Plotter क्या है? इसकी परिभाषा, प्रकार, उपयोग और अंतर

Plotter से आप क्या समझते हैं? क्या आप जानते हैं कि Plotter क्या होता है। क्योंकि इस लेख में हमने Plotter के बारे में जानकारी बताया है। इसलिए अगर आप Plotter के बारे में नहीं जानते हैं। तब इस लेख को जरूर पढ़ें और अगर आप Plotter के बारे में जानने के लिए ही यहाँ आए हैं। तब आपको बता दें कि आप बिलकुल सही जगह आए हैं। यहाँ Plotter की पूरी जानकारी विस्तार से बताया गया है। जिसमें बताया गया है कि Plotter क्या है, Plotter कैसे काम करता है, Plotter किस प्रकार का Device है, Plotter कितने प्रकार के होते हैं, Plotter का उपयोग, Plotter का आविष्कार किसने किया, Plotter के लाभ और हानि क्या होता है।

चूँकि Plotter भी Printer की तरह होते है। जिसकी वजह से कुछ लोग Confused हो जाते हैं कि आखिर दोनो में अंतर क्या है। इसलिए यहाँ हमने Printer और Plotter में अंतर भी बताया है। हालांकि यह भी Printer की तरह Computer का एक Device है। लेकिन यह Printer जितना लोकप्रिय नहीं है। बहुत से लोग होंगे, जिन्होंने इसका नाम भी नहीं सुना होगा। ऐसा इसलिए क्योंकि इसका इस्तेमाल कुछ बड़े-बड़े कार्यों के लिए होता है। ना कि Printer की तरह किसी भी Documents आदि को Print करना है। लेकिन मात्र इस लेख को पढ़ने के बाद आप Plotter के बारे में सबकुछ जान जाएंगे।

Plotter भी एक महत्वपूर्ण Device है। आपको इसकी जानकारी भी होनी चाहिए। इसलिए अगर आपको Plotter Machine की पूरी जानकारी नहीं है। तब आपको इस लेख को पढ़ना होगा। चलिए सबसे पहले जानते हैं कि Plotter क्या है?

Plotter क्या है? (What is Plotter in Hindi)

Plotter एक तरह का Special Output Device है। जिसका इस्तेमाल Printer की भांति Hard Copy पर Printing करने के लिए किया जाता है। जब छोटे-मोटे Pictures को Printing करनी होती है। तब हम Printer का इस्तेमाल कर सकते हैं। लेकिन जब बड़े-बड़े (Size) Pictures को Print करना होता है। तब वहाँ पर Plotter का इस्तेमाल होता है। इसका ज्यादातर उपयोग Construction Mapping, Engineers Drawing, Business Charts और Architectural Plan इत्यादि में होता है।

जैसे; किसी Building का Structure बनाना या किसी Bridge या Dam का BluePrint बनाने में Plotter का इस्तेमाल होता है। क्योंकि यहाँ Normal Printer का इस्तेमाल नहीं कर सकते हैं। Normal Printer को आपने घर, ऑफिस या दुकान (Cyber Center) आदि में जरुर देखा होगा। Plotter भी एक तरह का Printer ही होता है। बस इसका इस्तेमाल बड़े Size के Printing में होता है और Normal Printer का इस्तेमाल छोटे-मोटे Size के Printing में होता है। Plotter को Graphics Printer कह सकते हैं। जो कि Printing करने के लिए Ink Pen का इस्तेमाल करते हैं।

Plotter को Graph Plotter भी कहा जाता है। Plotter का Pen अक्सर पेपर के Surface पर Move कर रहा होता है। Plotter Vector Graphics को Print करने में सक्षम होता है और यह 3D में Printing भी कर सकता है। आपने बड़े-बड़े बैनर और पोस्टर्स को जरूर देखा होगा। लेकिन क्या उसे Printer से बनाया जाता है। नहीं! उसे Plotter के द्वारा Print किया जाता है। Plotter को कुछ इस तरह परिभाषित कर सकते हैं। Plotter की परिभाषा

वह Output Device जिसका ज्यादातर इस्तेमाल Chart, Graph, Drawing, Map इत्यादि को Hard Copy पर Print करने में होता है, Plotter कहलाता है।

Plotter किस प्रकार का Device है?(Plotter is Which Type of Device in Hindi)

