Menu Close

Router क्या है? इसके प्रकार, भाग और उपयोग

Router क्या है? – Router से आप क्या समझते हैं। क्या आप जानते हैं कि Router क्या होता है। आप Modem को तो जानते ही होंगे। यह एक Networking Device है। जो Digital Signal को Analog और Analog Signal को Digital Signal में बदलकर टेलीफोन लाइन के माध्यम से संचार स्थापित करने में सक्षम बनाता है। क्योंकि Computer सिर्फ Digital Signal को समझता है और Telephone Line Analog Signal को समझता है। इसलिए Computer Network से संचार स्थापित करने के लिए एक ऐसे युक्ति की आवश्यकता होती है।

• Ad

जो Digital Signal को Analog और Analog Signal को Digital Signal में बदल सके। जिसकी पूर्ति Modem के द्वारा हो जाता है। लेकिन एक Computer Network में इसके अलावा एक और महत्वपूर्ण युक्ति की आवश्यकता होती है। जिसे Router कहते हैं। आपने कभी ना कभी Router का नाम भी जरूर सुना होगा। लेकिन क्या आप जानते हैं कि Router क्या होता है और Computer Network में इसका क्या कार्य होता है? Computer Network के लिए यह क्यों महत्वपूर्ण होता है। अगर आपको भी Router के बारे में कुछ भी पता नहीं है। तब इस लेख को अंत तक जरूर पढ़ें।

क्योंकि इस लेख में हमने Router की पूरी जानकारी बताया है। जिसमें बताया है कि Router क्या है, Router कैसे काम करता है। यानी इस लेख को अंत तक पढ़ने के बाद आपको Computer Network की एक महत्वपूर्ण युक्ति की पूरी जानकारी प्राप्त हो जाएगा। इसके पहले लेख में हमने Modem की पूरी जानकारी बताया था। इसलिए अगर आपको Modem की भी जानकारी नहीं है। आपको पता नहीं है कि Modem क्या होता है? तब उस लेख को भी जरुर पढ़ें। यहाँ इस लेख में आप Router के बारे में जानेंगे। तो चलिए सबसे पहले जानते हैं कि Router क्या है?

विस्तृत जानकारी

Router क्या है? (What is Router in Hindi)

Router भी Modem की तरह एक प्रमुख Networking Device है। जो कई Computer Networks को आपस में जोड़ने का काम करता है। यह OSI Model के तीसरे स्तर यानी Network Layer के अंतर्गत आता है। साथ ही यह दूसरे स्तर के उपकरणों के बीच सेतु (Bridge) का काम भी करता है। इसका प्रयोग एक Network को दूसरे Network के साथ Connect करने के लिए किया जाता है। ताकि Networks आपस में संचार स्थापित कर सके। किसी Computer Network को Internet से जोड़ने के लिए Router का Modem से Connect होना भी आवश्यक होता है। इसलिए अधिकांश Router में एक विशेष Ethernet Port मौजूद होते है।

• Ad

जिसके जरिए Modem को Router के साथ Connect किया जाता है। आमतौर पर Router को Modem और Network के बीच रखा जाता है। Router में एक Dedicated CPU और Memory होता है। जो कि PC के मुकाबले काफी कम होता है। लेकिन एक Router को सही से कार्य करने के लिए काफी होता है। इसमें एक Embedded Operating System भी होता है। जो कि Router को निर्देशित करता है और कार्य करने के लिए सक्षम बनाता है। आपके जानकारी के लिए बता दे कि Internet पर डेटा, Packets के रुप में विभाजित होकर एक Network से दूसरे Network या एक Computer से दूसरे Computer तक Travel करती है। Router इन Packets को सही Destination तक पहुंचने का मार्ग (Shortest Path) बताता है।

जब Router डेटा Packets को Receive करता है। तब सबसे पहले उस Packets को Analyze करता है। चूँकि Packets में Source और Destination की Information भी होती है। जिससे Router को पता चलता है कि Packets को जाना कहाँ है। जिसके बाद Router उसको Destination के लिए Forward कर देता है। यह Packets को Forward करने के लिए अच्छे रास्ते (Best Path) का इस्तेमाल करता है। इसके इस बुद्धिमत्ता (Intelligence) के कारण इसे Intelligent Device भी कहा जाता है। Cisco, 3Com, D-Link, Juniper और HP आदि Router निर्माता कंपनी है। जो Router का निर्माण करती है।

जरुर पढ़ें:-

Router के कार्य (Functions of Routers in Hindi)

मुख्य रूप से Router के निम्नलिखित दो कार्य होते हैं।

  • Forwarding – सबसे पहले तो जब Router डेटा Packets को Receive करता है। तब Analyze वगैरह बुनियादी कार्य करने के बाद डेटा Packets को Forward कर देता है। यह इसका पहला कार्य है।
  • Routing – Router का दूसरा और महत्वपूर्ण कार्य Routing करना है। यह Router द्वारा चलाई जाने वाली एक प्रक्रिया है। जिसमें डेटा Packets को Destination तक पहुंचाने के लिए Best Path निर्धारित करता है।

चलिए अब जानते हैं कि Router कैसे काम करता है?

