Hardware क्या है? इसके प्रकार, पार्ट्स और कार्य

आज इस लेख के माध्यम से कंप्यूटर हार्डवेयर की पूरी जानकारी शेयर करने वाला हूँ। जिसमें हमने बताया है कि Hardware क्या है, Hardware का क्या कार्य होता है, Hardware के Parts, Hardware का प्रकार, Hardware और Software में अंतर क्या होता है। जैसा कि आपको पता ही होगा कि Computer दो भागों से मिलकर बना है। पहला भाग को Hardware और दुसरे को Software बोलते हैं। एक Computer को कार्य करने के लिए Hardware और Software दोनो का होना जरूरी होता है।

यदि आपको Computer का थोड़ा बहुत भी ज्ञान होगा। तब आप Computer Language को जरूर जानते होंगे। जिसे Programming Language भी कहा जाता है। Computer के इन्ही Language के द्वारा Software को बनाया जाता है। Software निर्देशों की श्रृंखला होती है। जिसमें Computer के लिए निर्देश दिया जाता है। Software में निर्देश इसी Language के द्वारा लिखा जाता है। हमने सॉफ्टवेयर की जानकारी विस्तार से किसी और Post में बता दिया है। इसलिए अगर आपको सॉफ्टवेयर की जानकारी नहीं है। तब इस लेख को पढ़ सकते हैं – सॉफ्टवेयर क्या है?

चूँकि हमने बताया कि Software निर्देशों की श्रृंखला होती है। जिसमें Computer को कार्य करने के लिए निर्देश दिया जाता है। इसके निर्देश के अनुसार ही Computer कार्य करता है। लेकिन क्या आप जानते हैं कि Hardware क्या होता है और Hardware का Computer में क्या योगदान होता है। Computer Hardware के अंतर्गत कौन सा Parts या Device आता है। Computer के इन Parts का क्या कार्य होता है। अगर आपको Computer Hardware की ये सब जानकारी पता नहीं है। तब इस लेख को अंत तक जरूर पढ़ें। इसमें Computer Hardware की पूरी जानकारी बताया गया है। चलिए पहले जानते हैं कि Hardware क्या है।

कंप्यूटर हार्डवेयर क्या है? (What is Hardware in Hindi)

Computer का वह भाग Hardware कहलाता है। जिसे हम या आप देख सकते हैं, छू सकते हैं और अनुभव भी कर सकते हैं। अर्थात Computer के भौतिक भाग (Physical Part) को Hardware कहते हैं। जैसे; मॉनिटर, कीबोर्ड, माउस, प्रिंटर इत्यादि Computer के Hardware भाग के अंतर्गत आता है। क्योंकि इन्हें हम या आप देख सकते हैं, छू सकते हैं और अनुभव भी कर सकते हैं। अगर आपने कभी Computer देखा होगा। तब आपने Computer के इन Parts को भी जरूर देखें होंगे। जो कि Computer का Hardware कहलाता है।

Hardware से ही Computer की पूरी बनावट तैयार होता है। Computer के लिए Hardware जरुरी भाग होता है। चूँकि Computer दो भाग Hardware और Software से मिलकर बनता है। Software ही Computer को कार्य करने लायक बनाता है। लेकिन बिना Hardware के Software का कोई अस्तित्व नहीं। Software निर्देशों व प्रोग्रामों का समूह होता है। Hardware Software के कारण ही कार्य करते हैं। Computer को सुचारू रुप से कार्य करने के लिए Software ही Hardware को बताता है कि उसे कैसे काम करना है। यानी Hardware Software के निर्देशों के अनुसार कार्य करता है।

इसका उदाहरण के लिए अभी आप जिस Device (जैसे; कंप्यूटर, मोबाइल) का उपयोग कर रहे हैं। उस Device का दिखने वाला सभी Parts Hardware कहलाता है। असल में Hardware लोहे की वस्तुएं या ठोस सामान को दर्शाता है। कंप्यूटर हार्डवेयर एक तरह का सामूहिक शब्द है। जो Computer के सभी Parts को दर्शाता है। Software के बिना Hardware बस एक डब्बा रह जाता है। वहीं Hardware के बिना Software का कोई अस्तित्व ही नहीं रहता है। यूँ कहें तो Hardware के बिना Computer का ही अस्तित्व नहीं होगा। इसलिए किसी इलेक्ट्रॉनिक उपकरण को Computer कहलाने के लिए Hardware और Software दोनो का होना बेहद जरूरी होता है।

कंप्यूटर हार्डवेयर का कार्य (Work of Hardware in Hindi)

Hardware एक Computer में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। यही Computer का Structure प्रदान करता है। Hardware के बिना Computer संभव नहीं है। Computer का दूसरा और जरुरी भाग Software को Run करने के लिए Hardware की आवश्यकता होती है। इसीलिए कहा जाता है कि Hardware के बिना Computer का अस्तित्व नहीं होता है। अगर बात Hardware के कार्य की कि जाय। तब सबसे पहला कार्य होता है Software के निर्देश का पालन करना।