क्या आप जानते हैं कि Plotter कौन सा Device है। जैसा कि ऊपर मैंने बता दिया है कि Plotter बड़े-बड़े तस्वीर को कागज पर छापने का काम करता है। यह एक प्रकार का Output Device है। जो Printer की भांति कार्य करता है। यह एक तरह का Printer ही होता है। जो बड़े-बड़े बैनर और पोस्टर्स का Printing करता है। यह एक स्पेशल हार्डवेयर उपकरण है। जिसका उपयोग Engineers, Architectural और Designers करते हैं। आपने यह तो जान लिया है कि Plotter क्या है और Plotter किस प्रकार का Device है। चलिए अब जान लेते हैं कि Plotter कैसे काम करता है और यह Printer से अलग कैसे होता है।

जरुर पढ़ें:-

Plotter कैसे काम करता है? (How Plotter Work in Hindi)

Plotter भी ठीक Printer की तरह ही काम करता है। दोनो में अंतर सिर्फ Output का होता है। Plotter बड़े पेपर पर Output दे सकता है लेकिन Printer नहीं। अगर आप समझना चाहते हैं कि Plotter कैसे काम करते हैं। तब सबसे पहले आपको Plotter के प्रकार को जानना होगा। जिसकी जानकारी नहीं हमने बताया है। चूँकि Plotter के मुख्य दो प्रकार होते हैं। एक Drum Plotter और दूसरा Flatbed Plotter होता है।

Flatbed Plotter सिस्टम में एक समतल जगह होता है। जहाँ पेपर को रखा जाता है। Plotter Fix वहीं रहता है और Plotter Pen ऊपर, नीचे, दाएँ और बाएँ Move कर सकता है। जबकि Drum Plotter के सिस्टम में एक Drum का इस्तेमाल होता है। इस Plotter में पेपर को इसी Drum पर रखा जाता है और Plotter Pen ऊपर नीचे Move करता है। इसमें पेपर Fix एक ही जगह नहीं होता है। इसे Drum दाएँ और बाएँ घुमाता रहता है।

कुछ इसी तरह Plotter Pen Printing करता है। Plotter Printing के लिए एक से अधिक Pen का उपयोग कर सकते हैं। ताकि अलग अलग Colours में भी Printing हो सके। क्या आप जानते हैं कि सबसे पहले Plotter को किसने बनाया था? Plotter का आविष्कार किसने और कब किया था? चलिए जानते हैं।

Plotter का आविष्कार किसने किया? (Inventor of Plotter in Hindi)

प्रथम Plotter का इस्तेमाल UNIVAC Computer के साथ तकनीकी चित्र बनाने के लिए हुआ था। इस Plotter का आविष्कार रेमिंगटन-रैंड (Rimington-Rand) के द्वारा सन् 1953 में हुआ था। Plotter का आविष्कार किसने किया था। यह तो आपने जान लिया। चलिए अब Plotter के प्रकार के बारे में जानते हैं।

Plotter के प्रकार (Types of Plotter in Hindi)

Plotter को बहुत सारे प्रकार में बांट सकते हैं। लेकिन Plotter का मुख्य रुप से दो प्रकार ही होता है। एक Flatbed Plotter और दूसरा Drum Plotter होता है। यहाँ हमने सिर्फ Plotter के मुख्य प्रकार को बताया है।

  1. Drum Plotter
  2. Flatbed Plotter

चलिए Plotter के दोनो प्रकार को विस्तार से जानते हैं।

1. Drum Plotter

Drum Plotter में Drum का इस्तेमाल किया जाता है। इसीलिए इस Plotter को Drum Plotter कहा जाता है। इस Plotter से Printing करने के लिए कागज को Drum पर रखना होता है। यह Drum धीरे-धीरे खीसकता रहता है। कागज पर Design बनाने के लिए एक से ज्यादा Pen और Holder लगा होता है। Holder में पेन होता है और पेन Drum से सीधा ऊपर लगा रहता है। यह पेन ऊपर नीचे जा सकता है। Drum खिसकने से कागज सही जगह पर Printing होती है। इसमें कागज पर Printing Pen द्वारा होता है। इसके द्वारा Print करने में अपेक्षाकृत अधिक समय लगता है।