Router कैसे काम करता है? (How Works Router in Hindi)

जैसा कि आपने जाना की Router डेटा Packets को एक Network से दूसरे Network में Forward करता है। जिससे डेटा Packets अपने Source से Destination तक पहुंचते हैं। लेकिन क्या आप जानते हैं कि Router कैसे काम करता है। यह कैसे डेटा Packets को Source से Destination तक पहुंचाते हैं। सामान्यतः एक Router का मुख्य काम डेटा Packets को Receive करना, उसे Analyze करना और उसे सही Destination के लिए Forward करना होता है।

उदाहरण से समझते हैं – जब आप अपने किसी दोस्त को WhatsApp के जरिए मेसेज, फोटो या विडियो भेजते हैं। तब वह डेटा कई Packets में विभाजित होकर Travel करते हुए आपके दोस्त के कंप्यूटर तक पहुंचता है। ऐसा सिर्फ WhatsApp के साथ नहीं बल्कि सभी से होता है। इसे आप Internet का एक नियम समझ सकते हैं। जिसके अनुसार डेटा Packets के रुप में Travel करती है। Router इन Packets को सही Destination तक पहुंचने का मार्ग बताता है। जब हम इंटरनेट पर किसी के साथ डेटा शेयर करते हैं। तब डाटा Packets सबसे पहले पास के Router को जाती है। अब Router अपने Routing Protocol से Routing Table को Check करता है।

Routing Table में आसपास के सभी Router का Address और Path Distance होता है। फिर वह Router भी उस डेटा Packets को पास वाले Router को Forward करता है। अगले Router के पास Packets पहुंचते ही, वह Router भी Shortest Path Check कर अगले Router को Forward कर दिया जाता है। इसी तरह वह डेटा Packets अपने Destination या Receiver Computer के Router तक पहुंच जाती है। जिसके बाद वह Router Computer को Forward कर देता है।

एक Router बहुत सारे Computer Network को आपस में जोड़ता है। उनके बीच Communication Establish कराता है। साथ में वह अपने Routing Table को Maintain भी करता है। इसे अपने आसपास के Router की जानकारी होता है। Routing Protocol एक Protocol ही है। जिसका पालन सभी Router करते हैं। जिससे वो सभी आपस में Communication करते हैं और Connected Network की Information को आपस में Share करते हैं। कुछ इस तरह का काम Router को करना होता है। तब जाकर Internet या अन्य Computer Network सुचारू रूप से कार्य करते हैं।

आसान भाषा में समझें – आप डेटा Packets को Parcel तथा Router को Courier Boy समझ सकते हैं। जो Parcel को Destination तक पहुंचाता है। जैसे; Courier Boy Parcel पर लिखे Address की मदद से Parcel के Destination तक पहुंचाता है। उसी तरह Router भी Packets को Analyze कर के Destination Device का Address पता करता है।

Routing Table क्या है? (What is Routing Table in Hindi)

उम्मीद है कि आपको समझ आ गया होगा कि एक Router क्या होता है और यह कैसे काम करता है। चूँकि ऊपर हमने बताया Router कैसे काम करता है। जिसमें हमने Routing Table का जिक्र किया था। क्या आपको पता है कि Router में Routing Table क्या होता है। या फिर Routing Table का क्या काम होता है। चलिए जानते हैं – Routing Table, जैसा कि इसके नाम से ही समझ सकते हैं कि यह एक Table है। जिसमें डेटा Packets को किस दिशा Share करना है। इसकी जानकारी निर्धारित होता है। यानी Routing Table बहुत सारे Rules से बना होता है।

Packets को अच्छा रास्ता (Path) चयन करने के लिए Routing Table का उपयोग किया जाता है। क्योंकि Routing Table में वो सभी जानकारी होती है। जिससे डेटा Packets को Destination तक भेजने के लिए एक Best Path चयन किया जा सके। Router को Packets Receive होने के बाद सबसे पहले Packets को Analyze करता है। प्राप्त Information को Routing Table के साथ Match किया जाता है। जिससे Packets की Best Path का निर्धारण होता है। एक Routing Table में निम्नलिखित जानकारी होती है।

