Domain Name क्या है और कैसे काम करता है?

Domain Name से आप क्या समझते हैं? क्या आप जानते हैं कि Domain Name क्या है और Domain Name को कैसे पंजीकृत किया जा सकता है। अगर आपको पता नहीं है कि Domain Name क्या होता है। तब इस लेख को जरूर पढ़िए। क्योंकि इस लेख में Domain Name की पूरी जानकारी बताया गया है। जिसमें बताया गया है कि Domain क्या है, Domain Name क्या है, Domain Name के प्रकार, Subdomain क्या है, Domain Name कैसे काम करता है, Domain Name और URL में अंतर, Domain Name कैसे बनाये, Domain Name कहाँ से खरीदे, Domain Name कैसे खरीदें तथा Domain Name की आवश्यकता और महत्व क्या है।

यानी आप एक ही Article में Domain Name की पूरी जानकारी प्राप्त कर सकते हैं। यदि आप Blog या Website बनाने की सोच रहे हैं। या फिर आप एक सामान्य इंटरनेट यूजर हो। जो सिर्फ इंटरनेट की सेवाओं का उपयोग करता है। तब भी आपको Domain Name की जानकारी होनी चाहिए। खासकर के तकनीकी व्यक्ति या Computer के Students को इसकी जानकारी होनी चाहिए। इसलिए अगर आपको Domain Name के बारे में जानकारी नहीं है। तब आप इस लेख को पढ़कर Domain Name के बारे में जानकारी प्राप्त कर सकते हैं। किसी भी Website को खोलने या उस तक पहुंचने के लिए हमें Domain Name की आवश्यकता होती है।

अगर आप ये सोच रहे हैं कि एक Website का Domain Name से क्या संबंध होता है। तब आपको बता दे कि जिस तरह आपके घर का पता होता है। उसी तरह Domain Name किसी Website का पता होता है। जिस पते से उस Website को Visit कर पाते हैं। इसलिए प्रत्येक Website का अपना अलग Domain Name होता है। क्योंकि यह IP Address को Represent करता है। आजकल लगभग सभी कार्य के लिए Website बना हुआ। Shopping करना हो, Recharge करना हो, Results देखना हो या जानकारी प्राप्त करना हो। जब आप कोई Website खोलते हैं। तब आपका सामना Domain Name से जरुर होता है।

इसलिए आप लोगों को Domain Name के बारे में जानकारी अवश्य होगी। इसीलिए इस लेख में हमने Domain Name के बारे में पूरी जानकारी बताया है। ताकि आप लोगों के मन में Domain Name को लेके कोई शंका ना रहे। जब Website बनाना होता है। तब Domain Name भी खरीदना पड़ता है। कुछ लोग तो Domain, Website और Hosting में अंतर नहीं कर पाते हैं। तो चलिए बिना देर किए जानते हैं कि Domain Name क्या है और कैसे काम करता है? हिंदी में पूरी जानकारी और Domain Name की परिभाषा।

Domain Name क्या है? (What is Domain in Hindi)

वह Address जो किसी Website का Location बताता है तथा नेटवर्क में उस Website की पहचान कराता है। Domain Name कहलाता है।

अर्थात Domain Name Website का Address होता है। जो पहचान का काम भी करता है। इसकी सहायता से किसी Website को देख सकते हैं। जैसे अगर आपको YouTube देखना है। जो कि एक Website है। तब आपको अपने Computer या Mobile के Web Browser के URL Bar में youtube.com सर्च करना होता है। जिसके बाद YouTube खुल जाता है और आप YouTube पर Videos देख सकते हैं। इसमें youtube.com YouTube Website का Domain Name है। इसी तरह Google का Domain Name google.com है।

प्रत्येक Website का अपना Unique Domain Name होता है। जो कि Website के Server की IP को Represent करता है। इसीलिए कहा जाता है कि Domain Name Website के पहचान का भी कार्य करता है। क्योंकि प्रत्येक Website का अपना अलग Domain Name होता है। जैसे YouTube का youtube.com है। तब इसी Domain Name से दूसरा Website नहीं बनाया जा सकता है। इस तरह आप Domain Name की सहायता से Website की पहचान कर सकते हैं। जैसे; YouTube वही हो सकता है जिसका Domain Name youtube.com होगा।

