प्रोग्रामिंग लैंग्वेज कैसे सीखे?

आज के इस लेख में आप पढ़ेंगे कि प्रोग्रामिंग लैंग्वेज कैसे सीखे। यदि आप भी प्रोग्रामिंग लैंग्वेज सीखना चाहते हैं। कोडिंग करना चाहते हैं। तब इस लेख को अंत तक जरूर पढ़िए।

इस लेख में आपको बहुत कुछ नया सीखने को मिलेगा। क्या है कि बहुत से लोग प्रोग्रामिंग करना या कोडिंग सीखना चाहते हैं। लेकिन उन्हें पता ही नहीं होता है कि प्रोग्रामिंग सीखने के लिए शुरुआत कैसे और कहाँ से किया जाए।

और यदि किसी को पता होता भी है। तो वो लोग शुरुआत कुछ ऐसे करते हैं कि कुछ समय बाद हार मानकर छोड़ देते हैं। उन लोगो के लिए इस लेख में कुछ टिप्स भी शेयर किया गया है। जिसे फॉलो कर के प्रोग्रामिंग सीख सकते हैं।

वैसे प्रोग्रामिंग लैंग्वेज क्या हैं। अगर आपको पता नहीं है। तब इसके लिए एक लेख पहले ही लिखा जा चुका है। जिसे आप पढ़ कर समझ सकते हैं।

जरुर पढ़ें: प्रोग्रामिंग लैंग्वेज क्या है?

प्रोग्रामिंग लैंग्वेज कैसे सीखे?

प्रोग्रामिंग लैंग्वेज सीखना आसान तो है नहीं। कि कोई भी सीख ले। किन्तु यदि आप सच में प्रोग्रामिंग सीखना चाहते हैं। तब आपके लिए नीचे कुछ टिप्स दिया गया है।

जिसे यदि आप सही तरीके से फॉलो करते हैं। तब जरूर आप प्रोग्रामिंग लैंग्वेज सीख पाएंगे। तो चलिए फिर शुरू करते हैं।

1. शुरुआत एक आसान प्रोग्रामिंग लैंग्वेज के साथ करे।

अभी तक बहुत सारे प्रोग्रामिंग लैंग्वेज बनाए जा चुके हैं। इसलिए प्रोग्रामिंग लैंग्वेज सीखने के लिए किसी एक प्रोग्रामिंग लैंग्वेज को Select करें। शुरुआत किस प्रोग्रामिंग लैंग्वेज से करना चाहिए।

यह पूरी तरह आप पर डिपेंड करता है। आप खुद से प्रश्न कर सकते हैं कि आप प्रोग्रामिंग लैंग्वेज क्यों सीखना चाहते हैं। जब आपका जवाब मिल जाए। तब ऐसे प्रोग्रामिंग लैंग्वेज को सीखें। जिससे आपका काम हो सकता है।

या फिर आप शुरुआत एक आसान प्रोग्रामिंग लैंग्वेज के साथ कर सकते हैं। लगभग सभी कंप्यूटर प्रोग्रामर ऐसा ही करते हैं। यह टिप्स सभी जगह फॉलो करती है। क्योंकि कुछ भी सीखने के लिए पहले बेसिक चीजे सीखना चाहिए।

बहुत से कंप्यूटर प्रोग्रामर C प्रोग्रामिंग लैंग्वेज के साथ शुरुआत करने के लिए कहते हैं। किंतु आप Python लैंग्वेज से भी शुरुआत कर सकते हैं। यह बिलकुल ही आसान प्रोग्रामिंग लैंग्वेज है। और इसका उपयोग वेब ऐप्लिकेशन के साथ वेब डेवलपमेंट में भी होता है।

2. प्रोग्राम देखे और समझने की कोशिश करे।

जब आप यह डिसाइड कर लेते हैं कि आपको शुरुआत किस प्रोग्रामिंग लैंग्वेज के साथ करना है। तब आप उस प्रोग्रामिंग लैंग्वेज को सीखना शुरू कर सकते हैं। लेकिन एक बात का ध्यान रखे कि प्रोग्रामिंग में मतलब सिर्फ कोडिंग से होता है।

