RAM क्या है? इसके प्रकार तथा कार्य।

RAM का नाम तो आपने सुना ही होगा। अक्सर लोग स्मार्टफोन और कंप्यूटर जैसी डिवाइस को खरीदने से पहले उसके रैम को अवश्य देखते हैं। आपने भी ऐसे डिवाइस को खरीदते वक्त ऐसा जरूर किया होगा।

रैम किसी भी डिवाइस का एक प्रमुख भाग होता है। अधिक रैम वाले स्मार्टफोन और कंप्यूटर तेज गति से कार्य करता है। शायद इसी कारण से लोग स्मार्टफोन और कंप्यूटर खरीदने से पहले उसके रैम को देखते हैं।

लेकिन क्या आपको पता है यह होता क्या है और कंप्यूटर में इसका क्या काम होता है और भी इससे जुड़े कुछ महत्वपूर्ण तथ्यों को समझेंगे।

RAM क्या है?

RAM का पूरा नाम Random Access Memory होता है। यह एक प्रकार का मेमोरी होता है। इसे कंप्यूटर के Main Memory या Primary Memory के रूप में जाना जाता है।

RAM किसी भी डिवाइस में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। जब हम अपने किसी डिवाइस में कोई ऐप्लिकेशन रन करते हैं या किसी प्रकार की फाइल्स जैसे; फोटो, विडियो, ऑडियो, गेम आदि Open करते हैं तो वह डेटा RAM में स्टोर होता है।

कंप्यूटर में जब हम कुछ भी कर रहे होते हैं तब वह कंप्यूटर के RAM में ही स्टोर होता है और जब कंप्यूटर को बंद किया जाता है तब RAM से सारे डेटा नष्ट हो जाता है।

इसीलिए RAM को Volatile या अस्थाई मेमोरी भी कहते हैं। क्योंकि इसमें स्टोर डेटा अस्थाई तौर पर स्टोर होता है। RAM मदरबोर्ड में स्थित एक चिप होता है।

यह दुसरे स्टोरेज डिवाइस से तेज होता है तथा इसे बनाने में अधिक खर्च आती है। 16GB के SD CARD बनाने में जितना खर्च आता है लगभग उतना 1GB के रैम को बनाने में होता है।

बाकी मेमोरी में कंप्यूटर के बंद होने पर भी डेटा सुरक्षित स्टोर होता है। किन्तु रैम में कंप्यूटर के बंद होने पर नष्ट हो जाता है। तथा कंप्यूटर के चालू होने पर फिर से शुरू हो जाता है।

दुसरे मेमोरी में स्टोर डेटा को देखने के लिए सबसे पहले डेटा रैम में लोड होता है। जब कंप्यूटर चालू होता है तब भी ऑपरेटिंग सिस्टम रैम में ही लोड होता है। अर्थात सारे कार्य रैम में लोड होने के बाद ही हो सम्पन्न होता है।

RAM कैसे काम करता है?

आपने भी अपने स्मार्टफोन या कंप्यूटर फोटो, विडियो, ऑडियो, पीडीएफ इत्यादि डाउनलोड और ऐप्लिकेशन को इंस्टॉल किया होगा।

जब हम इन्हें डाउनलोड या इंस्टॉल करते हैं तब ये सभी डेटा कंप्यूटर या अन्य डिवाइस के Internal या External स्टोरेज में स्टोर होता है।

किन्तु जब इनका उपयोग करते हैं तो RAM में स्टोर हो जाता है। रैम की स्पीड अधिक होती है। जिसके कारण डिवाइस तेज काम करने लगता है।

किन्तु जब कम रैम वाले डिवाइस में एक ही बार में अधिक ऐप्लिकेशन या किसी अन्य फाइल का इस्तेमाल किया जाता है तब डिवाइस हैंग होने लगता है।

इसलिए किसी भी डिवाइस को अच्छे से कार्य करने के लिए डिवाइस में अधिक क्षमता वाले रैम का होना आवश्यक होता है।

रैम की क्षमता को KB, MB या GB में मापा जाता है तथा इसकी स्पीड को MHz या GHz में मापते हैं।

तो कुछ इसी तरह से रैम अपना कार्य करता है।

RAM के प्रकार

रैम की कार्य तथा स्पीड के आधार पर इसे दो भागो में बांटा गया है-

  1. SRAM
  2. DRAM
1. SRAM क्या है?

SRAM का पूरा नाम Static Random Access Memory होता है। यह भी Volatile या अस्थाई प्रकार की मेमोरी होती है। इसका प्रयोग Cache Memory के तौर पर किया जाता है। यह DRAM की तुलना में तेज तथा महंगा होता है।

2. DRAM क्या है?

DRAM का पूरा नाम Dynamic Random Access Memory होता है। यह भी Volatile या अस्थाई प्रकार की मेमोरी होती है। इसका प्रयोग Main Memory के तौर पर किया जाता है। इसका स्पीड SRAM की तुलना में कम होता है।

RAM की विशेषता

  1. रैम अन्य मेमोरी की अपेक्षा अधिक महंगा होता है।
  2. रैम की स्पीड अन्य मेमोरी की अपेक्षा अधिक होती है।
  3. यह अस्थाई मेमोरी होता है।
  4. इसे प्राइमरी मेमोरी या मेन मेमोरी के रूप में जानते हैं।
  5. रैम सीपीयू से जुड़े होते हुए होते हैं।

अगर आप एक स्मार्टफोन, कंप्यूटर, लैपटॉप या किसी अन्य डिवाइस लेने जा रहें हैं तो उसमें कितना रैम होना चाहिए ये अपने अनुसार से खरीद सकते हैं। क्योंकि ये डिवाइस आप क्यों ले रहें हैं तथा इस पर क्या करेंगे ये सब देख कर ही लिया जाता है। जैसे अगर आप कोई Heavy Game खेलने के लिए खरीद रहें हैं तो उसके लिए अधिक क्षमता वाले रैम का होना आवश्यक होता है। अन्यथा सिस्टम हैंग होने लगता है। इस लेख से आपको रैम की अच्छी खासी जानकारी हो गया होगा।

ये भी पढ़ें:-

  1. Processor क्या है? इसका क्या काम होता है।
  2. कंप्यूटर हार्डवेयर क्या है तथा इसके प्रकार।
  3. इनपुट डिवाइस क्या है? इसके प्रकार तथा कार्य

तो ये थे रैम की जानकारी। उम्मीद करता हूँ कि यह लेख आपको पसंद आया होगा और कुछ नया सीखने को मिला होगा। अगर आपका कोई फ्रेंड स्मार्टफोन, कंप्यूटर या लैपटॉप खरीदने की सोच रहा है तो यह लेख उसे भी शेयर करें। ताकि वह अपने लिए सही रैम वाले डिवाइस का चयन कर सके।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to top
error: Content is protected !!