वास्तव में किसी Website या Server का Address Internet Protocol होता है। जिसे संक्षेप में IP Address कहते हैं। लेकिन इसे याद रखने में मुश्किल होता था। इसलिए DNS के जरिए प्रत्येक Website के IP का नामकरण किया जाता है। जिसे Domain Name कहते हैं। इसे IP Address का Human Readable Versions कहा जा सकता है। Internet पर प्रत्येक Website का पहचान Domain Name से होता है। जिस तरह किसी व्यक्ति का पहचान उसके नाम से किया जाता है। Domain Name को उपयोग करने के लिए सबसे पहले Domain Name Register करना पड़ता है।

Domain Name Registration आमतौर पर Domain Name Registrar से होता है। ये Domain Registrar कंपनी अपनी सेवाएं बेचती है। इन Domain Registrar को Domain Name बेचने की अनुमति ICANN देता है। क्योंकि यह Domain Name और इसके विभिन्न कार्यों को निर्धारित करने के लिए जिम्मेदार है। यह Non-Profit Private Organisation है। जिसका पूरा नाम Internet Corporation For Assigned Names And Numbers है। आमतौर पर ICANN InterNIC और IANA का संचालन करता है। InterNIC संगठन Domain Name Registration संबंधित कार्यों के लिए जिम्मेदार होता है। IANA संगठन Internet Protocol संबंधित संसाधनों के लिए जिम्मेदार होता है।

Note:- इस Website को आप लोग gyanveda.in से पहचानते हैं। जो कि वास्तव में इस Website का Domain Name है।

जरुर पढ़ें:-

Domain Name कैसे काम करता है? (How Domain Name Works in Hindi)

DNS की कार्यप्रणाली

जैसा कि आप लोगों को पता होगा कि प्रत्येक Website HTML Format के रुप में किसी Computer Server पर Store होता है। जिसका अपना एक IP Address होता है। इसी Address के जरिए कोई व्यक्ति Computer Server तक पहुंच बना पाता है और Browser पर Website देखता है। IP Address का Format 66.104.205.16 जैसा होता है। जिसे याद रखना एक कठिन कार्य है। आप खुद सोचकर देखिये कि आपके प्रत्येक पसंदीदा Websites को देखने के लिए इसी तरह के Numbers को याद रखना पड़ें तो क्या होगा? वो भी प्रत्येक Websites के लिए एक अलग Numbers.

ऐसा होने पर इन Numbers को याद रख पाना बहुत मुश्किल होगा। इस कारण अपने पसंदीदा Websites के IP Address को लिख कर रखना पड़ेगा। आजकल तो बहुत सारे Website बन चुके। जिसे लिख कर रखना भी संभव नहीं है। इसी समस्या के समाधान के हेतु Domain Name बनाया गया। ताकि इन Numbers को याद रखने से छुटकारा मिल सके। अब किसी Website को देखने के लिए IP Address की आवश्यकता नहीं होती है। अब Domain Name के द्वारा Server तक पहुंच बना सकते हैं और Website देख सकते हैं। ऊपर आपने जान लिया है कि Domain Name क्या है? चलिए अब जानते हैं कि Domain Name कैसे काम करता है? इसके द्वारा Website कैसे Access किया जाता है।

जब Computer या Mobile के Browser के URL Bar में किसी Website का Domain Name Search करते हैं। तब आपके Browser से Domain Name System (DNS) के पास Request जाता है। DNS के पास Websites का पूरा Database होता है। जिसमें यह जानकारी होती है कि Website किस Server पर Store है तथा उस Server का IP Address क्या है। DNS उस Domain Name को IP Address में बदलकर Website के Server को Request भेजता है। चूंकि IP Address से Server का पता चल जाता है कि Website किस Server पर Store है।

Server उस Request को Accept कर के Data को Browser के लिए Send कर देता है। जिसके बाद आप Website देख पाते हैं और उसका Use करते हैं।

Domain Name के प्रकार (Types of Domain Name in Hindi)