इसलिए टूटोरियल या कोर्स में जो पढ़ाया जाता है। उसे पढ़ें। इसके साथ उसमें बताए गए Program और Example को देखे और समझने की कोशिश करें।

यह शुरुआत में आपको बोरिंग लग सकता है। क्योंकि शुरुआत में कुछ भी समझ नहीं आता है। इसलिए आप उस प्रोग्रामिंग लैंग्वेज के Normal पढ़ाई के साथ उसके उदाहरण को समझने की कोशिश करे। यह आपको जल्दी प्रोग्रामिंग में मास्टर बनने में मदद करेगा।

3. प्रोग्रामिंग लैंग्वेज का प्रैक्टिकल करे।

जब भी आप कुछ नया सीखते हैं। तब आप सिर्फ पढ़ें नहीं। बल्कि प्रैक्टिकल करे। प्रत्येक प्रोग्रामिंग लैंग्वेज के प्रैक्टिकल के लिए आपको कम्पाइलर की जरूरत होती है। जहाँ Program को लिख सकते हैं और Run कर सकते हैं। पाइथन के लिए इंटरप्रिटर होता है।

प्रैक्टिकल करना इसलिए जरूरी है। क्योंकि जब हम पढ़ते हैं। तब लगता है कि सब ठिक है। यह बिलकुल आसान है और मुझे समझ आ गया है। हो सकता है कि आपको समझ आ गया हो। लेकिन यह भी हो सकता है कि समझ नहीं आया हो।

इसलिए इसका सिर्फ एक ही Solution है कि जब भी आप कुछ नया सीखते हैं। तब उसको प्रैक्टिकल करे। प्रैक्टिकल करते वक्त Copy Paste ना करे। और ना ही Example को देखें।

जब प्रैक्टिकल करते हैं। तब आप यह सिद्ध करते हैं कि आपको समझ आ रहा है। और इससे आपके Confidence भी बढ़ते हैं।

इसलिए प्रत्येक Program, Example और Sample Code का प्रैक्टिकल करते रहें। इससे समझने में आसानी होगी। लेकिन Example को प्रैक्टिकल करने के साथ उसका Experiment भी करे।

यहाँ Experiment का मतलब है। किसी Program या Example में बदलाव कर के Run करना है। शुरुआत में Experiment करने में समस्या आ सकता है। इससे आपको घबराना नहीं।

किंतु कुछ समय बाद जब आपको प्रोग्राम समझ आने लगते हैं। तब किसी Program अथवा Example Experiment करना आसान लगने लगेगा।

4. खुद से प्रोग्राम बनाए।

जैसे जैसे आप प्रोग्रामिंग लैंग्वेज में अच्छा होते जाते हैं। वैसे आप अपने प्रोग्रामिंग लैंग्वेज का उपयोग खुद का छोटा मोटा प्रोग्राम बनाने में कर सकते हैं। इससे आपको पता चलता रहेगा कि इसका उपयोग कहाँ और कैसे करते हैं। इसके साथ आपके प्रोग्रामिंग स्किल्स में काफी सुधार भी होगा।

धीरे-धीरे जब आप प्रोग्रामिंग लैंग्वेज को जानने और समझने लगते हैं। तब आपको उस प्रोग्रामिंग में मजा आने लगता है। तब आपको छोटे छोटे प्रोग्राम बनाने का कोशिश करते रहना चाहिए।

आप प्रोग्रामिंग लैंग्वेज जो कुछ भी पढ़ें है। उन्हें बिना देखे एक प्रोग्राम में implement करने की कोशिश कर सकते हैं।

5. Debugging करना सीखे।

प्रोग्राम में गलती होने पर गलत या अनुपयुक्त परिणाम आते हैं। उसे बग (Bug) कहा जाता है और प्रोग्राम से बग ढूंढने की प्रक्रिया को डीबगिंग (Debugging) कहा जाता है।

