Cloud Computing क्या है? इसके प्रकार और उपयोग

इस Post में Cloud Computing क्या है? इसके प्रकार, विशेषता और लाभ आदि बताया गया है। चूँकि आज Cloud Computing का उपयोग बढ़ता ही जा रहा है। इसलिए इस Post में Cloud Computing की जानकारी शेयर किया जा रहा है। इसका नाम आपने पहले कभी जरुर सुना होगा। क्योंकि आजकल यह अक्सर सुनने को मिलता है। हो सकता है आपने भी जाने अनजाने में Cloud Computing का इस्तेमाल किया होगा।

ऐसे में इसकी जानकारी होना बिलकुल जरुरी है। Cloud Computing को सामान्यतः एक Storage समझ सकते हैं। जिस तरह कंप्यूटर का Hard Drive होता है। लेकिन कंप्यूटर के Hard Drive के Data को उसी कंप्यूटर से देख या Access कर सकते हैं। यानी यदि आपका कंप्यूटर आपके घर पर है और आप घर से बाहर हैं। तब उसमें Stored Data को Access नहीं कर सकते हैं। लेकिन Cloud Computing के साथ ऐसा नहीं होता है।

Cloud Computing में Stored Data को कहीं से भी, कभी भी और किसी भी कंप्यूटर से Access कर सकते हैं। इसमें Data को जोड़ भी सकते हैं। लेकिन क्या आपको पता है कि Cloud Computing क्या है और यह काम कैसे करता है। अगर आप ये सब नहीं जानते हैं। तब इस Post को पढ़कर इसकी पूरी जानकारी प्राप्त कर सकते हैं। तो चलिए जानते हैं कि Cloud Computing क्या है?

Cloud Computing क्या है? (What is Cloud Computing in Hindi)

यदि आप इंटरनेट का इस्तेमाल करते हैं। इंटरनेट के बहुत सारे Features का फायदा उठा रहे हैं। तब आपने जाने अंजाने ही Cloud Computing का उपयोग कर लिया है। Cloud Computing एक ऐसा तकनीक है। जिसमें इंटरनेट के माध्यम से विभिन्न प्रकार के Computing Services को प्रदान किया जाता है। जिसमें कोई Computing Resource हो सकता है या फिर एक साधारण Storage Space भी हो सकती है।

Cloud Computing में Computing संबंधित Services को इंटरनेट के माध्यम से प्रदान किया जाता है। जिसे Access भी इंटरनेट के माध्यम से ही किया जाता है। इसके Services को User Demand के अनुसार प्रदान किया जाता है। यदि इसे साधारण शब्दों में समझाएं। तब यह एक Cloud (एक सर्वर ही होता है) होता है। जिसमें Storage की सुविधा प्राप्त होती है। इस Storage में User अपना Data Store कर सकता है। जिसे दुनिया के किसी भी कोने से Access किया जा सकता है। बशर्ते वहाँ इंटरनेट कनेक्शन होना चाहिए।

वहीं Local Storage Device में Data Store करने पर Data के लिए उस Storage Device पर निर्भर रहना होता है। लेकिन Cloud Computing के साथ ऐसा नहीं होता है। इसलिए इसे Local Storage Device से बेहतर माना जाता है। इसे Cloud Storage भी कह सकते हैं। हालांकि Cloud Computing सिर्फ Data Storage तक ही सीमित नहीं है। जिसके कारण इसे आधुनिक युग के लिए भी बेहतर विकल्प के रूप में देखा जा रहा है।

Cloud Computing के प्रकार (Types of Cloud Computing in Hindi)

Cloud Computing चार प्रकार के होते हैं। जिसे User अपने आवश्यकता के अनुसार खरीद सकते हैं। यहाँ आप Cloud Computing के प्रकार को विस्तार से समझेंगे।

1. Public Cloud

यह प्रत्येक व्यक्ति के लिए उपलब्ध होता है। जिसे Internet के माध्यम से Access किया जा सकता है। इस तरह के Cloud पर किसी User का नियंत्रण नहीं होता है। इस Cloud के लिए भुगतान इसके उपयोग के अनुसार किया जाता है। हालांकि यह कई बार Limitations के साथ Free या फिर इसके लिए बहुत कम भुगतान करना होता है। लेकिन यह भी उच्च विश्वसनीयता, कम लागत और शुन्य रखरखाव के साथ होता है।

