Menu Close

रिपीटर क्या है और कैसे काम करता है?

Repeater क्या है और Repeater से आप क्या समझते हैं? क्या आप जानते हैं कि Repeater क्या होता है। शायद आपने पहले कभी Repeater के बारे में जरूर सुना होगा। तभी तो इसके बारे में जानने के लिए यह लेख पढ़ रहे हैं। बहुतो को Repeater के बारे में कुछ भी पता नहीं होता है। इसका कारण यही है कि ज्यादातर लोगों को इसका नाम तक पता नहीं है। खैर एक सामान्य व्यक्ति को Repeater के बारे में जानना कोई जरूरी भी नहीं है। लेकिन एक Computer Student के लिए जरुरी है। जो Computer अथवा Computer Networking के Field में अपना Career बनाना चाहते हैं। वैसे एक Smart Computer User को भी इन सभी के बारे में पता होना चाहिए। Basically Repeater एक Networking से जुड़े महत्वपूर्ण उपकरण है।

• Ad

Computer Networking संबंधित बहुत सारे उपकरणों के बारे में हमने पहले ही बता दिया है। जैसे; Modem, Switch, Router, Bridge और HUB इत्यादि। इसलिए मैंने सोचा कि क्यों न आज Repeater के बारे में भी बता दिया जाए कि Repeater क्या होता है और Network में एक Repeater का उपयोग कब किया जाता है? क्या आप जानते हैं कि एक Repeater क्या होता है। अगर आपको भी Repeater की जानकारी नहीं है। तब इस लेख को अंत तक जरुर पढ़िए। क्योंकि इस लेख में आपको Repeater की पूरी जानकारी प्राप्त होने वाली है। जिसमें हमने बताया है कि Repeater क्या है, Repeater के कार्य, Repeater कैसे काम करता है, Repeater कितने प्रकार के होते हैं और Repeater का उपयोग क्यों, कैसे और कब किया जाता है।

यानी मात्र इस एक लेख को पढ़ने के बाद आपको Repeater के बारे में सबकुछ पता होगा। चूँकि एक Computer Networking से जुड़े व्यक्ति को Network Devices की अच्छी खासी जानकारी होनी चाहिए। मैंने बाकी Network Devices की जानकारी पहले ही बता दिया है। यहाँ हम Repeater के बारे में बता रहे हैं। यह भी बड़े Computer Network जैसे; इंटरनेट के लिए महत्वपूर्ण होता है। आप इंटरनेट का इस्तेमाल तो करते ही होंगे। तो देर किस बात की चलिए जान लेते हैं कि Network में Repeater क्या होता है और उसका कार्य क्या क्या होता है।

रिपीटर क्या है? (What is Repeater in Hindi)

Repeater या Network Repeater एक ऐसा Powerful Networking Device है। जिसका इस्तेमाल Network में Signals को Regenerate करने के लिए किया जाता है। ताकि Signals की Strength समान रहे। जिससे Signal को ज्यादा दूर तक Extend किया जा सकता है। जब Network में Transmission लंबी दूरी के लिए किया जाता है। तब वहाँ Repeater का उपयोग किया जाता है। क्योंकि Signals लंबी दूरी Travel करने के दौरान Weak होने लगती है। इसलिए Repeater का उपयोग कर Weak Signal को Regenerate किया जाता है। लोग Repeater को Amplifier के समान समझते हैं।

• Ad

लेकिन आपके जानकारी के लिए बता दें कि Repeater Signals को Amplify नहीं करते हैं। जब Signal Weak हो जाते हैं। तब Repeater Signals को Bit by Bit Copy करता है और फिर उसे उसके Original Strength में Regenerate करता है। एक Repeater OSI Model के पहले स्तर यानी Physical Layer के अंतर्गत कार्य करता है। यह एक Two Port Device है। जिसका उपयोग Ethernet Network को Establish करने के लिए किया जाता है। Repeater को उन Cable के साथ इस्तेमाल किया जाता है। जो कम से कम 100 मीटर की दूरी को कवर करती है। जैसे; Optical Fiber, Coaxial Cable इत्यादि।

Repeater एक Intelligent Device है। जो Signals को Regenerate करने के अलावा Signal में आए Noise और Error को भी Solve करता है। यह Signals को Currupt या Loss होने से बचाता है। यह लगभग सभी Network Device के साथ कार्य करने में सक्षम होता है। एक Network में जितने ज्यादा Repeater का उपयोग होगा। उस Network का Signal उतने ज्यादा Strong होंगे और लंबी दूरी Transmit किए जा सकते हैं। कई अलग अलग प्रकार के Repeater होते हैं। जैसे; Telephone Repeater, Optical Repeater और Radio Repeater इत्यादि।