प्रोग्राम में बग एक आम बात है। इसलिए एक अच्छे कंप्यूटर प्रोग्रामर को बग को ढूंढना और उसे Fix करना आना चाहिए है। इसलिए आपको भी Debugging सीखना चाहिए। जब आप Experiment करते हैं। तब आपको Bugs के बारे में भी अच्छी जानकारी हो जाता है। और आप Bug को Fix करने में भी अव्बल हो जाते हैं। बस सारा खेल प्रैक्टिस का होता है।

तो यह रहा प्रोग्रामिंग लैंग्वेज सीखने के 5 टिप्स। इसके अलावा आप अच्छे अच्छे Programming Community और Groups में ज्वॉइन हो सकते हैं। यहाँ आपको प्रोग्रामिंग लैंग्वेज से संबंधित बहुत कुछ सीखने को मिलेगा।

यहाँ आप अपना प्रश्न पुछ सकते हैं। लेकिन यदि आपको किसी दुसरे का Answer पता हो। तब उसे भी बताए। इससे आपके प्रोग्रामिंग में काफी सुधार होगा। और आप प्रोग्रामिंग से संबंधित Problem Solve करना सीख जाएंगे।

और जब आपको लगे कि आप प्रोग्रामिंग को अच्छे से सीख गए हो। तब Programming Test भी देकर देख सकते हैं। ऑनलाइन बहुत से प्रोग्रामिंग लैंग्वेज का टेस्ट होता है। बस आपको उसमें Participate करना है।

इसे भी पढ़ें:-

  1. कंप्यूटर क्या है?
  2. हार्डवेयर क्या है?
  3. सॉफ्टवेयर क्या है?
  4. ऑपरेटिंग सिस्टम क्या है?

प्रोग्रामिंग लैंग्वेज कहाँ से सीखे?

ऊपर प्रोग्रामिंग लैंग्वेज सीखने के 5 टिप्स बताया गया है। ये टिप्स आपको Step By Step प्रोग्रामिंग में बेहतर बनाएगा। इसके अलावा बहुत से लोगों का प्रश्न ये होता है कि प्रोग्रामिंग लैंग्वेज कहाँ सीखे। या फिर कहाँ से सीखते हैं।

यदि आप भी जानना चाहते हैं कि प्रोग्रामिंग लैंग्वेज कहाँ से सीखे। तब आपके लिए हमने कुछ तरीके बताए हैं। जहाँ से आप बहुत आसानी से प्रोग्रामिंग लैंग्वेज सीख सकते हैं।

1. किसी कंप्यूटर इंस्टीट्यूट से सीखे।

कंप्यूटर की थोड़ी बहुत भी जानकारी रखने वाला व्यक्ति बता सकता है कि कंप्यूटर प्रोग्रामिंग को किसी कंप्यूटर इंस्टीट्यूट से सीखा जा सकता है। कंप्यूटर प्रोग्रामिंग सीखने के लिए यह सबसे अच्छा तरीका है।

यहाँ आपको Guide करने के लिए शिक्षक भी होते हैं। आप अपने नजदीकी कंप्यूटर इंस्टीट्यूट से प्रोग्रामिंग लैंग्वेज सीख सकते हैं। यदि नजदीकी कंप्यूटर इंस्टीट्यूट ढूंढने में समस्या है। तब आप गुगल की सहायता ले सकते हैं।

2. किताबों से सीखे।

यदि कुछ नया जानने और सीखने के माध्यम की बात किया जाए। तब किताबे हमेशा से ही एक अच्छा माध्यम रहा है। मार्केट में प्रोग्रामिंग लैंग्वेज के किताब भी बहुत सारे हैं। आप किसी प्रोग्रामिंग लैंग्वेज का किताब किसी Book Store से खरीद सकते हैं।

यदि Book Store में कंप्यूटर प्रोग्रामिंग की किताबे नहीं मिलता है। तब आप ऑनलाइन Amazon और Flipkart आदि से भी खरीद कर हैं।