2. Flatbed Plotter

Flatbed Plotter में Drum की जगह एक स्थित रहने वाले समतल बेड या ट्रे का इस्तेमाल होता है। इस Plotter में बेड या ट्रे पर Printing Paper को रखना होता है। इसमें लगा पेन ऊपर नीचे और दाएँ बाएँ चित्र बनाता है। यह Pen Computer द्वारा नियंत्रित होता है। इसे Table Plotter भी कहा जाता है।

Plotter के उपयोग (Use of Plotter in Hindi)

Plotter का उपयोग Printer की तरह Printing करना होता है। Plotter का उपयोग कहाँ-कहाँ होता है। चलिए जानते हैं।

  • Plotter का उपयोग बड़े-बड़े बैनर और पोस्टर्स को Print करने में होता है।
  • Plotter का उपयोग Chart, Graph, Map, Pictures आदि आकृति Printing करने के लिए होता है।
  • Plotter का उपयोग 3D Printing करने में होता है।
  • Plotter का उपयोग कर Buildings का Architecture बनाया जाता है।
  • Plotter का उपयोग Advertisement और Designing आदि में होता है।

Printer और Plotter में अंतर ( Printer and Plotter in Hindi)

जिस तरह Printer के द्वारा Soft Copy का Hard Copy प्राप्त किया है। वही कार्य Plotter का भी होता है। Plotter भी Computer के Soft Copy को Hard Copy में बदलता है। जिसके कारण इन दोनो के बीच के अंतर को लोग नहीं समझ पाते हैं। तो चलिए यहाँ हम आपको बताते हैं कि एक Printer और Plotter में क्या अंतर होता है। Printer और Plotter में अंतर निम्नलिखित बताए गए हैं।

  • Printer सिर्फ छोटे आकार को Print कर सकता है, बड़े आकार को नहीं। जबकि एक Plotter बड़े आकार की Printing करने के लिए ही जाना जाता है।
  • Printer Dots के इस्तेमाल कर Printing करता है। जबकि Plotter Line का इस्तेमाल कर Printing करता है।
  • सभी Plotter एक Printer होते हैं। लेकिन सभी Printer एक Plotter नहीं हो सकता है।
  • Plotter निरंतर रेखा खींच सकता है। जबकि Printer निरंतर रेखा नहीं खींच सकते हैं।
  • Plotter महंगा होता है। जबकि Printer Plotter की अपेक्षा कम खर्चीला होता है।

Plotter के लाभ (Advantage of Plotter in Hindi)

Plotter के लाभ निम्नलिखित बताए गए हैं।

  • Plotter की मदद से बड़े-बड़े पेपर पर Printing की जा सकती है।
  • Plotter द्वारा किया गया Printing की Resolution उच्च होती है।
  • Plotter पेपर के अलावा भी लगभग सभी Flat Sheet पर Printing कर सकता है। जैसे; Plastics, Plywood, Aluminium इत्यादि।
  • Plotter एक ही पैटर्न को हजारो बार उच्च गुणवत्ता के साथ Printing कर सकता है।

Plotter के हानि (Disadvantage of Plotter in Hindi)

Plotter के हानि निम्नलिखित बताए गए हैं।

  • Plotter आकार में बहुत बड़े होते हैं। इसके लिए अधिक जगह की आवश्यकता होती है।
  • Plotter महंगे भी होते हैं। इसकी तुलना में Printer अधिक सस्ते होते हैं।
  • Plotter एक सामान्य Printer की तुलना में धीमी गति से कार्य करता है। इस कारण इससे Printing में अधिक समय लगती है।

Conclusion – Plotter in Hindi

  • Plotter एक प्रकार का Special Output Device है।
  • Plotter पेपर पर चित्र बनाने के लिए पेन का उपयोग करते हैं।
  • Plotter को Pictures Printing करने के लिए Instructions Computer (Software) से प्राप्त होता है।

उम्मीद है कि यह लेख आपको पसंद आया होगा और कुछ नया जानने को जरुर मिला होगा। इस लेख में हमने Plotter के बारे में बहुत कुछ बताया है। जैसे; Plotter क्या है, Plotter कैसे काम करता है, Plotter कौन-सा Device है, Plotter कितने प्रकार के होते हैं, Plotter का आविष्कार किसने किया, Plotter का उपयोग, Plotter के लाभ और Plotter के हानि इत्यादि बताया है। अगर आप Plotter से संबंधित कुछ पूछना चाहते हैं। तब बेझिझक पूछ सकते हैं। यह लेख कैसा लगा है। यह भी बताए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to top