GST क्या है? पूरी जानकारी

किसी राज्य द्वारा व्यक्तियों या विविध संस्था से जो अधिभार या धन लिया जाता है;उसे कर (Tax) कहते हैं। राष्ट्र के अधीन आने वाली विविध संस्थाएँ भी तरह-तरह के कर चुकाती हैं।

GST क्या है?

GST का पुरा नाम Goods and Services Tax हिंदी में वस्तु एवं सेवा कर है। जीएसटी भारत की अर्थव्यवस्था को एक देश एक कर वाली अर्थव्यवस्था बना देगा।

GST एक अप्रत्यक्ष कर (Indirect Tax) व्यवस्था है। जिसे 1 जुलाई 2017 से पुरे देश में लागू कर दिया गया है। GST को समझने के लिए हमें GST के पहले का कर (Tax) व्यवस्था को समझने की जरूरत है।

GST के पहले की कर (Tax) व्यवस्था

सामान्य रूप से शासन सम्बंधी कार्य संचालन के लिए व्यक्तिगत इकाइयों पर अनिवार्य उद्ग्रहण के रूप में कर (Tax) लगाए जाते हैं। कर (Tax) को दो भागो में बाँट सकते हैं, Direct Tax और Indirect Tax

1. Direct Tax

Direct Tax को विधिगत रूप से जिस पर लगाए जाते हैं उसे ही इसका भुगतान करना पड़ता है। Direct Tax में Income Tax, Capital Gains Tax, Securities Transmission Tax, Perquisite Tax, Corporate Tax आदि Tax आतें हैं। इस तरह के Tax को Directly Government को Pay करना होता है।

2. Indirect Tax

Indirect Tax एक व्यक्ति पर लगाए जाते हैं जबकि ये पूर्णतः या आंशिक रूप से दूसरे व्यक्ति द्वारा दिए जाते हैं। Indirect Tax मे Sales Tax, Service Tax, Value Added Tax, Custome Duty & Octroi, Excise Duty आदि Tax आतें हैं। इस तरह के Tax को Directly Government को Pay नहीं करना होता है जिनसे वस्तु खरीदते है उनके द्वारा Government तक Tax पहुँच जाती है। यह थोड़ा बड़ा Process हो जाता है।

तो कुछ इस तरह से GST के पहले की कर व्यवस्था थी।

GST आने के बाद की कर व्यवस्था

फिलहाल भारतवासी 17 अलग-अलग तरह के कर चुकाते हैं। जबकि GST लागू होने के बाद सभी Indirect Tax जैसे; Excise Duty, Services Tax, Entertainment Tax आदि Tax को हटाकर सिर्फ एक ही Tax दिया जाएगा जिसे GST नाम दिया गया है। GST भी तीन प्रकार के होते हैं।

GST के प्रकार

C-GST:- इस तरह के कर को केन्द्र सरकार प्राप्त करती है।

S-GST:- इस तरह के कर को राज्य सरकार प्राप्त करती है।

I-GST:- इस तरह के कर को एक राज्य से दूसरे राज्य में बिक्री करने पर लगता है। I-GST कर का एक हिस्सा केन्द्र सरकार को जाता है। और दुसरा हिस्सा राज्य सरकार को जाता है।

GST की दरें

वस्तु पर GST को दर के हिसाब से 5 प्रकार में बांटा गया है।

1. 0%

नमक, गुड़, दूध, अंडा, दही, खुला पनीर, ताजा सहद, ताजी सब्जी, आटा, बेसन, मैदा, सब्जी का तेल, प्रसाद, नमक, पान के पत्ते, गन्ना आदि पर GST का कोई दर नहीं लगता है।

2. 5%

चीनी, कॉफी, खाद्य तेल, कोयला, दूद से बना हुआ खाद्य, घनीभूत दूद, पैक्ड पनीर, Newsprint, छाता, PDS, केरोसिन, LPG, चुकंदर, ग्रेफाइट, चाक, बरती, CALCIUM, फॉस्फेट आदि पर 5% Tax लगेगा।

3. 12%

बटर, घी, मोबाइल, बादाम, आयुर्वेदिक, फल जूस, अगरबती, पानी, किताब, Medicines, आयोडीन आदि पर 12% की Tax लगती है।

4. 18%

चीनी, साबुन, केक, पूंजीगत बस्तुएं, पास्ता, मका, लछे, सूप, आइसक्रीम, मिनरल वाटर, Facial Tissue, लोहा, इस्पात, Chlorine आदि पर 12% टैक्स लगेगा।

5. 28%

कार, सीमेंट, Chewing Gum, Custard Powder, Perfume, Sampoo, Make up, Bike, गाड़ी, Hair Dyes, Hair Cream, फटाखे आदि पर 28% tax लगेगा।

GST के फायदे

  1. GST से कर की व्यवस्था आसान होगी।
  2. GST लागू होने से भारत के सकल घरेलू उत्पाद में 2 से 3 फीसदी की वृद्धि होने की संभावना है।
  3. GST से कर (Tax) के बाद कर (Tax) से छुटकारा मिलेगा।
  4. GST लागू होने से सिर्फ एक कर लगेगा जिससे उत्पादों की कीमत घट जाएगी।

ये भी पढ़े:-

  1. धारा 144 क्या है? पूरी जानकारी
  2. अपने Shop को Google Map में कैसे दिखाए?
  3. YouTube से पैसा कैसे कमाए? 2020

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to top
error: Content is protected !!