Hand Writing कैसे सुधारें? 5 तरीके

आज इस लेख के माध्यम से Hand Writing कैसे सुधारें जानेंगे (How to improve Handwriting in hindi)। Hand Writing किसी भी इंसान का पहला इम्प्रैशन होता हैं। बच्चों से लेकर बड़ों तक में खराब Hand Writing (हैंड राइटिंग) की समस्या होती है।

माता-पिता भी अपने बच्चों की खराब हैंड राइटिंग को लेकर परेशान रहते हैं। खराब Hand Writing की वजह से कई बार हमें दुसरो के सामने शर्मिंदा भी होना पड़ता है। आमतौर पर खराब हैंड राइटिंग की परेशानी विधार्थीयों के लिए अधिक होती है।

खराब हैंड राइटिंग विधार्थीयों के एक्जाम पर बहुत बुरा असर डालता है। यह भी कहा जाता है कि आपकी लिखावट से ही पता चलता है कि आप पढ़ने में कैसे हैं। इसलिए बहुत से लोग अपनी बेकार की हैंड राइटिंग की वजह से परेशान रहते हैं।

हर कोई यही चाहता है कि उसकी लिखावट सुंदर और आकर्षक हो। इसलिए आज इस लेख के माध्यम से हैंड राइटिंग सुधारने के कुछ जरूरी तरीके जानने वाले हैं। इन तरीको की मदद से अपनी लिखावट यानी हैंड राइटिंग को सुधारने ( Handwriting Improve) के साथ ही साथ सुंदर और आकर्षक भी लिख सकते हैं। तो चलिए उन तरीको को जानते हैं।

हैंड राइटिंग सुधारने के तरीके

हैंड राइटिंग को सुधारने के लिए अच्छा लिखने की प्रैक्टिस करते रहना चाहिए। इसके लिए नीचे लिखावट सुधारने तरीके दिए गए हैं। जिनकी मदद से अच्छा लिख सकते हैं। तो चलिए जानते हैं…

1. पेन या पेंसिल को अच्छे से पकड़ें।

जी हाँ, लिखते वक्त पेन या पेंसिल सही तरीके से पकड़ना चाहिए। सही तरीके से लिखने का मेरा तात्पर्य यह है कि पेन या पेंसिल को ना ज्यादा नीचे पकड़े और ना ज्यादा उपर पकड़े। पेन या पेंसिल को सभी तरीको से पकड़कर लिखने की कोशिश करें। जिस प्रकार पेन या पेंसिल को पकड़कर लिखने में ज्यादा सुलभ हो उसी प्रकार लिखें।

2. शब्दो के आकार का महत्व

लिखावट को बेहतर करने के लिए शब्दो का आकार बहुत महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। जब तक शब्दो के आकार सही नहीं होंगे तब तक लिखावट बेहतर नहीं हो सकता है। इसलिए शब्दों के आकार पर ध्यान दें। शब्दों को ना ज्यादा बड़ा लिखें ना ज्यादा छोटा लिखें। प्रत्येक अक्षर व शब्द के आकार को सामान्य रखें।

3. शब्दो के बीच निश्चित दूरी बनाए रखें।

शब्दों के बीच एक निश्चित दूरी जरूर रखें। शब्दों के बीच की दूरी ना ज्यादा ना ही कम होना चाहिए। जिसकी वजह से लिखावट साफ साफ होती है। जिससे पढ़ने व समझने में आसानी होती है।

4. जल्दबाजी ना करें।

जल्दबाजी करना बिलकुल गलत होता है। डॉक्टर की लिखावट बिलकुल गंदी होती है। इसका कारण जल्दबाजी होता है। डॉक्टर के जल्दबाजी के कारण उनका Hand Writing खराब हो जाता है। इसलिए लिखते वक्त जल्दबाजी ना करें। अक्षर व शब्द को साफ साफ और धीरे धीरे लिखें। लिखने के स्पीड को धीरे-धीरे बढ़ा सकते हैं।

5. निरंतर लिखते रहना।

जी हाँ, उपर जितने भी तरीके बताएं गये हैं। उनका निरंतर अभ्यास करते रहें। इससे आपकी लिखावट सुधरेंगे। इसलिए निरंतर लिखते रहना चाहिए।

ये भी पढ़ें:-

  1. Mobile को हैंग होने से कैसे बचाएं?
  2. रोग प्रतिरोधक क्षमता कैसे बढ़ाएं?
  3. English बोलना कैसे सीखें?

तो ये थे Hand Writing सुधारने के 5 तरीके। जिसकी मदद से लिखावट (Handwriting) को सुधार सकते हैं। यह लेख आपको कैसा लगा अपने विचार कमेंट के माध्यम से साझा कर सकते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to top
error: Content is protected !!