जरुर पढ़ें:-

WiFi Repeater क्या है और कैसे काम करता है? (How Repeater Works)

आप Router को जानते ही होंगे। अब Wireless Router की तरह Wireless Repeater भी उपलब्ध है। जिसे संक्षेप में WiFi Repeater कहते हैं। Wireless Repeater का इस्तेमाल कर Wireless Signal Strength को बढ़ाया जाता है। इस तरह के Repeater में Device को Cable के सहारे Connect करने की आवश्यकता नहीं होती है। आजकल WiFi का चलन Ethernet से अधिक हो गया है। यदि आपको Instant और Efficient Network की जरूरत है। तब आपको अपने Computer और WAP के बीच Wireless Repeater को स्थापित करना होगा। यदि हम इनकी कार्यप्रणाली को समझे।

तो आपको बता दें कि Wireless Repeater WAP से Radio Signal को Receive करते हैं और Regenerate कर उन्हें Frame के Form में Deliver करते हैं। WiFi Repeater Wireless Network के Coverage को बढ़ाने में मदद करता है। यह Operator को Access Point Add करने में Sufficient Network देने की Offer देता है। जब Remote Location में Signal Travel करता है। तब वह Weak हो जाता है। ऐसी स्थिति में भी Repeater के द्वारा Signal की Strength को बढ़ाया जा सकता है।

रिपीटर के उपयोग (Use of Repeater in Hindi)

एक Repeater को दो अन्य Network के बजाय एक Network के दो अलग अलग Segments के बीच उपयोग किया जाता है। यह Signal को प्राप्त करता है और उसे Regenerate कर Original Strength में Transmit करता है। इसलिए Repeater का उपयोग Ethernet में ज्यादा किया जाता है। Repeater का इस्तेमाल Ethernet में करने की खास वजह यह है कि Repeater Signal को Carry कर के उसे बिना किसी Signal Strength के Loss के दूसरे Ethernet Cable तक पहुंचाते हैं। Repeater एक Smart Device है। ये Signal को Regulate करते हैं। साथ ही Signal Flow को Control भी करते हैं। Signal में किसी तरह की खराबी आती है। तब यह उसे Detect कर के सभी Connected Port तक पहुंचाती है।

रिपीटर की विशेषताएँ (Features of Repeater in Hindi)

Repeater का उपयोग भी अन्य Networking Devices की तरह Network interconnection में होता है। चलिए जानते हैं Repeater के कुछ खास विशेषताओं के बारे में

  • इसका मुख्य कार्य Signal को Receive करना और उसे Regenerate कर Transmit करना होता है।
  • सामान्यतः एक Repeater Signal को Transmit करने से पहले उसके Strength को Regenerate करती है।
  • एक Repeater OSI Model के First Layer पर कार्य करते हैं। जो कि सभी Protocol के लिए Transparent होते हैं।
  • एक Repeater को Connect करना आसान है।
  • वर्तमान समय में Repeater Wired और Wireless दोनो तरह के उपलब्ध है।

रिपीटर की कमियाँ (Disadvantage of Repeater in Hindi)

Repeater का निम्नलिखित कमियाँ है।

  • एक Repeater में Network को Monitor करने के लिए और ठीक करने के लिए किसी प्रकार की Functions नहीं होता है।
  • Repeater का प्रयोग कर दो अलग अलग Computer Network को आपस में Connect नहीं कर सकते हैं।
  • Repeater Network Traffic को Filter नहीं करता है।

Conclusion – Repeater in Hindi

Repeater का प्रयोग Network Bridge के सामान होता है। परंतु यह दो Networks को आपस में जोड़ने के बजाय Signal Strength को बढ़ाने का कार्य करता है। Repeater का हिंदी अर्थ पुनरावर्तक होता है। अगर आप अपने Computer Network के आकार को बढ़ना चाहते हैं। तब आपको Repeater की आवश्यकता अवश्य होगी। Repeater Wired और Wireless दोनो तरह के आते हैं। इस लेख को पढ़ने के बाद आपको Repeater के बारे में बहुत कुछ जानने को मिला होगा। यह लेख आपको कैसा लगा? हम उम्मीद करते हैं कि यह लेख आपको पसंद आया होगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published.