Domain Name में Website नाम के बाद डॉट (•) extension के बाद com, org, net, in इत्यादि होता है। इससे Website का उद्देश्य पता चलता है। इसी के आधार पर Domain Name को बांटा जाता है। वैसे तो Domain Name बहुत प्रकार के होते हैं। लेकिन यहाँ हमने सिर्फ महत्वपूर्ण और पॉपुलर प्रकारों की जानकारी दूंगा। ताकि कभी आपको Domain Name खरीदने की जरूरत हो। तब आप एक सही Domain का चुनाव करने में सक्षम हो। तो चलिए Domain के प्रकार को जानते हैं।

1. TLD – Top Level Domain

जिस Domain Name को सभी देशो में उपयोग किया जाता है। वैसे Domain Name को Top Level Domain कहते हैं। Top Level Domain का सबसे ज्यादा इस्तेमाल होता है। इसके द्वारा Website Rank कराना आसान होता है। साथ में Google भी ऐसे Domain Name को ज्यादा Importance देता है। Top Level Domain का उदाहरण निम्नलिखित Suffix वाले Domain होता है। जैसे;

.comCommercial
.orgOrganisation
.netNetwork
.govGovernment
.eduEducation
.nameName
.bizBusiness
.info Information

2. CCTLD – Country Code Top Level Domain

जिस Domain Name को सिर्फ किसी एक देश के लिए लक्षित किया जाता हो। या किसी देश को प्राथमिकता देता है। वैसे Domain Name Country Code Top Level Domain होता है। ऐसे Domain का Suffix Country के नामों के आधार पर होता है। जैसे India के लिए .in Domain है। CcTLD का उदाहरण निम्नलिखित Suffix वाले Domain Name होता है। जैसे;

.inIndia
.usUnited States
.ukUnited Kingdom
.cnChina
.chSwitzerland
.nz New Zealand
.brBrazil
.ruRussia
.auAustralia
.jpJapan
.frFrance

Subdomain क्या है? (What is Subdomain in Hindi)

Domain Name के आगे डॉट (•) लगाकर कोई शब्द जोड़ने पर Subdomain का निर्माण होता है। Subdomain का मतलब उपडोमेन है। जैसे; gyanveda.in एक Domain Name है। इसके आगे Support. लगा देने से यह Subdomain बन जाएगा। जैसे; support.gyanveda.in में gyanveda.in Domain Name हुआ तथा Support Subdomain हुआ। Subdomain Domain Name में एक अंश होता है। Subdomain का फायदा यही है कि इससे एक Domain Name को अलग अलग Branch में बांट सकते हैं।

Note:- Domain Name को Domain Registrar से खरीदना होता है। सामान्यतः एक Top Level Domain 1000 रुपये तक में एक साल के लिए खरीद सकते हैं। इसे प्रत्येक वर्ष Renew कराना पड़ता है। लेकिन Subdomain को अलग से खरीदने की आवश्यकता नहीं होती है। यदि आपके पास एक Domain Name है। तब आप अपने उसी Domain Name से जितना चाहे, उतना Subdomain बना सकते हैं।

Blogspot.com और WordPress.com पर Free में Website बना सकते हैं। क्योंकि यहाँ Domain Name नहीं बल्कि एक Subdomain दिया जाता है।

Domain Name और URL में अंतर (Domain Name VS URL in Hindi)

Domain Name और URL दोनो ही Web Address है। यानी किसी Website का Address। इसी कारण बहुत सारे लोग URL और Domain Name में Confused हो जाते है। वे सोचते हैं कि आखिर Domain Name कौन-सा है और URL कौन-सा है। Domain Name और URL में अंतर क्या होता है। आपके इन्हीं Confusion को दूर करने के लिए यहाँ हम बता रहे हैं कि Domain और URL में क्या अंतर होता है।

Domain Name कुछ इस तरह होता है – gyanveda.in

URL कुछ इस तरह होता है – gyanveda.in/domain-name-kya-hai/

यानी – URL किसी भी Web या Webpage का पूरा Address होता है। जिसकी सहायता से उस Web या Webpage तक पहुंचा जा सकता है। लेकिन Domain URL का अंश होता है। जो किसी Organisation या Entity का पहचाना होता है। सामान्य भाषा में बोले तो Web का पहचान कराता है। जैसे; ऊपर का URL देख कर आप पहचान सकते हैं कि यह Web Address (URL) gyanveda.in Website का है। एक URL के आगे Protocol वगैरह भी होता है। जैसे;

