Menu Close

नेटवर्क हब क्या है और कैसे काम करता है?

नेटवर्क हब से आप क्या समझते हैं? क्या आप जानते हैं कि नेटवर्क हब क्या होता है। अगर आपको भी नेटवर्क हब की जानकारी नहीं है। तब इस लेख को जरुर पढ़ें। क्योंकि इस लेख में हमने नेटवर्क हब की पूरी जानकारी बताया है। जिसमें बताया है कि नेटवर्क हब क्या है, नेटवर्क हब के प्रकार, नेटवर्क हब कैसे काम करता है, हब नेटवर्क के उपयोग, नेटवर्क हब की विशेषता और नेटवर्क हब के लाभ-हानि क्या है। यानी मात्र इस लेख को अंत तक पढ़ने के बाद आपको Hub की पूरी जानकारी हो जाएगा। वैसे आपने पहले कभी Hub का नाम जरूर सुना होगा। शायद इसीलिए तो इस लेख को पढ़ रहे हैं।

• Ad

लेकिन अगर आपको Hub के बारे में कुछ भी पता नहीं है। तब आपके जानकारी के लिए बता दे कि एक कंप्यूटर नेटवर्क को बनाने के लिए कई तरह के तकनीक व उपकरण का इस्तेमाल किया जाता है। इन्हीं तकनीक व उपकरण की सहायता से कंप्यूटर नेटवर्क का निर्माण होता है। उन्हीं उपकरणों में से HUB भी एक प्रमुख उपकरण है। हालांकि HUB की कमियों को देखते हुए। HUB की जगह Switch को Replace किया जा रहा है। लेकिन अभी भी इसका उपयोग कई जगह होता है। इसलिए अगर आप Computer Science के Student हैं। या फिर अपना Career Computer अथवा Computer Networking के Field में बनाना चाहते हैं। तब आपको HUB की जानकारी जरूर होनी चाहिए।

वैसे HUB के बारे में जानकारी एक Smart Computer User को भी होनी चाहिए। क्योंकि जब भी एक Computer Network के निर्माण की बात आती है। तब-तब HUB का भी जिक्र किया जाता है। अगर आप Computer Network को समझना या किसी को समझाना चाहते हैं। तब आपको Computer Network में उपयोग होने वाले तकनीक व उपकरण के बारे में भी जानना होगा। चूँकि HUB भी उन्हीं उपकरणों में एक है। इसलिए आपको HUB को भी जानना होगा कि नेटवर्क हब क्या है, नेटवर्क हब क्या कार्य करता है और यह किस प्रकार से कार्य करता है। लेकिन क्या आप आपको HUB के बारे में यह सभी जानकारी पता है? चलिए जानते हैं कि नेटवर्क हब क्या है?

पढ़िए:-

नेटवर्क हब क्या है? (What is Hub in Hindi)

HUB एक Networking Device है। जिसकी सहायता से कई Computer को आपस में जोड़कर Local Area Network (LAN) बनाया जाता है। ताकि सभी Computers आपस में डेटा व संसाधन को शेयर कर सके। यह OSI Model के पहले स्तर यानी Physical Layer के अंतर्गत आता है। इसका प्रयोग कर Network के आकार को बढ़ाया जा सकता है। क्योंकि HUB Multiple Ethernet Port उपलब्ध कराता है। जिसकी सहायता से अनेको Devices को इससे Connect कर सकते हैं। HUB के Multiple Port के कारण इसे Multiple Port Repeater भी कहा जाता है।

• Ad

HUB का उपयोग LAN Connectivity प्रदान करने के लिए होता है। हालांकि आज HUB की जगह Switch का उपयोग अधिक किया जा रहा है। यह Signal को Amplify और Regenerate करता है। HUB को आप Local Area Network (LAN) का Central Connection Point समझ सकते हैं। जिससे सभी Devices जुड़ी होती है। मार्केट में HUB विभिन्न Shapes में उपलब्ध है। जिसमें विभिन्न प्रकार के Ports उपलब्ध होते हैं। इसका अपना कोई Routing Table नहीं होता है। जिससे यह प्राप्त डेटा का Destination पता करने में सक्षम नहीं होते हैं। इसलिए यह प्राप्त डेटा को Multiple Ports में Broadcast करता है।

