ञान का उद्देश्य मानव जाति का कल्याण करना है। लेकिन फिर इसके नुकसान है। इसलिए चलिए जानते हैं कि विज्ञान के लाभ और हानि क्या-क्या है।

विज्ञान के लाभ (Advantage of Science in Hindi)

विज्ञान के लाभ निम्नलिखित है।

  • आज विज्ञान के कारण किसी भी सफर को कम से कम समय में पूरा किया जा सकता है। क्योंकि विज्ञान ने हमें एक से बढ़कर एक यातायात के साधन दिए हैं। जिसपर सवार होकर हम कहीं भी आ जा सकते हैं।
  • विज्ञान के बदौलत ही टीवी रेडियो, स्मार्टफोन, कंप्यूटर जैसे यंत्र बने हैं। इससे छोटे-बड़े सभी अपना मनोरंजन कर सकते हैं।
  • विज्ञान ने हमारी इस दुनिया को बहुत छोटा बना दिया है। पहले दूर रहने वाले दोस्तो और परिजनो से कुछ बात करने के लिए चिठ्ठी भेजना पड़ता था। जिसे अपने गंतव्य तक पहुंचने में महिने लग जाते थे। लेकिन आज इंटरनेट और स्मार्टफोन की सहायता से Face 2 Face बात कर सकते हैं। मानो व्यक्ति आपके सामने हो। अब तो इंटरनेट वर्चुअल की तरफ बढ़ रहा है। जिससे दूर स्थित व्यक्ति भी पास है। इस तरह का अनुभव मिलेगा और दिल खोल बात कर सकते हैं। यह सब विज्ञान की बदौलत है।
  • विज्ञान ने अपना चमत्कार चिकित्सा के क्षेत्र में भी दिखाया है। जिसकी बदौलत रोगों का पता बहुत जल्दी लगाया जा सकता है।
  • विज्ञान का सबसे बड़ा और महत्वपूर्ण लाभ यह है कि इससे मानव जाति का जीवन आसान हो रहा है। विज्ञान का जहाँ भी उपयोग हो रहा है। वहाँ मानव जाति की आरामदायक जिंदगी है। उदाहरण के तौर पर आप खुद सोचिए कि जब पंखे, कूलर और एसी नहीं होते। तब गर्मी में हमारा जिंदगी कैसा होता है।

उम्मीद है कि आप विज्ञान के लाभ तो समझ गए होंगे। अब महत्वपूर्ण है इसके हानि को समझना। तो चलिए विज्ञान के हानि के बारे में जानते हैं।

विज्ञान के हानि (Disadvantage of Science in Hindi)

विज्ञान के हानि निम्नलिखित है।

  • आज विज्ञान इतना विकसित हो गया है कि इसकी बदौलत ऐसे-ऐसे खतरनाक कैमिकल बनाए जा रहे हैं। जिनके इस्तेमाल से विभिन्न प्रकार के रोग और पाचनतंत्र भी खराब हो रहा है। क्योंकि ज्यादातर इन कैमिकल का उपयोग खाद्य पदार्थो में किया जाता है।
  • आज विज्ञान के बदौलत ऐसे बहुत सारे हथियार बन चुके हैं। जिससे कि पूरी मानवता तबाह हो सकता है। दूसरे World War तक विज्ञान इतनी तरक्की नहीं किया था। लेकिन आज हमारे पास परमाणु हथियार है। यानी अगर तीसरा World War हुआ। मतलब समझ लो…
  • समाज में विज्ञान की एक और महत्वपूर्ण हानि देखने को यह मिल रही है कि अब लोगों में पहले की अपेक्षा भावना कम होती जा रही है। इसका भी मुख्य श्रेय विज्ञान को ही जाता है। विज्ञान के बदौलत ऐसे-ऐसे यंत्र बनाये जा चुके हैं कि लोगों की रिश्तो से दूरी होती जा रही है।
  • विज्ञान का दुरुपयोग – यह विज्ञान का सबसे बड़ा और महत्वपूर्ण हानि है। आज विज्ञान के बदौलत ऐसे हथियार भी बन चुके हैं। जिससे पूरी दुनिया को तबाह कर सकते हैं और खतरनाक कैमिकल भी बनाये जा रहे हैं। इससे आप खुद सोच सकते हैं कि अगर गलत हाथो में विज्ञान जाएगा। तब क्या हो सकता है। चूँकि विज्ञान का अध्ययन बहुत आसान हो चुका है। कोई भी विज्ञान का अध्ययन कर सकता है। इसलिए गलत हाथो में High Technology जाना दूसरो के लिए भी खतरा बन सकता है।