Domain Name की आवश्यकता क्यों होती है? (Domain Name Requirement in Hindi)

ऊपर हमने Domain Name के बारे में बहुत कुछ बताया है। जैसे; Domain Name क्या है, Domain Name कैसे काम करता है, इसके प्रकार और भी बहुत कुछ। इतना पढ़ने के बाद आपको ये तो पता चल ही गया होगा कि Domain Name की क्या आवश्यकता थी। Domain Name क्यो बनाया गया। फिर भी आपके जानकारी के लिए बता दूं कि Computer Network से जुड़े प्रत्येक Device का अपना एक Address होता है। जिसे IP Address कहते हैं। इसकी सहायता से Network में Device की पहचान होती है और Data का Transfer होता है।

Server भी Computer Network से जुड़ा एक Device है। इसलिए इसका भी IP Address होता है। जिसकी सहायता से इसे Network में पहचान सकते हैं और इससे Communication बना पाते हैं। चूंकि Server का इस्तेमाल Website को Host या Store करने के लिए होता है। अब Website को देखने के लिए IP Address का उपयोग होता था। लेकिन आपको पता ही होगा कि इसे याद रख पाना मुश्किल है। इसलिए Domain Name System और Domain Name को बनाया गया। अब किसी Website को Domain Name के जरिए देख सकते हैं। जिसे याद रखना आसान है।

अब अगर आप कोई Website या Blog बनाने की सोच रहे हैं। तब आपको Domain Name की आवश्यकता होगी। ताकि आपके Visitors आपके Website या Blog तक आसानी से पहुंच सके।

जरुर पढ़ें:-

Domain Name कैसे बनाये? (How to choose Domain Name in Hindi)

अगर आप Website बनाना चाहते हैं। तब सबसे पहले आपको Website के नाम का Domain Name खरीदना होता है। लेकिन अगर आपको समझ नहीं आ रहा है कि नाम क्या रखें। तब निम्न विचारो पर ध्यान दें।

  • Domain Name आपके Website का नाम होना चाहिए।
  • Domain Name Website Niche यानी Category या Business Profile के अनुसार होना चाहिए।
  • Domain Name छोटा होना चाहिए। जो पढ़ने, समझने, बोलने, लिखने और याद रखने में आसान हो।
  • Domain Name Unique होना चाहिए।
  • Top Level Domain ही खरीदें।
  • Domain Name में Symbols और Numbers को यथासंभव ना रखने की कोशिश करे।

Domain Name कहाँ से खरीदे? (Domain Name Registrar Company in Hindi)

अगर आपने सोच लिया है कि आपके Website का नाम और Domain Name क्या होगा। तब आपको उस Domain Name को सबसे पहले खरीद लेना चाहिए। नहीं तो अगर उस Domain Name को किसी और ने खरीद लिया। तब आप उस Domain को नहीं खरीद सकते हैं। इसीलिए बिना देरी किए Domain Name को Register कर लें। लेकिन क्या आपको पता है कि Domain Name कहाँ Register होता है। अगर नहीं तो नीचे हमने Best Domain Registrar Company का नाम बताया है।

  • GoDaddy
  • BigRock
  • NameChip
  • Com
  • 1and1
  • Znetlive
  • Hostgator
  • Domain
  • Hover
  • Google Domain

Note:- इन सभी Company को Domain Name बेचने की अनुमति ICANN ने दिया है।

जरुर पढ़ें:-

Domain Name कैसे खरीदें? (Domain Name Registration in Hindi)

अगर आप Domain Register करना चाहते हैं। लेकिन आपको पता नहीं है कि कैसे Domain Name Register होता है। तब चलिए Website को Register करने की प्रक्रिया जानते हैं। चूँकि ऊपर हमने बता दिया है कि Domain Name कहाँ Register होता है। अब यहाँ आप जानेंगे कि उन Domain Registrar से Domain Name कैसे खरीद सकते हैं। Domain Name Register करने के लिए आपको कहीं जाने की आवश्यकता नहीं है। क्योंकि Domain Name Registration Online होती है। कैसे? Domain Register Company के Website से। तो चलिए जानते हैं कि Domain Name कैसे खरीदें? लगभग सभी Domain Registrar से Domain खरीदने का यही प्रक्रिया होती है।