अर्थात प्राप्त डेटा को यह अपने से जुड़े सभी Computers में Transmit करती है। जिससे HUB से जुड़े सभी Computers को Check करना पड़ता है कि प्राप्त डेटा उनके लिए है भी या नहीं। न तो यह डेटा को Filter करने में सक्षम है और न इनकी खुद की Intelligency होती है। Basically ये HUB एक Multiport Repeater है। जिसका इस्तेमाल Multiple Wire से Connection बनाने के लिए किया जाता है। इससे आप अपने Local Area Network (LAN) को बड़ा कर सकते हैं। इसे Multiport Repeater के अलावा Ethernet Hub, Network Hub, Repeater Hub और सिर्फ Hub के नाम से जानते हैं। चलिए अब जानते हैं कि एक Network में Hub कैसे काम करता है।

संबंधित लेख:-

नेटवर्क हब कैसे काम करता है? (How Network Hub Works in Hindi)

Hub का इस्तेमाल Local Area Network (LAN) में होता है। यह LAN में सभी Devices का Central Point के रूप में कार्य करता है। जिससे सभी Devices Port की मदद से जुड़े होते हैं और इस तरह LAN का निर्माण होता है। इसमें डेटा Packets को Frame कहा जाता है। जब कोई Port Frame Send करता है। तब Hub उस Frame को सभी Ports में Forward कर देता है। अर्थात Hub से जुड़े सभी Devices को वह Frame प्राप्त होता है। चाहे Frame का Destination कोई भी हो। क्योंकि Hub Frame की Destination समझने में सक्षम नहीं होता है।

इसलिए यह प्राप्त Frame को सभी Ports में Forward कर देता है। इस तरह वह Frame अपने Destination तक भी पहुंच जाता है। हालांकि इससे Network में अधिक Traffic Generate होता है। जिससे Network को नुकसान पहुंचता है। इससे सुरक्षा संबंधित खतरे भी हैं। इन्हीं कमियों के कारण Hub को Advance Devices जैसे; Switches और Router से Replace किया जा रहा है। Hub इन Devices की तुलना में धीमी होती है। क्योंकि यह एक समय डेटा भेजने और प्राप्त करने में सक्षम नहीं होता है। इसलिए यह इन Devices के मुकाबले सस्ते भी होते हैं।

नेटवर्क हब के प्रकार (Types of Hub in Hindi)

नेटवर्क हब के निम्नलिखित तीन प्रकार होते हैं।

  1. Passive Hub
  2. Active Hub
  3. Intelligent Hub

चलिए हब के तीनो प्रकार को जानते हैं।

1. Passive Hub

इस प्रकार के Hub का इस्तेमाल सिर्फ एक Connector के रूप में किया जाता है। यह Signal को Regenerate करने में सक्षम नहीं होता है। ये Network समस्याओं को दूर करने में अपना कोई योगदान नहीं देता है। यह सिर्फ Network Device को Connect करने के लिए अनेक Connector प्रदान करता है।

2. Active Hub

इस प्रकार के Hub का इस्तेमाल Multiport के साथ Signal Regenerate करने के लिए भी किया जाता है। इसलिए इसे Repeater के रुप में उपयोग करते हैं। इसे Multiport Repeater भी कहा जाता है। इसे खुद की Power Supply की आवश्यकता होती है। Active Hub के पास अनेको Features होती है। जिससे वो Network समस्याओं को सुलझाने में भी सक्षम होते हैं। इस तरह के Hub Passive Hub के मुकाबले ज्यादा काम करते हैं।