Computer Hardware में बहुत सारे Electronic Parts होते हैं। जिसमें से प्रत्येक का कार्य अलग अलग हो सकता है। जैसे; Computer में कुछ Input देने के लिए Input Device तथा Output प्राप्त करने के लिए Output Device का उपयोग किया जाता है। इस प्रकार Computer Hardware का जो भाग Input Device कहलाएगा। उसका कार्य Computer को Input देना हो जाएगा। वहीं Output Device के अंतर्गत आने वाले Computer Hardware का कार्य Output (परिणाम) दिखाना या देना होता है। नीचे Computer Hardware के प्रकार और उनके कार्य विस्तार से बताया गया है।

कंप्यूटर हार्डवेयर पार्ट्स (All Hardware Parts in Hindi)

Computer को काम करने के लिए इसमें एक या दो नहीं बल्कि बहुत सारे Components होते हैं। जैसे आपको पता ही होगा कि Computer में किसी भी तरह के Files (जैसे; विडियो, इमेज, ऑडियो, दस्तावेज आदि) को Store कर के रख सकते हैं। तब आपको बता दूँ कि इसके लिए Storage Device की जरूरत होती है। जो कि Computer में लगा होता है। इसीलिए Store कर पाते हैं। इसी प्रकार Computer किसी भी सुचना को Process करने के लिए Processing Device का इस्तेमाल करता है। ऐसे ही Computer में बहुत सारे Components होते हैं। जिसे Computer का Hardware Parts भी कहते हैं। इसे आप कंप्यूटर हार्डवेयर का उदाहरण के रुप में भी समझ सकते हैं।

Hardware Parts का उदाहरण
  1. Monitor
  2. Keyboard
  3. Mouse
  4. CPU
  5. GPU
  6. Printer
  7. Speaker
  8. Scanner
  9. Motherboard
  10. RAM
  11. ROM
  12. Hard Disk Drive
  13. Microphone
  14. Screen
  15. Plotter
  16. Projector
  17. DVD Drive
  18. Power Supply Unit
  19. Expansion Cards
  20. Web Cam, इत्यादि।

इन सभी Computer Hardware Parts को दो भागों में विभाजित किया जाता है। Internal Computer Parts और External Computer Parts

1. Internal Computer Parts

जैसा कि इसके नाम से ही पता चलता है कि यह Computer के अंदर का Parts है। Internal Computer Parts Computer के अंदर के Components को ही कहा जाता है। Internal Parts नाजुक होते हैं। इसलिए इन्हें Computer के बाहरी आवरण से ढक दिया जाता है। अगर आप इन Parts को देखना चाहते हैं। तब इसके लिए आपको Computer System को खोलना होता है।

Internal Computer Parts का उदाहरण

  1. Motherboard
  2. Hard Disk Drive
  3. CPU
  4. RAM
  5. RAM
  6. CMOS Battery, इत्यादि।

2. External Computer Parts

जैसा कि इसके नाम से भी पता चलता है कि यह Computer का बाहरी Parts है। Computer के बाहरी Components को External Computer Parts कहते हैं। चूँकि यह Computer के बाहर होते हैं। इसलिए इन Components को बहुत आसानी से देख, छू व देख सकते हैं और इसके लिए Computer खोलने की जरूरत भी नहीं होती है। क्योंकि इन्हीं Components का प्रयोग कर के Computer चलाया जाता है।

External Computer Parts का उदाहरण

  1. Monitor
  2. Keyboard
  3. Mouse
  4. Scanner
  5. Printer
  6. Projector

हार्डवेयर के प्रकार (Types of Hardware in Hindi)

ऊपर हमने Hardware क्या है और इसके Parts को जाना है। जैसा कि अब आपको पता होगा कि Computer में बहुत सारे Components होते हैं। यानी बहुत सारे Hardware Components को मिलाकर एक Computer Hardware तैयार होता है। जो Components बाहर दिखता है। उसे External Computer Parts कहते हैं। वहीं जिन Components को देखने के लिए Computer को खोलने की आवश्यकता होती है। उसे Internal Computer Parts कहते हैं। Computer Hardware के पूरे Components को उनके कार्य के अनुसार चार प्रकार में बांटते हैं। Hardware के प्रकार निम्नलिखित है।

  1. Input Device
  2. Output Device
  3. Processing Device
  4. Storage Device

चलिए Computer Hardware के चारों प्रकार को विस्तार से जानते हैं। कौन-सा Components Computer Hardware के किस प्रकार में आता है, ये भी जानेंगे।

1. Input Device

Computer का वह उपकरण Input Device कहलाता है। जिसके द्वारा Computer User अपना निर्देश Computer को दे पाते हैं। अर्थात Computer को आदेश देने के लिए जिस Hardware का इस्तेमाल किया जाता है। उसे Input Device (इनपुट उपकरण) कहते हैं।

