Martial Arts क्या है और Martial Art कैसे सीखें?

मुझे विश्वास है कि आपने कभी ना कभी Martial Arts का नाम जरूर सुना होगा। और शायद इसीलिए इस लेख को पढ़ भी रहे हैं। क्या आप जानते हैं कि Martial Arts क्या होता है। अगर आप नहीं जानते तो कोई नहीं है।

क्योंकि यहाँ इस लेख में यही बताया गया है कि Martial Arts क्या है और Martial Art कैसे सीखें? इसलिए अगर आप Martial Arts क्या है और Martial Art कैसे सीखते हैं। जानना चाहते हैं। तब इस लेख को अंत तक जरूर पढ़ें।

Martial Arts क्या है? (What is Martial Arts in Hindi)

Martial Art (युद्ध कला) एक विधिबद्ध अभ्यास की प्रणाली और बचाव के लिए Training की Tradition है। यह एक प्रकार का Art है। लेकिन इसे विज्ञान ने भी माना है। Martial Arts के कई कलाओं का अभ्यास प्रतिस्पर्धात्मक के रुप में भी किया जाता है। किंतु इसका मुख्य उद्देश्य खुद की या फिर दुसरो की शारीरिक खतरे से रक्षा करना होता है।

Martial Arts का मतलब युद्ध की कला से है। ज्यादातर इसका इस्तेमाल आत्मरक्षा, लड़ाई, प्रतिस्पर्धा, लड़ाई के खेल, शारीरिक स्वास्थ्य, मानसिक और अध्यात्मिक विकास इत्यादि में होता है। इसके साथ ये नृत्य का भी रुप ले सकती है।

दुनियाभर में बहुत प्रकार के Martial Arts है। जैसे; भारत में Martial Art के युद्ध कला वहीं चीन में कुंग फू और जापान में कराते है। पौराणिक कथाओं के अनुसार Martial Arts के जनक भगवान परशुराम को माना जाता है। Martial Arts के कलाकार को Martial Artist कहा जाता है।

Martial Arts के प्रकार (Types of Martial Arts in Hindi)

Martial Arts के बहुत से प्रकार हैं। दुनियाभर में Martial Arts के अलग अलग प्रकार सीखाया जाता है। जिसमें से कुछ को Traditional Form तो वहीं कुछ Types को Modern Form कहते हैं। इस तरह Martial Arts को 6 प्रकार में बांटा गया है। जिसमें प्रत्येक Martial Arts के भी कुछ Types होती है।

1. Striking or Stand-Up Martial Arts Styles

Striking or Stand-Up Martial Arts Styles सिखाती है कि ब्लॉक, किक, घुंसे, कोहनी और घुटने इत्यादि का उपयोग कर के खुद का बचाव कैसे करें। इनमें प्रत्येक पहलू को सिखने की कला, डिग्री, शैली या प्रशिक्षक पर निर्भर करती है। इसके अलावा इन Striking or Stand-Up Martial Arts Styles में से कई शैली लड़ाइयों के अन्य घटकों को सिखाती है। इस Types में आने वाले Martial Arts के निम्नलिखित Form है।

  • Boxing
  • Capoeira
  • Karate
  • KickBoxing
  • Krav Maga
  • Kung-fu
  • Muay Thai
  • Tae Kwon Do
  • Tang Soo Do

2. Grappling or Ground-Fighting Styles

Grappling or Ground-Fighting Styles के शिक्षक या प्रशिक्षक जमीन पर कैसे ले जाएं। इसमें यही सिखाया जाता है। इसमें एक प्रमुख स्थान हासिल करना होता है या फिर लड़ाई को समाप्त करने के लिए Submission Hold का उपयोग किया जाता है। Grappling or Ground-Fighting Styles में निम्नलिखित Types की Martial Art Form होती है।

  • Brazilian Jiu-Jitsu
  • Catch Wrestling
  • Jujutsu
  • Luta Livre
  • Russian Sambo
  • Sumo
  • Wrestling

3. Throwing or Takedown Styles

Throwing or Takedown Styles में मुकाबला हमेशा एक स्थाई स्थिति से शुरू होता है। जिसमें लड़ाई के लिए मैदान में Takedown और Throw का उपयोग किया जाता है। इसी वजह से खेल में फेंकने की शैली आती है। इसमें अधिकांश फेंकने वाली शैली होती है। जिसमें Overlap की महत्वपूर्ण मात्रा होती है। लेकिन इन शैलियों के साथ प्राथमिक Focus Takedown होती है। Throwing or Takedown Styles फेंकने वाली शैलियों में शामिल है। इसमें निम्नलिखित Types की Martial Arts Form आती है।