  • Destination Packets को कहाँ किस Device पर भेजना है। उसकी जानकारी
  • Next Stop – अगले Router का IP Address
  • Interface – Packets के Network Interface की जानकारी
  • Metric – Routing Table में जितने Router दर्ज होते हैं। उनका Cost जानना। इसे जानने से Packets को कम खर्चे में भेज जा सकता है।
  • Routes – इसमें Routers के साथ Connected Network या दूसरे Device और उनके Route की जानकारी होती है।

Router के भाग (Router Components in Hindi)

एक Router विभिन्न प्रकार के Components से मिलकर बना होता है। यहाँ हमने Router के प्रमुख Components की जानकारी विस्तार से बताया है। Router के प्रमुख Components निम्नलिखित है।

  1. CPU
  2. Flash Memory
  3. Non-Volatile RAM
  4. RAM
  5. Network Interface
  6. Console

तो चलिए इन Components के बारे में जानते हैं।

1. Central Processing Unit (CPU)

जिस तरह एक Computer में CPU यानी Central Processing Unit होता है। उसी तरह Router का भी अपना एक CPU होता है। इसे आप Router का दिमाग (Brain) समझ सकते हैं। यही Router में Processing का कार्य करता है। अर्थात Operating System को चलाता है और Operating System Router के सभी Components को संचालित करते हैं। Junos और Cisco IOS Router में इस्तेमाल होने वाले Operating System है। Junos का इस्तेमाल Juniper Routers तथा Cisco IOS का इस्तेमाल Cisco Routers को RUN करने के लिए होता है।

2. Flash Memory

Router में एक Flash Memory होता है। जिसमें Routing Algorithm, Routing Protocol, Routing Table संग्रहित होता है। इस Memory को आप अपने Computer के Hard Disk से Compare कर सकते हैं।

3. Non-Volatile RAM

Router में एक Permanent RAM भी होता है। जिसमें System से जुड़े Program जैसे; Operating System का Backup और Bootup Version संग्रहित होता है। जब भी Router Boot होता है। तब इसी Memory से Program Load होते हैं।

4. RAM

किसी भी Electronic Device के लिए RAM एक महत्वपूर्ण Components होता है। जब Router को Boot किया जाता है। तो Operating System इसी Memory में Load होता है। जिसके बाद Router अपना कार्य शुरू करता है

5. Network Interface

Router में बहुत सारे Network Interface होते हैं। जिससे Router को Network से Connect किया जाता है।

6. Console

Router को Manage और Configure करने के लिए Console का इस्तेमाल किया जाता है। क्योंकि Configuration और Troubleshooting कमांड Console से ही दिए जाते हैं।

तो ये थे कुछ Router के प्रमुख Components. जो लगभग सभी प्रकार के Router में देखने को मिलता है। इंटरनेट के लोकप्रिय होने के बाद Router भी आम हो गया है। जो हमारे घरों और ऑफिस में पाई जाने वाली टेक्नोलॉजी में से एक है। सामान्यतः हमारे घरों में जिस Router का इस्तेमाल होता है। वह ज्यादातर Wireless Router होते हैं। क्या आपको पता है कि Wireless Router क्या होते हैं। कुल कितने प्रकार के Router होते हैं। कोई नहीं, चलिए जानते हैं Router कितने प्रकार के होते हैं।

Router के प्रकार (Types of Router in Hindi)

आपको Market में विभिन्न प्रकार के Router देखने को मिल जाएगा। जिसे कार्य और इस्तेमाल के मुताबिक अलग अलग किया जाता है। यहाँ हमने Router के चार प्रमुख Router के बारे में बताया है।

  1. Wired Router
  2. Wireless Router
  3. Edge Router
  4. Core Router

चलिए Router के इन चार प्रकारों को विस्तार से जानते हैं।

1. Wired Router क्या है?

एक Wired Router आमतौर पर Box के आकार का होता है। यह Router दो या दो से अधिक Computer को आपस में Wired Line के माध्यम से Connect करने में सक्षम होता है। इसमें एक विशेष पोर्ट Router को Modem के साथ Connect करने के लिए बना होता है। कुछ Wired Router में फैक्स मशीन और टेलीफोन पर डेटा Packets वितरित करने के लिए भी पोर्ट बने होते हैं। Wired Router की मदद से Mobile Phone को इंटरनेट से जोड़ना काफी मुश्किल है। इसी तरह के Wired Router की कमियों के कारण Wireless Router का आविष्कार किया गया।