ज्ञान और विज्ञान में अंतर (Knowledge VS Science in Hindi)

जब हमें किसी विषय या वस्तु की जानकारी होती है। तब हम उसे ज्ञान कहते हैं। लेकिन अगर वही ज्ञान सत्यापित हो। तब हम उसे विज्ञान कहते हैं। किसी तथ्य को सत्यापित करने के लिए जिस विधि का प्रयोग होता है। उसे वैज्ञानिक विधि कहते हैं। चलिए हम कुछ तथ्य बताते हैं। जिससे ज्ञान और विज्ञान के बीच अंतर स्पष्ट हो जाएगा।

पढ़ें: ज्ञान क्या है?

ज्ञानविज्ञान
ज्ञान का अर्थ जानना, बोध और अनुभव आदि होता है।विज्ञान का अर्थ – विशिष्ट ज्ञान होता है।
ज्ञान शब्द ‘ज्ञ’ धातु से बना है।विज्ञान शब्द वि और ज्ञान से मिलकर बना है।
किसी वस्तु (जो हमारे आसपास है) के स्वरूप का अर्थात जैसा वह है, उसे वैसे ही जानना, अनुभव और बोध होना उस वस्तु का ज्ञान कहलाता है।किसी वस्तु या विषय की व्यवस्थित व विशिष्ट ज्ञान विज्ञान कहलाता है।
ज्ञान और विज्ञान में अंतर

विज्ञान संबंधित महत्वपूर्ण प्रश्न और उत्तर (FAQ)

1. विज्ञान किसे कहते हैं?

प्रयोगों तथा प्रेक्षणों पर आधारित प्रकृति व भौतिक जगत के सुव्यवस्थित, क्रमबद्ध और विशिष्ट ज्ञान को विज्ञान कहते हैं।

2. विज्ञान शब्द की उत्पत्ति कैसे हुई?

विज्ञान को अंग्रेजी में Science कहते हैं और Science शब्द की उत्पत्ति लैटिन भाषा के Scientia शब्द से हुआ है। जिसका अर्थ जानना होता है।

3. विज्ञान के जनक किसे कहा जाता है?

Galileo Galilei को आधुनिक विज्ञान का पिता कहा जाता है। जिनका जन्म 15 फरवरी 1964 को हुआ था।

इसे भी पढ़िए:-

Conclusion – Science in Hindi

जैसा कि मैंने पहले ही बताया है कि विज्ञान एक बहुत बड़ा Chapter है। जिसके कारण इसे कई शाखा में बांट दिया है। तब इस एक लेख में पूरी विज्ञान बताना संभव नहीं है। हम एक लेख में सिर्फ विज्ञान का Introduction दे सकते हैं। यहाँ हमने विज्ञान का विस्तृत Introduction देने की पूरी कोशिश किया है। हम उम्मीद करते हैं कि यह लेख आपको पसंद आया होगा। इस लेख के माध्यम से आपने जाना की विज्ञान क्या है, विज्ञान के प्रकार, विज्ञान की शाखा, विज्ञान का महत्व और विज्ञान का उद्देश्य इत्यादि क्या होता है।

मुझे उम्मीद है कि आपको विज्ञान की यह Introduction पसंद आया होगा और विज्ञान की महत्वपूर्ण जानकारी जानने को मिला होगा। इस लेख में हमने निम्नलिखित Queries पर बताया है। इसलिए इस पर अलग से बताने की आवश्यकता नहीं है। फिर भी अगर आप कुछ पूछना चाहते हैं। तब बेझिझक पूछ सकते हैं।

  • विज्ञान किसे कहते हैं?
  • विज्ञान क्या है? परिभाषा
  • विज्ञान कितने प्रकार के होते हैं?
  • विज्ञान का महत्व बताइए?
  • विज्ञान का उद्देश्य क्या है?
  • वैज्ञानिक ज्ञान क्या है?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to top