2. Private Cloud

जैसा कि इसके नाम से ही पता चलता है कि यह Private Type का Cloud है। जिसका नियंत्रण या संचालन किसी एक व्यक्ति या संगठन के पास होता है। जिसे Access भी यही लोग कर सकते हैं। इसका ज्यादातर इस्तेमाल Business के लिए किया जाता है। जिसमें अपने Data को Secure और Private तरीके से रखा जाता है। यह High Security, Customization और Flexibility के साथ आता है। हालांकि यह Public Cloud से अधिक महंगा होता है

3. Community Cloud

इस तरह के Cloud का इस्तेमाल Community या Organisations करता है। जिसका नियंत्रण भी इसी Community या Organisation को दिया जाता है। जिसे Access भी इसी Community के लोग या Organisation के सदस्य कर सकते हैं। इसके बाहरी लोग यहाँ के Data को Access नहीं कर सकते हैं।

4. Hybrid Cloud

Hybrid Cloud Public और Private दोनो तरह के Cloud का मिला जुला होता है। यानी यहाँ Public Cloud और Private Cloud दोनो के Services को प्राप्त कर सकते हैं। जिसके कारण कुछ Data को Private तौर पर और कुछ Data को Public तौर पर भी रख सकते हैं।

Cloud Computing के Services (Cloud Computing Services in Hindi)

Cloud Computing के Services के आधार पर इनके Module निम्नलिखित है।

1. Software as a Service (SaaS)

SaaS का पूरा नाम Software as a Service होता है। Cloud Computing के इस Module में सिर्फ Software मिलता है। जिसका Control User के पास होता है। जिसे इंटरनेट के द्वारा Access किया जाता है। इसके कारण किसी Software को Use करने के लिए Device में Install करने का जरुरत नहीं होगा। जैसे; वेब आधारित ईमेल, ऑफिस सॉफ्टवेयर, ऑनलाइन गेम आदि यह सभी SaaS के उदाहरण हैं|

2. Platform as a Service (PaaS)

PaaS का पूरा नाम Platform as a Service होता है। इस Cloud Computing Module में एक Platform मिलता है। जहाँ Developing संबंधित कार्य किया जा सके। जैसे; Application Develop करना। यह Platform Application Development को भी Support करता है। यह Platform Software Developer या Web Developer के लिए फायदेमंद होता है। क्योंकि इस Platform में Developer को Development संबंधित सभी Tools मिल जाता है। इसे समय समय पर Update और इसमें नये Features को Add भी किया जाता है।

3. Infrastructure as a Service (IaaS)

IaaS का पूरा नाम Infrastructure as a Service होता है। यह Cloud Computing Module, Computing के Complete Package के साथ आता है। इस Module के द्वारा इंटरनेट के जरिए Computer Resources को Virtual तरीके से Access किया जा सकता है। जैसे; Virtual Server Space, Network Connection और IP Address इत्यादि को प्रदान करता है। यह Business में भी काफी फायदेमंद है। खासकर के छोटे पैमाने के Business के लिए। क्योंकि इसमें Infrastructure लागत कम होती है।

Cloud Computing का उपयोग (Use of Cloud Computing in Hindi)

इंटरनेट का उपयोग करने वाले व्यक्ति जाने अंजाने ही सही पर Cloud Computing का उपयोग जरूर किए होते हैं। आज Cloud Computing का उपयोग बहुत अधिक बढ़ गया है। इसी तरह इसका उपयोग दिन प्रतिदिन बढ़ता ही जाएगा। यहाँ हमने Cloud Computing के कुछ Common और Popular उपयोग को बताया है।

  1. एक समान्य व्यक्ति Cloud Computing का उपयोग अपने Confidential और Non-Confidential Data को Store, Manage और Share करने के लिए करते हैं। जैसे; Google Drive और Dropbox
  2. Cloud Computing का उपयोग Website को Host करने में भी किया जाता है। इससे Website के Owner Hosting Maintain करने से बच जाते हैं।
  3. Cloud Computing का उपयोग Software Development और Testing में किया जाता है।
  4. Cloud Computing का उपयोग अपने Data का Backup रखने के लिए किया जाता है।
  5. Cloud Computing का उपयोग Cloud Database के लिए किया जाता है।