2. Wireless Router क्या है?

आजकल Wireless Router का इस्तेमाल अधिक किया जा रहा है। इसका सबसे बड़ा फायदा यह है कि इसे Computer के साथ Connect करने के लिए किसी प्रकार के Wired की आवश्यकता नहीं होती है। इससे हम अपने कई Smartphone और Computer System को एक निश्चित दूरी के अंदर आपस में Connect कर सकते हैं। क्योंकि यह Router एक निश्चित दूरी तक Wireless Signal Create करता है। जिसके अंदर कोई भी Computer, Laptop और Smartphone जैसी Device को Connect कर सकता है। इसलिए इसे सुरक्षित रखने के लिए आप इसमें Password का भी इस्तेमाल कर सकते हैं। ज्यादातर Wireless Router का इस्तेमाल School, College, Office और घरों में होता है।

3. Edge Router क्या है?

यह एक विशेष प्रकार का Router है। इस प्रकार के Router का उपयोग बाहरी Protocol में सामंजस्य स्थापित करने के लिए करते हैं। इसे ISP (Internet Service Provider) के किनारे रखा जाता है। ताकि बाहरी Protocols जैसे; BGP (Boarder Gateway Protocol) को दुसरे ISP के BGP के साथ Configure करना।

4. Core Router क्या है?

जैसा कि इसके नाम से समझने की कोशिश कर सकते हैं। इसका इस्तेमाल बड़े Office अथवा Company में किया जाता है। जहाँ कई Router का इस्तेमाल होता है। क्योंकि यह अलग अलग स्थित कई Router को आपस में जोड़ने के लिए उपयोग किया जाता है। जैसे; यह Router किसी कंपनी के अलग अलग कई Routers को जोड़कर आपस में काम करता है।

Router के उपयोग (Use of Router in Hindi)

क्या आप यह सोच रहे हैं कि कंप्यूटर नेटवर्क में Router के उपयोग क्या होते हैं? मुझे नहीं लगता कि अभी भी आपको ऐसा प्रश्न आ रहा होगा। क्योंकि अब तक आपने Router के बारे में जितना पढ़ा है। उससे आप यह तो समझ ही गए होंगे कि Router क्या है, Router के कार्य क्या हैं और Router को क्यों उपयोग किया जाता है। यानी एक Router का क्या काम होता है? लेकिन फिर भी यहाँ हम आपको Router के उपयोग की विस्तृत जानकारी देंगे। ताकि Router को लेकर आपको कोई Confusion न हो कि इसका कहाँ, क्यों और कैसे उपयोग करते हैं। आपके जानकारी के लिए बता दे कि Router एक साथ कई Devices को इंटरनेट से जोड़ने और सभी Devices को एक-दूसरे से जोड़ने में मदद करता है।

अर्थात अगर आप एक स्थानीय नेटवर्क बनाना चाहते हैं। जिसमें आपके सभी डिवाइस एक-दूसरे से जुड़े हो और वो सभी आपस में संचार स्थापित कर सके। यानी File वगैरह Share कर सके। तब आपको Router उपयोग करने की आवश्यकता है। जैसे; मान लिजिए आपका एक Office है। जिसमें बहुत सारे Devices हैं। जैसे; Computers, Laptop, Printer और Scanner आदि और आप इन सभी को आपस में जोड़ना चाहते हैं। ताकि सभी आपस में संचार स्थापित कर सके, Resources का उपयोग कर सके या Remote Control करना चाहते हैं। तब यहाँ आपको Router लगाने की आवश्यकता होगी। जिससे एक LAN का निर्माण होगा। अपने इन LAN को इंटरनेट से जोड़ने के लिए Router को Modem से Connect करना होगा।

Conclusion – Router in Hindi

यह लेख आपको कैसा लगा? हम उम्मीद करते हैं कि यह लेख आपको पसंद आया होगा और इस लेख के माध्यम से बहुत कुछ सीखने को मिला होगा। इस लेख में हमने Router की पूरी जानकारी बताया है। फिर भी अगर आपके पास Router संबंधित को सवाल है। तो कमेंट कर के पूछ सकते हैं। यह लेख आपको कमेंट के माध्यम से बताना बिलकुल भी न भूले। अगर आपको यह लेख अच्छा लगा हो? तब इसे सोशल मीडिया पर जरूर शेयर करे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.