  • Aikido
  • Judo
  • Hapkido
  • Shuai Jiao

4. Weapons-Based Styles

कुछ Martial Arts अपनी शैलियों में हथियारों का उपयोग करती है। Weapons-Based Styles ही वो Martial Arts की Type है। जिसमें हथियार का इस्तेमाल किया जाता है। इन Types की कुछ Martial Arts बोकेन (लकड़ी के तलवार) का इस्तेमाल करती है। लेकिन कुछ Martial Arts पूरी तरह से हथियारों पर केंद्रित होता है। Weapons-Based Styles Martial Arts में निम्नलिखित Form की Martial Arts होती है।

  • Kali
  • Iaido
  • Kendo

5. Low Impact or Meditative Styles

Low Impact or Meditative Styles Martial Arts कम प्रभाव वाली शैली वाली होती है। इनके अभ्यास का इस्तेमाल ज्यादातर फिटनेस, साँस लेने की तकनीक के लिए होता है। इस Type में आने वाले Martial Arts के निम्नलिखित Form है।

  • Baguazhang
  • Tai Chi
  • Chi Gong-Based Styles

6. Hybrid Fighting Styles

ज्यादातर Martial Arts की शैलियाँ दुसरो में पाई जाने वाली तकनीकों का उपयोग करती है। आजकल एक स्कूल या मार्शल आर्ट संस्थान एक साथ कई Martial Arts की शैलियों को सीखा रहे हैं। जिसे मिश्रित Martial Arts के रूप में जाना जाता है। MMA शब्द आमतौर पर Martial Arts की प्रतिस्पर्धात्मक शैली को संदर्भित करती है। जिसमें Struggle, Stand-Up Fighting, Takedown, Throw और Submission शामिल होता है। इस Type में आने वाले Martial Arts के निम्नलिखित Form है।

  • MMA
  • Jeet Kune Do
  • Ninjutsu
  • Shootfighting

Martial Art के इतिहास (History of Martial Art in Hindi)

यदि भारत में मार्शल आर्ट के इतिहास को खोजा जाए। तब महाभारत जैसी प्राचीन ग्रंथों में इसका उल्लेख नियुद्ध नामक शब्द से मिलता है। नियुद्ध का अर्थ बिना किसी हथियार के युद्ध होता है। अर्थात बिना किसी हथियार के आक्रमण और संरक्षण करने की कला को नियुद्ध कहा जाता था।

दक्षिण भारत में इस कला को कलरीपायट्टु नाम से जाना जाता है। इसी कला को बौद्ध भिक्षुओं और भारतीय प्रवासीयों के द्वारा विश्वभर के अनेक देशों में ले जाया गया और इसी भारतीय कला से अनेक कलाओं का जन्म हुआ। जिसे सभी देश ने अपनी अपनी स्थानीय भाषा से नाम दे दिया।

इसी तरह चीन ने इस कला का नाम मार्शल आर्ट दिया। आज पूरा विश्व इस भारतीय कला को चीन के मार्शल आर्ट से जानता है। लेकिन इस कला का जनक देश भारत है।

भारत के Top 10 Martial Art ( India’s Top 10 Martial Art in Hindi)

भारत में भी बहुत प्रकार के Martial Arts पॉपुलर है और उसे सिखाया भी जाता है। भारत Martial Arts का जनक देश है। लेकिन शायद ही विश्व इसे स्वीकारता हो। यहाँ भारत के Top 10 यानी दस सबसे पॉपुलर Martial Arts की जानकारी बताया गया है।

1. Kalaripayattu

केरल की युद्ध कला कलरीपायट्टु दुनिया भर में प्रसिद्ध है। इसे दुनिया का पहला Martial Arts के रुप में जाना जाता है। जिसके जनक भगवान परशुराम को माना जाता है। जिसे पाँचवी सताब्दी के आसपास भारत के राजपरिवार में जन्में बौद्ध भिक्षु बन Kalaripayattu को चीन ले गए।