उदाहरण:-

  1. Keyboard
  2. Mouse
  3. Microphone
  4. Scanner
  5. Touch Screen

2. Output Device

Computer का वह उपकरण Output Device कहलाता है। जिसके द्वारा Computer User अपना परिणाम Computer से प्राप्त करता है। अर्थात Output (परिणाम) दिखाने या बताने के लिए Computer जिस Hardware का उपयोग करता है। उसे Output Device (आउटपुट उपकरण) कहते हैं।

उदाहरण:-

  1. Monitor
  2. Speaker
  3. Printer
  4. Plotter
  5. Projector

3. Processing Device

Computer सूचनाओं को Process करने के लिए जिस Hardware Device का उपयोग करता है। उसे Processing Device कहते हैं। Processing Device Computer के अंदर होता है। इसे देखने के लिए Computer को खोलने की आवश्यकता होती है।

उदाहरण:-

  1. CPU (Central Processing Unit)
  2. GPU (Graphical Processing Unit)

4. Storage Device

Computer डेटा या सूचनाओं को Store करने के लिए जिस Device का उपयोग करता है। उसे Storage Device कहते हैं। आप लोग Computer में अपने Pictures और Documents आदि को रखते होंगे। वास्तव में वह आपके Computer के किसी Storage Device में Store होता है। जिसे Computer Software की सहायता से Computer में देख पाते हैं।

उदाहरण:-

  1. RAM
  2. ROM
  3. Hard Disk Drive

हार्डवेयर और सॉफ्टवेयर में अंतर (Hardware VS Software in Hindi)

अब तक मैंने Hardware और Software दोनो के बारे में बताया है। हमने एक Post में Software की जानकारी दी थी। इस Post में Hardware की जानकारी दी है। दोनो Post में मैंने बताया है कि Hardware और Software दोनो Computer के लिए जरूरी होता है। दोनो के होने से ही एक उपकरण Computer कहलाता है। Computer में इन दोनो भागों का कार्य अलग और महत्वपूर्ण होता है। जिसके कारण इन दोनो के बीच बहुत सारे अंतर होता है। लेकिन क्या आप Hardware और Software के बीच के अंतर को जानते हैं। अगर नहीं तो यहाँ हमने Hardware और Software में अंतर बताया है।

  1. Hardware Computer का भौतिक भाग होता है। जो Computer की पूरी बनावट तैयार करता है। वहीं Software निर्देशों व प्रोग्रामों का समूह होता है। जो Computer को निर्देश देता है। इसे Programming Language में लिखा जाता है।
  2. Hardware को देख सकते हैं, छू सकते हैं और महसूस भी सकते हैं। क्योंकि यह Physical Part होता है। वहीं Software को देख नहीं सकते हैं, छू नहीं सकते हैं और महसूस भी नहीं कर सकते हैं। क्योंकि यह Computer में Stored प्रोग्राम होता है।
  3. Computer Hardware बहुत सारे Computer Components से मिलकर बने होते हैं। वहीं Software का निर्देश Programming Language से लिखा जाता है।
  4. अगर Hardware को Computer का शरीर माना जाय। तब Software को Computer की आत्मा मानी जाएगी।
  5. Hardware को कार्य करने के लिए Software की आवश्यकता होती है। जबकि Software पूरी Computer System को संचालित करता है।
  6. Hardware खराब होने पर इसे ठीक या Replace किया जाता है। वहीं Software खराब (Currupt) होने पर इसकी Backup Copy को Reinstall कर के ठीक किया जाता है।
  7. Hardware को Computer Viruses से खतरा नहीं होता है। लेकिन Software को Computer Viruses से खतरा होता है।
  8. Hardware के बिना Computer का अस्तित्व ही नहीं है। इसलिए कल्पना भी नहीं किया जा सकता है। वहीं Software के बिना Computer सुचारू रूप से कार्य नहीं करता है। क्योंकि इसी में Computer को सुचारू रूप से चलने के लिए निर्देश होता है।
  9. Hardware को नेटवर्क (जैसे; इंटरनेट) में शेयर नहीं किया जा सकता है। जबकि Software को नेटवर्क (जैसे; इंटरनेट) में शेयर किया जाता है।
  10. Hardware का सबसे अच्छा उदाहरण Monitor, Keyboard, Mouse, Printer, Speaker, Motherboard, CPU इत्यादि है। वहीं Software का सबसे अच्छा उदाहरण Excel, PowerPoint, Chrome Browser, Windows, Photoshop इत्यादि है।

Conclusion – What is Computer Hardware in Hindi

इस लेख में मैंने कंप्यूटर हार्डवेयर की पूरी जानकारी बताया है। जिसमें आप जानेंगे की Hardware क्या है, Hardware का कार्य, Hardware के सभी Parts, Hardware के भाग, Hardware के प्रकार एवं Hardware और Software में अंतर क्या होता है। उम्मीद करते हैं कि यह कंप्यूटर हार्डवेयर की जानकारी आपको पसंद आया होगा। अगर फिर भी आपके मन में कंप्यूटर हार्डवेयर से संबंधित कोई सवाल है। तब कमेंट कर के पूछ सकते हैं।

कंप्यूटर संबंधित अन्य लेख

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to top
error: Content is protected !!