Cloud Computing का उदाहरण (Example of Cloud Computing in Hindi)

Cloud Computing का निम्नलिखित उदाहरण है। इन्हें आपने कभी Use भी किया होगा। क्योंकि ये Cloud Computing का सिर्फ Poplar Example है।

  1. Google Drive
  2. Dropbox
  3. Facebook
  4. Gmail
  5. Picasa
  6. Flickr
  7. Hubspot
  8. Salesforce
  9. Google Docs
  10. Adobe Marketing Cloud
  11. Amazon Web Services (AWS)
  12. SlideRocket
  13. IBM Cloud
  14. YouTube
  15. Microsoft Azure
  16. Yandex Media Fire
  17. Mega
  18. VMWare
  19. Yahoo
  20. Reddif

Cloud Computing के लाभ (Advantage of Cloud Computing in Hindi)

Cloud Computing के लाभ निम्नलिखित है।

  1. Cloud Computing Business में फायदेमंद होता है। खासकर के छोटे Business लिए ज्यादा अच्छा होता है। क्योंकि इसका उपभोग कम लागत में किया जा सकता है।
  2. Cloud Computing को Use करना भी आसान होता है। एक समान्य Internet User इसे Use कर सकते हैं। क्योंकि इसे वेब ब्राउजर की सहायता से Access किया जाता है।
  3. Cloud Computing के Hardware और Software को Maintain करने का जरूरत नहीं होता है। ये सब Cloud Computing Providers द्वारा Maintain होता है।
  4. Cloud Computing की Speed अच्छी होती है। इसे इंटरनेट कनेक्शन के जरिए कहीं से भी Access कर सकते हैं।
  5. Cloud Computing का उपयोग इंटरनेट के जरिए Computer, Smartphone और Tablet आदि के द्वारा कर सकते हैं।
  6. Cloud Computing का Data सुरक्षित और Secure होता है।
  7. Cloud Computing के क्षमता को कम ज्यादा करने का सुविधा प्राप्त होता है।
  8. Cloud Computing के कारण समय की बचत होती है।
  9. Cloud Computing में Backup की सुविधा प्राप्त होती है।

Cloud Computing के हानि (Disadvantage of Cloud Computing in Hindi)

Cloud Computing का नुकसान निम्न है।

  1. जहाँ इंटरनेट कनेक्शन की पहुँच नहीं है। वहाँ Cloud Computing का इस्तेमाल नहीं किया जा सकता है और ना ही वहाँ Cloud Computing के Data को प्राप्त कर सकते हैं। ऐसा कहीं भी हो सकता है। जब Internet Connection ठप पड़ जाता है। ऐसी स्थिति में Cloud Computing Business में नुकसान पहुंचाता है। लेकिन Pendrive में Data को कहीं भी ले जा सकते हैं और Use भी कर सकते हैं।
  2. Cloud Computing का उपयोग करते वक्त आप अपने Data को किसी Third Parties को सौंप रहे हैं। जिसमें आपका Confidential Data भी हो सकता है। जिसे Cloud Computing कंपनी Misuse भी कर सकती है।
  3. Cloud Computing के Data को Unknown Person (Hacker) से खतरा होता है। हालांकि इससे बचने के लिए इसमें Password Authentication और Data Encryption जैसे Security Layer उपलब्ध होती है।

जरुर पढ़ें:-

  1. Computer क्या है?
  2. Software क्या है?
  3. Hardware क्या है?
  4. Database क्या है?
  5. Hacking क्या है?
  6. JavaScript क्या है?

आपने क्या सीखा?

इस Post में हमने Cloud Computing की पूरी जानकारी देने की कोशिश की है। जिसमें आपने जाना की Cloud Computing क्या है, Cloud Computing के प्रकार, Cloud Computing Service, Cloud Computing का उपयोग, Cloud Computing का उदाहरण और इसके फायदे और नुकसान क्या होते हैं। हम उम्मीद करते हैं कि यह Post आपको पसंद आया होगा और कुछ नया जानने को मिला होगा। यदि आप IT Sector का एक Student हैं। तब आपको इस Post से काफी कुछ फायदा मिल गया होगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to top