जहाँ उन्होंने शावोलिन मंदिर को Kalaripayattu सिखाने के लिए चुना। इसी कालक्रम में Kalaripayattu से जुडो, कराटे और कुंग-फू जैसी Martial Arts का जन्म हुआ। इसलिए Kalaripayattu को बहुत सारे Martial Arts का जन्म दाता भी कहा जाता है।

2. Silambam

इस Martial Arts को कई शासको के द्वारा पदोन्नत किया गया। इस कला का प्रशिक्षण युवा पुरुष को आपात स्थिति के लिए दिया जाता था। Silambam मलेशिया पहुँचा। जहाँ इसका उपयोग आत्मरक्षा और खेल में किया जाता है।

3. Thang Ta and Sarit Sarak

Thang Ta एक के साथ का Martial Arts है। जो तलवार और भाला को संदर्भित करता है। जबकि Sarit Sarak बिना हथियार का Martial Arts है। जिसमें मुकाबला या लड़ाई बिना हथियार हाथ से या हाथ का उपयोग कर किया जाता है। 17 वीं सदी में इस Martial Arts का उपयोग मणिपुर के राजा के द्वारा अंग्रेजो के खिलाफ किया गया था। किंतु बाद में अंग्रेजों ने इस क्षेत्र पर कब्जा कर इस Martial Arts को प्रतिबंधित कर दिया।

4. Thoda

Thoda हिमाचल प्रदेश से उत्पन्न धनुर्विद्या का रुप है। इसमें लकड़ी के तीर और धनुष का उपयोग किया जाता है। यह Martial Arts खेल और संस्कृति का मिश्रित रुप है। यह Martial Arts खिलाड़ी के तीरंदाजी और निशानेबाजी पर निर्भर करता है। अब यह सिर्फ खेल बनकर रह गया है।

5. Gatka

Gatka हथियार पर आधारित Martial Arts है। जिसका संबंध पंजाब के सिखों से है। Gatka में कतार, तलवार और कृपाण इत्यादि हथियारों का इस्तेमाल किया जाता है। इसे मेले और विशेष समारोह में प्रदर्शित किया जाता है।

6. Lathi

Lathi मुख्य रूप से पंजाब और बंगाल से उत्पन्न एक Martial Art है। जिसमें 6 से 8 फुट के बांस का इस्तेमाल किया जाता है। इसे भी एक आम खेल के रुप में प्रयोग किया जाता है।

7. Inbuan Wrestling

Inbuan Wrestling एक द्वंद्व कला यानी कुश्ती Type का होता है। जिसमें बहुत सख्त नियम का पालन करते हुए द्वंद्व करना होता है। जैसे; सर्कल के बाहर पैर न निकालना। इस कला का जन्म 1750 में माना जाता है।

8. Kuttu Varisai

Kuttu Varisai का मतलब खाली हाथ का मुकाबला होता है। जिसमें निहत्थे सिर्फ हाथो और पैरों का इस्तेमाल किया जाता है। जिसके अभ्यास में योग, जिम्नास्टिक, सांस लेने का व्यायाम किया जाता है।

9. Musti Yuddha

Musti Yuddha में निहत्थे रहकर किक, कोहनी, घुटने और घूंसे आदि का इस्तेमाल किया जाता है। यह 1960 के बाद से पॉपुलर हुआ।

10. Pari-Khanda

Pari-Khanda बिहार के राजपुतों के बनाया गया था। इसके नाम Pari-Khanda तलवार और ढाल को दर्शाता है। जिसका मतलब है कि इस कला में तलवार और ढाल का उपयोग किया जाता है।

Martial Arts के फायदे (Benifts of Martial Arts in Hindi)

Martial Arts सीखने के सिर्फ फायदे ही फायदे है। भारत को Martial Arts का जन्मदाता माना जाता है। लेकिन आज फिर भी दुसरे देशो के अपेक्षा भारत में Martial Artist बहुत कम देखने को मिलते हैं। इसका मुख्य कारण इसमें रुचि का नहीं होना भी हो सकता है। इसलिए यहाँ हम Martial Arts के कुछ प्रमुख फायदे को जानेंगे।