3. ई-बुक से सीखे।

प्रोग्रामिंग लैंग्वेज के किताबे (Books) इंटरनेट से भी डाउनलोड कर सकते हैं। इन किताबों को ई-बुक कहा जाता है। इंटरनेट पर बहुत सारे ई-बुक मिल जाते हैं। कुछ ई-बुक को आप फ्री में डाउनलोड कर सकते हैं। वहीं कुछ ई-बुक के लिए पैसे देने होते हैं।

  1. bccfalna.com

4. ऑनलाइन कोर्स से सीखे।

आज इंटरनेट इतना पॉपुलर हो चुका है। कि अब ऑनलाइन इंटरनेट पर किसी भी विषय का कोर्स कर सकते हैं। बहुत से University बड़े बड़े डिग्री कोर्सेज का भी ऑनलाइन क्लासेज कर रहा है।

लॉकडाउन 2020 की वजह से ऑनलाइन कोर्स और क्लासेज की मांग भी बढ़ी है। आज इन्टरनेट पर बहुत सारे कोर्सेज उपलब्ध है। प्रोग्रामिंग लैंग्वेज के भी कोर्स उपलब्ध है। जिसमें आपको कुछ कोर्स के लिए पैसा देना पड़ सकता है। नीचे दिए गए साइट से कोर्स किया जा सकता हैं।

  1. Udemy
  2. Coursera
  3. Khan Academy
  4. Codecademy
  5. Lynda

5. ऑनलाइन टूटोरियल से सीखे।

ऐसे बहुत सारे कंप्यूटर प्रोग्रामर हैं। जो खुद के वेबसाइट से कोडिंग और प्रोग्रामिंग लैंग्वेज सिखाते हैं। इसे टूटोरियल कहते हैं। जिसमें Step By Step सीखाया जाता है। ऑनलाइन टूटोरियल फ्री हो सकते हैं। नीचे हमने कुछ वेबसाइट का नाम बताया। वहाँ से आप प्रोग्रामिंग लैंग्वेज टूटोरियल के माध्यम से सीख सकते हैं।

  1. W3Schools.com
  2. SoloLearn.com
  3. LearnVern.com
  4. HindiLearn.in
  5. Codecademy.com

6. YouTube विडियो से सीखे।

YouTube एक वीडियो शेयरिंग प्लेटफॉर्म है। जिसका उपयोग वीडियो शेयर करने के लिए किया जाता है। YouTube का मुफ्त होने के कारण इसे बहुत सारे लोग इस्तेमाल करते हैं। इसका उपयोग हम शिक्षा के लिए भी कर सकते हैं।

कुछ लोग इसके माध्यम प्रोग्रामिंग लैंग्वेज भी सीखाते हैं। बस आपको प्रोग्रामिंग लैंग्वेज शेयर करने वाले अच्छे YouTube Channel को ढूंढना है। उसके बाद उसके वीडियो को देख कर आप प्रोग्रामिंग लैंग्वेज ऑनलाइन सीख सकते हैं। और यह पूरी तरह से फ्री होता है।

  1. LearnVern
  2. CodeWithHarry
  3. CS Geeks
  4. MysirG.com
  5. Tech-Gram Academy

इसे भी पढ़ें:-

  1. HTML क्या है?
  2. CSS क्या है?
  3. जावास्क्रिप्ट क्या है?
  4. Python क्या है?

Conclusion

प्रोग्रामिंग लैंग्वेज कोई खेल नहीं है। इसे सीखने के लिए कुछ टाइम तो लगेगा ही। इसलिए बस आपको मेहनत करते रहना है। यहाँ हमने प्रोग्रामिंग लैंग्वेज कैसे सीखे। प्रोग्रामिंग लैंग्वेज सीखने के 5 टिप्स। और प्रोग्रामिंग लैंग्वेज कहाँ से सीखे बताया है।

हम उम्मीद करते हैं कि यह लेख आपको पसंद आया होगा। और कुछ नया जानने को मिला होगा। यह लेख आप लोगो को कैसा लगा अपने विचार को कमेंट के माध्यम से शेयर कर सकते हैं।

Happy New Year 2021

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to top
error: Content is protected !!