Step#1:- Visit Domain Registrar Website

Domain Register करने के लिए सबसे पहले Domain Register करने वाली Website पर चले जाना है।

Step#2:- Find Domain Name

Domain Registrar के Website पर जाने के बाद Search Bar दिखेगा। उसमें Domain Name को Type कर के Search करना है। अगर आपके Domain Name को पहले किसी ने नहीं खरीदा होगा। तब Available दिखा देगा।

Step#3:- Add to Cart

Domain Name खोजने पर अगर उपलब्ध रहता है। तब उसे Cart में Add कर लें।

Step#4:- Checkout

Cart में Domain Name को Add करने के बाद खरीदने के लिए Checkout पर Click करना है।

Step#5:- Create a Account

जैसे ही आप Checkout करेंगे। आपके सामने Domain Registrar में Login करने का Page Open हो जाएगा। चूँकि आपके पास तो Domain Registrar में पहले से Account नहीं होगा। इसलिए सबसे पहले Account Create कर के Login कर लें।

Step#5:- Payment

Login होने के बाद Domain Name Checkout का Payment करना होता है। चूंकि मैंने पहले ही बताया था कि Domain Name खरीदना होता है। इसलिए इस स्टेप में आपसे Payment करने को कहा जाएगा। इसलिए आपको Billing Address और Information डाल कर कोई Payment Method Select कर के Payment कर दें।

Payment Successful होने के बाद आपका Domain Name Register हो जाएगा। अब इसे अपने Web Server से Connect कर के Website बना सकते हैं।

Domain, Website और Hosting में अंतर (Domain VS Website VS Hosting in Hindi)

Website बनाने के लिए दो चीजे महत्वपूर्ण होती है। वो है Domain और Hosting. लेकिन लोग Domain Name, Website और Hosting में Confuse होते हैं। इसलिए यहाँ तीनो का मतलब बताने वाला हूं। जिससे आप तीनो के बीच अंतर कर सकते हैं। कई लोग तो यह भी मानते हैं कि Domain खरीद लेने के बाद Website बन जाता है। लेकिन ऐसा नहीं है तो चलिए जानते हैं…

जिसे आप Internet या Web पर देखते हैं। वो Website होता है। जबकि Hosting एक Space होता है। जहाँ Website का सारा Content जैसे; HTML, Pages, Images, Videos आदि संग्रहित होता है। वहीं Domain Name Website का Address होता है। जिसकी सहायता से Website के Content को Browser पर देखते हैं। यानी एक Website बनाने के लिए Hosting, Domain और Content की आवश्यकता होती है।

इसे भी पढ़ें:-

Conclusion – Domain Name in Hindi

उम्मीद करता हूं कि यह लेख आप लोगों को पसंद आया होगा। इस लेख के माध्यम से आपने Domain Name के बारे में पूरी जानकारी प्राप्त किए होंगे। क्योंकि इस लेख में हमने Domain Name की पूरी जानकारी बताया है। जिसमें बताया है कि Domain क्या है, Domain Name क्या है, Domain Name के प्रकार, Subdomain क्या है, Domain Name कैसे काम करता है, Domain Name और URL में अंतर, Domain Name कैसे बनाये, Domain Name कहाँ से खरीदे, Domain Name कैसे खरीदें तथा Domain Name की आवश्यकता और महत्व क्या है।

अगर आपको यह लेख पसंद आया है और कुछ नया जानने और सीखने को मिला है। तब इस लेख को अपने दोस्तो के साथ शेयर करना ना भूलें। ऐसी ज्ञानवर्धक जानकारी अपने ईमेल पर प्राप्त करने के लिए ब्लॉग को Subscribe करना ना भूलें।

2 thoughts on “Domain Name क्या है और कैसे काम करता है?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to top
Exit mobile version