  • Martial Arts सीखने के बाद Self Confidence बढ़ जाता है।
  • Martial Arts से आत्मरक्षा करने के साथ मानसिक विकास भी होता है।
  • Martial Arts सीखने से शरीर की Growth तेजी से होती है।
  • Martial Arts से शरीर की चर्बी घटती है। जिससे वजन कम भी किया जा सकता है।
  • Martial Arts खाने के डाइजेशन को संतुलित करता है।
  • Martial Arts से Strategy बढ़ती है।

Martial Art कैसे सीखें? (How To Learn Martial Arts in Hindi)

भारत के युवाओं में Martial Arts के प्रति कम रुचि हो सकती है। इसका कारण युवाओं में Career के प्रति भाग दौर में व्यस्त रहना भी हो सकता है। लेकिन भारत में ऐसे बहुत से लोग हैं। जो Martial Arts सीखना चाहते हैं। लेकिन उनके पास Martial Arts सीखने के लिए सही संसाधन नहीं होने के कारण इंटरनेट निम्न सर्च करते रहते हैं। जैसे;

  • मार्शल आर्ट कैसे सीखें
  • भारतीय मार्शल आर्ट किया है
  • भारत में मार्शल आर्ट कहां सिखाया जाता है
  • खुद मार्शल आर्ट कैसे सीखें
  • मार्शल आर्ट के नियम
  • मार्शल आर्ट सीखने में कितना समय लगता है
  • कलरीपायट्टु कैसे सीखें
  • कुंग फू कैसे सीखें
  • Fighting कैसे सीखें
  • मार्शल आर्ट के जनक

यहाँ इस लेख में हम कोशिश करेंगे कि आपके सारे सवालो का जवाब मिल सके।

Martial Arts कोई Theoretical Subject नहीं है। जिसे किसी किताब के मदद से खुद ही Solve किया जाए। Martial Arts को आप कर्तब की तरह समझ सकते हैं। इसे सीखने के लिए किसी गुरु या प्रशिक्षक की आवश्यकता होती है। चलिए जानते हैं कि आपको कहाँ मिलेंगे प्रशिक्षक। जो Martial Arts सिखा सके।

Martial Arts कहाँ सिखाया जाता है।

भारत में मार्शल आर्ट कहाँ सिखाया जाता है? Martial Arts Centers, जहाँ Martial Arts सिखाया जाता है। ढूंढने के लिए आप Google का भी इस्तेमाल कर सकते हैं। इसके लिए Google पर “Martial Arts Classes Near Me” सर्च कर सकते हैं।

यह सर्च करने के बाद Google आपके अगल बगल के Martial Arts Centers ढूंढ कर दिखा देता है। इसके अलावा आजकल YouTube पर भी बहुत सारे Channel है। जो तरह तरह के Martial Arts सिखाता है। आप वहाँ से भी Instructions देख सकते हैं और समझ सकते हैं।

इसके अलावा हमने भारत के कुछ प्रमुख Martial Arts Centers के नाम और पता नीचे दे दिया है।

  • Shaolin Temple, Noida, Utter Pradesh
  • Contact Combat India, New Delhi, Delhi
  • Shri Ram Martial Arts School of India, Jaipur, Rajasthan
  • Kalarikendram Noida, Noida, Utter Pradesh
  • Bjj India, New Delhi
  • Mixed Martial Arts MMA Classes, New Delhi, Delhi
  • Karate Mixed Martial Arts – MMA and Kickboxing Classes, New Delhi, Delhi
  • UFCA – Ultimate Fitness and Combat Academy, New Delhi, Delhi
  • Warrior’s Cove Mixed Martial Arts Gurugram, Haryana
  • Indian School of Martial Arts, Ashram in Arayoor, Kerala

Note:- ऊपर बताए गए Martial Arts School को क्रमानुसार सजाया नहीं गया है। इसलिए ये कहना कि ऊपर की ओर अच्छे Martial Arts School है या फिर नीचे की ओर अच्छे Martial Arts School है। गलत होगा।

जरुर पढ़ें:-

  1. ऑनलाइन पैसे कैसे कमाए
  2. मोबाइल से पैसे कैसे कमाए
  3. TV Channel वाले पैसे कैसे कमाते हैं

Conclusion

इसमें हमने बताया कि Martial Arts क्या है, Martial Arts के प्रकार, इसके इतिहास, भारत के टॉप Martial Arts के नाम और भी बहुत कुछ सीखा है। हम उम्मीद करते हैं कि यह लेख आप लोगों पसंद आया होगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to top
error: Content is protected !!