3. Intelligent Hub

Intelligent Hub उन सभी कार्यों को करने में सक्षम होता है। जिन्हें एक Passive और Active Hub करते हैं। साथ ही कई अनेको Functions को Perform करने में सक्षम होता है। जिससे Network की Performance में सुधार होता है। ये Network समस्याओं को सुलझाते हैं। साथ में Network में उत्पन्न समस्याओं का Location पता कर सकते हैं। एक Network में Intelligent Hub विभिन्न तरह के काम करने में भी सक्षम होते हैं। जैसे; Bridging, Routing, Switching और Network Management इत्यादि।

नेटवर्क हब की विशेषताएं (Features of Hub in Hindi)

एक नेटवर्क हब में मुख्य रूप से निम्नलिखित विशेषताएं होती है।

  • एक नेटवर्क हब नेटवर्क की Performance में कोई बदलाव नहीं करता है।
  • एक USB Hub अधिकतम 127 तथा Network Hub अधिकतम 32 Computers अथवा अन्य Devices को Connect कर सकते हैं।
  • Hub में 4 से 24 Size Port उपलब्ध होती है।
  • Hub में Multiple Port होते हैं।
  • कुछ Hub Signal को Amplify और Regenerate करने में भी सक्षम होते हैं।
  • Hub को स्थापित करना या इसकी सहायता से LAN का निर्माण करना बहुत आसान है।
  • Hub सभी तरह के Network Media को Support करता है।

नेटवर्क हब की कमियां (Disadvantages of Hub in Hindi)

एक नेटवर्क हब में मुख्य रूप से निम्नलिखित कमियां होती है।

  • नेटवर्क हब डेटा के लिए Best Path Find करने में सक्षम नहीं होता है।
  • नेटवर्क हब में नेटवर्क के ट्रैफिक को फिल्टर करने के लिए कोई Mechanism नहीं होता है।
  • यह Full Duplex के बजाय Half Duplex Mode में Operate होता है।

नेटवर्क हब से संबंधित प्रश्न और उत्तर (FAQ)

1. Hub किसे कहते हैं?

सामान्यतः Hub उस Network Device को कहते हैं। जो Multiple Port उपलब्ध कराता है। जिसकी सहायता से अनेको Devices को आपस में जोड़ा जाता है। इसे Multiport Repeater भी कहते हैं।

2. Hub कैसा Device है?

Hub एक Networking Device है। Basically Hub का इस्तेमाल एक Computer Network में Devices को Connect करने के लिए किया जाता है। इसलिए इसे Network Hub भी कहते हैं।

3. Hub कितने प्रकार के होते हैं?

मुख्य रुप से Network Hub के तीन प्रकार होते हैं। Passive Hub, Active Hub और Intelligent Hub

4. Hub क्या कार्य करता है?

Hub का कार्य प्राप्त डेटा (Frame) को अपने से जुड़े सभी Devices तक डेटा Forward करना होता है। चाहे वह डेटा किसी एक Device के लिए क्यों न हो।

5. Hub का क्या उपयोग है?

आमतौर पर Hub का उपयोग अनेको Devices को आपस में जोड़ने के लिए किया जाता है।

Conclusion – Network Hub in Hindi

आज के समय में Hub काफी कम प्रचलन में है। क्योंकि Hub को Advance Network Device जैसे; Switch और Router से Replace किया जा रहा है। हालांकि अभी भी आप पूराने मशीनों और विशिष्ट ऐप्लिकेशन में देख सकते हैं। पहले Switches के बजाय Hub के इस्तेमाल का प्रमुख कारण इनके बीच के मूल्य का अंतर था। लेकिन Switches के मूल्यों में कटौती से यह समस्या भी समाप्त हो गया है। उम्मीद करते हैं कि यह लेख आपको पसंद आया होगा और कुछ नया जानने को मिला होगा। अगर अभी आपका कोई प्रश्न है। तब आप कमेंट के माध्यम से पूछ सकते हैं। यह लेख आपको कैसा लगा? कमेंट कर के बताना ना भूलें।

Leave a Reply

Your email address will not be published.